काँग्रेस चलायेगी हरिऔध स्मारक के लिए अभियान-अनिल यादव

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


निज़ामाबाद में मनायी गयी  ‘हरिऔध’ की जयंती 

 

यूपी में खोयी ज़मीन की वापसी के लिए बेचैन कांग्रेस की नज़र अब उपेक्षित साहित्याकरों पर भी पड़ी है। आज़मगढ़ का निज़ामाबाद हिंदी खड़ी बोली के पहले महाकाव्य प्रिय प्रवास के रचनाकार महाकवि अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’ की जन्मस्थली है। वहाँ न कोई स्मारक है और न उनके नाम पर कोई अन्य संस्थान। कांंग्रेस के प्रदेश संगठन मंत्री अनिल यादव ने आज वहाँ पहुँचकर मूर्ति पर माल्यार्ण किया और माँग की कि निज़ामाबाद में हरिऔध जी की स्मृति में संस्थानों का निर्माण होना चाहिए।

इस मौके पर कांग्रेस प्रदेश संगठन मंत्री अनिल यादव ने कहा कि खड़ी बोली में पहला महाकाव्य प्रिय प्रवास लिखने वाली विभूति को वे नमन करते हैं। अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध के नाम से निज़ामाबाद जाना जाता है लेकिन अफसोस की बात है कि स्थानीय विधायक और सांसद उनके प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित करना तक मुनासिब नहीं समझते।

प्रदेश संगठन मंत्री ने कहा कि पिछले दिनों वे हरिऔध जी के घर पर गए थे। जहां सिर्फ ढहती हुई दीवारें हैं। घास फूस का अंबार लगा हुआ है। स्थानीय प्रशासन सो रहा है। विधायक और सांसद के पास वक्त ही नहीं है कि इन महाविभूति की खबर ले सकें। संगठन मंत्री ने कहा कि जल्द ही एक बड़ा अभियान चलाया जाएगा ताकि हरिऔध जी के नाम से एक स्मारक और पुस्तकालय निज़ामाबाद में तत्काल प्रभाव से बने। साथ ही साथ निज़ामाबाद में हरिऔध जी के नाम पर महिला महाविद्यालय, महिला इंटर कालेज और क्षेत्र के युवाओं के लिए मिनी स्टेडियम स्थापित करने की माँग की।

जिला अध्यक्ष प्रवीण सिंह ने कहा कि आज़मगढ़ की विभूतियों ने विश्वपटल पर ख्याति अर्जित की है। लेकिन सपा, बसपा और भाजपा ने हमारे पुरखों को भुला दिया। सड़कों पर संघर्ष करके विरासत को सँवारा जाएगा। इस मौके पर राष्ट्रीय पहलवान अमरजीत यादव ने कहा कि राजनीतिक सामाजिक दायरे में इतिहास को याद रखना बहुत जरूरी होता है। जो अपने महान पुरखों को भूल जाते हैं उन्हें राजनीति करने का हक़ नहीं है और ना ही सामाजिक जीवन में उनका कोई महत्व है।

इस मौके पर मनीष यादव, आदित्य सिंह, रेहाना खातून, अमर बहादुर यादव, अमित कुमार सिंह, विशाल दुबे, मनोज पांडेय, मनोज कुमार पांडे, विजय कुमार चौहान, डॉ. शहनवाज जी, घनश्याम सोनकर ने भी हरिऔध की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित किया।

 

 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।