नदियों के राजा हैं निषाद, उनका हक़ दिलाकर रहेंगे- प्रियंका गाँधी


प्रयागराज से 19 दिन पहले कांग्रेस की नदी अधिकार यात्रा 418 किलोमीटर की दूरी तय करके शुक्रवार शाम बलिया पहुँच गयी। कांग्रेस ने प्रयागराज में निषादों की नावें तोड़े जाने की प्रशासनिक कार्रवाई को सरकार के ख़िलाफ़ बड़ा मुद्दा बनाते हुए इस पदयात्रा का आयोजन किया है। ख़ुद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी इस यात्रा की शुरूआत करने प्रयागराज गयी थीं। आज उन्होंने इस सिलसिले में एक के बाद एक, कई ट्वीट करके कहा की निषाद नदियों के राजा और रक्षक हैं। नदी के संसाधनों पर उनका हक़ है।


मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


उत्तर प्रदेश में अपना खोया जनाधार वापस पाने के लिए कांग्रेस जी जान से जुटी है। इसी क्रम में कांग्रेस ने निषाद समाज के सवालों पर ‘नदी अधिकार यात्रा’ निकाली है। प्रयागराज से 19 दिन पहले शुरू हुई नदी अधिकार यात्रा 418 किलोमीटर की दूरी तय करके शुक्रवार शाम बलिया पहुँच गयी। कांग्रेस ने प्रयागराज में निषादों की नावें तोड़े जाने की प्रशासनिक कार्रवाई को सरकार के ख़िलाफ़ बड़ा मुद्दा बनाते हुए इस पदयात्रा का आयोजन किया है। ख़ुद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी इस यात्रा की शुरूआत करने प्रयागराज गयी थीं।

प्रियंका गांधी ने आज कांग्रेस की नदी अधिकार यात्रा को लेकर एक के बाद एक, कई ट्वीट करके कहा की निषाद नदियों के राजा और रक्षक हैं। नदी के संसाधनों पर उनका हक़ है। उन्होंने कहा कि यूपी कांग्रेस, पिछड़ा वर्ग विभाग की नदी अधिकार यात्रा 19 दिन से 418 किमी चलकर निषाद समाज के बीच जाकर उनके हक की आवाज उठा रही है। निषाद नदियों के राजा और रक्षक हैं। नदी के संसाधनों पर उनका हक है।

प्रियंका गांधी ने इस यात्रा की अगुवाई कर रहे देवेंद्र निषाद, कुँवर निषाद, वंदना निषाद को शुक्रिया कहते निषादों के हक़ में कांग्रेस के संघर्ष का संकल्प दोहराया। उन्होंने कहा कि गांव-गांव से एक ही आवाज उठ रही है कि उनकी सुख-दुख की साथी नदियों के संसाधनों बालू, मछली, नदी किनारे की जमीन इत्यादि के इस्तेमाल को बड़े पूजीपतियों-ठेकेदारों के चंगुल से निकालकर निषादों को इनके उपयोग का हक मिलना चाहिए। ये उनकी जीविका का सवाल है और हम निषाद समाज की जीविका के हक को दिलाने की लड़ाई पूरी प्रतिबद्धता से लड़ेंगे।

नदी अधिकार यात्रा शुक्रवार को बलिया जिले में प्रवेश कर चुकी है। यात्रा का आज 20 वां दिन है। शुक्रवार को बलिया के कोटवा नारायण पुर घाट पर निषाद समाज और बलिया कांग्रेस ने यात्रा का स्वागत किया। इसके पहले गाजीपुर के पलिया गांव में निषाद समाज के लोगों ने पदयात्रियों को बलिया के लिए विदा किया।

इस मौके पर कांग्रेस नेता व छत्तीसगढ़ के विधायक कुंवर सिंह निषाद ने कहा कि निषाद समाज पूरे प्रदेश में कांग्रेस के साथ है और मिलकर हक की लड़ाई लड़ी जाएगी। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी ने निषादों के लिए कई लाभकारी योजना चलाईं हैं।

कांग्रेस नेता वन्दना निषाद ने कहा कि बसवार की घटना योगी आदित्यनाथ की सरकार की ताबूत की आखिरी कील साबित होगी। वहीं कांग्रेस नेता देवेंद्र निषाद ने योगी सरकार से बसवार की घटना की न्यायिक जांच और दोषियों पर कार्यवाही की मांग की है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ द्वारा  प्रयागराज के बसवार गांव से 1 मार्च को नदी अधिकार यात्रा शुरू हुई। यह यात्रा बलिया के माझी घाट पर समाप्त होगी। बता दें कि प्रयागराज के बसवार में योगी आदित्यनाथ की पुलिस ने भयानक पुलिसिया उत्पीड़न किया था और लगभग दो दर्जन नावों को क्षतिग्रस्त किया था। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी पीड़ितों से मुलाकात करने प्रयागराज आयीं थीं। महासचिव ने पीड़ितों की आर्थिक मदद के साथ साथ उनके हर मुद्दे पर लड़ाई लड़ने की प्रतिबद्धता जाहिर की थी।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।