घरेलू कामगार दिवसर पर जारी हुआ घोषणापत्र, सराकर से तत्काल पाँच हज़ार देने की माँग

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


घरेलू कामगारों की बदलती दुनिया; कोरोना के साथ और कोरोना के बाद

 

16 जून को दुनिया भर में घरेलू कामगारों द्वारा मनाए जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय घरेलू कामगार दिवस के एक दिन बाद, भारत के राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) ने कोविद -19 के घरेलू कामगारों को नौकरी देने के मद्देनजर शहरी मलिन बस्तियों के लिए एक एडवाइजरी जारी की जो कहती है नियोक्ताओं को घरेलु कामगारों को दो हफ्ते का छुट्टी देनी चाहिए ताकि नियोका और घरेलु कामगर दोनों ही कोरोना वायरस के संक्रमण से बचें। यह एडवाइजरी कोविद -19 के मद्देनजर झुग्गी झोपडी क्लस्टर / मलिन बस्तियों के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन की सलाह के मद्देनजर जारी किया गया था।

अनौपचारिक प्रवासी श्रमिकों में, अंदाज़न 50 लाख घरेलु कामगार महिलाएं है जिन पर  ज्यादातर शोषण, हिंसा, उत्पीड़न और जबरन श्रम का खतरा बना रहता है। सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित करने वाले क़ानूनों के अभाव की वजह से,  घरेलू कामगार उन लोगों में से हैं, जो COVID-19 और इसकी प्रेरित स्थितियों के कारण ज्यादा दिक्कतों का सामना कर रहे हैं। अपने परिवार के एकमात्र कमाने वाले सदस्यों के रूप में और पहले से ही आर्थिक और सामाजिक असुरक्षा के साथ जूझने की वजह से, महामारी और अचानक लॉकडाउन का घरेलू कामगारों और उसके परिवार पर गंभीर  प्रभाव पड़ा है। एडवाइजरी  जो घरेलू कामगारों को अगले दो सप्ताह के लिए काम से दूर रहने के लिए कहता है, वह दिखाता है की इस समय सर्वाइवल एक एहम  मुद्दा है।

60 से अधिक घरेलू कामगारों ने 16 जून को अंतर्राष्ट्रीय घरेलू कामगार दिवस मानते हुए राष्ट्रीय स्तर के वर्चुअल राउंड टेबल में शिरकत की।  मकसद था कि कैसे कोरोना काल या  उसके बाद भी घरेलू कामगारों के काम की दुनिया को फिर संगठित किया जा सके। 

यह चर्चा मार्था फैरेल फाउंडेशन, नारी शक्ति मंच, राष्ट्रीय घरेलू कामगार आंदोलन, एसईडब्ल्यूए भारत, पीपुल्स मूवमेंट का राष्ट्रीय गठबंधन, एशिया में भागीदारी अनुसंधान, जागोरी , समर्थन, घरेलू कामगार नेटवर्क, घरेलू वर्कर्स फोरम चेतनालय, दिल्ली घारेलू कामगार यूनियन, शहरी घरेलू कामगार यूनियन, नेशनल प्लेटफॉर्म फॉर डोमेस्टिक वर्कर्स (एनपीडीडब्ल्यू) और घरेलू कामगार पंचायत संगम द्वारा आयोजित की गयी।

घरेलू कामगार एक्शन नेटवर्क (मार्था फैरेल फाउंडेशन की एक पहल) के नेतृत्व में कोविड-19 के प्रभाव पर दिल्ली और हरियाणा में घरेलू कामगारों ने पाया कि बड़ी संख्या में घरेलू कामगारों को मार्च, अप्रैल और मई में उनका वेतन नहीं मिला। । यह पाया गया कि कई घरेलू कामगारों ने अपनी नौकरी खो दी, लॉकडाउन की शुरुआत में, कई को अपने परिवार को छोड़कर नियोक्ता के घर में रहने के लिए मजबूर किया जा रहा था और जो लोग घर छोड़कर वापस जाना चाहते थे, वह पर्याप्त संसाधन न होने की वजह से मजबूर थे । इन्ही दिल्ली और हरियाणा की घरेलु कामगार महिलाओं ने मिलकर एक घोषणापत्र की रूपरेखा तैयार की, जिसमें कोविड की चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए सुरक्षित और गरिमामय कार्य के लिए शर्तों को परिभाषित किया गया। 

राउड टेबल पर घरेलू कामगारों ने इन और अन्य चुनौतियों पर विचार-विमर्श किया।

घरेलु कामगार महिला सुरेखा (बदला हुआ नाम) ने बताया कि कैसे वह मुंबई में अपने नियोक्ताओं के चंगुल से बचने में कामयाब रही – “लॉकडाउन की घोषणा होने पर वे मुझे (घर के लिए) जाने से मना कर रहे थे; उन्होंने मेरा मोबाइल फोन और आधार कार्ड ज़ब्त कर लिया था, और मुझे डराने-धमकाने की भी कोशिश की थी। सौभाग्य से, मेरे पास एक और फोन था जिसके बारे में उन्हें नहीं पता था … जिससे मैं मदद लेने में सक्षम रही , जिसने तब घर लौटने में सहायता की थी। “

भंवरी जो दिल्ली से हैं उन्होंने कहा की “उनकी कई बहनें काम से बाहर थीं और उनके नियोक्ता (दिल्ली में संपन्न घरों से संबंधित) उन्हें पूरी मजदूरी देने से इनकार कर रहे थे। उन्होंने घरेलू कामगारों द्वारा काम पर लौट रही एक और गंभीर समस्या पर भी प्रकाश डालते हुए आज कहा, “तेल की बढ़ती कीमतों के साथ, घरेलू कामगारों को भी हमारे रास्तों में सस्ती सार्वजनिक परिवहन की कमी से जूझने पड़ रहा है।”

हैदराबाद से, ज्योतिप्रिया (बदला हुआ नाम) ने घरेलू कामगारों के लिए एक और दबाव वाले मुद्दे पर प्रकाश डाला- “तेलंगाना जैसे कुछ राज्यों ने काम पर लौटने में सक्षम होने के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र (NoC) का उत्पादन करना अनिवार्य कर दिया है। लेकिन घरेलू कर्मचारी COVID परीक्षण के लिए भुगतान कैसे कर सकते हैं? इसकी कीमत कहीं 2000 रुपये है! अगर हमारे नियोक्ता इसकी मांग कर सकते हैं, तो क्या उन्हें हमें भी अपने ठीक स्वास्थ्य का प्रमाण  नहीं देना चाहिए ?”

साथ ही राउंड टेबल पर यह चर्चा भी की गई कि विदेश में जो भारतीय घरेलू कामगार हैं उनकी स्थिति भी बहुत खराब है। वे सड़कों पर दरिद्र, परेशान और चिंतित घूम रहे हैं क्योंकि उन्हें कोरोना की शुरुआत में अपने नियोक्ताओं का घर छोड़ने के लिए कहा गया था। और टिकट का पैसा ना होने की वजह से वह वापस भारत आने में असमर्थ हैं। घरेलू कामगारों ने पूछताछ की और विदेशों में फंसे घरेलू कामगारों की सुरक्षित वापसी को प्राथमिकता देने में सरकार का ध्यान आकर्षित करने की माँग की गयी।

इस मौके पर घरेलू श्रमिकों द्वारा तैयार की गई मांगों का एक घोषणापत्र साझा किया गया। सभी उपस्थित लोगों द्वारा इसका समर्थन किया। घोषणापत्र में कहा गया – 

  • घरेलू कामगारों का वेतनमान तय किया जाये और यह सुनिश्चित किया जाये कि उन्हें न्यूनतम मजदूरी प्राप्त हो। कोरोना को देखते हुए हर घरेलू कामगार को सरकार तत्काल पांच हजार रुपेय की सहायता दे। 
  • रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन इस दिशा में पहल करें और अपनी सोसायटी में रहने वालों को घरेलू कामगारों का शेष भुगतान देने का निर्देश दें। 
  • राज्य सरकार नियोक्ता, घरेलू कामगार और एजेंसियों के पंजीकरण की व्यवस्था करें। 
  • नियोक्ताओं से उम्मीद की जाती है कि वे घरेलू कामगारों से गरिमापूर्ण व्यवहार करेंगे न कि उन्हें कोरोना कैरियर कि तरह देखेंगे 
  • घरेलू कामगारों को कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न झेलना पड़े तो उन्हें न्याय दिलाने के लिए कोई तंत्र बनाया जाये। 
  • लोगों को घरेलू कामगारों को उसी तरह पेशेवर और सुरक्षित माहौल देना चाहिए जैसे वे अपने कार्यस्थल में उम्मीद करते हैं।
  • घरेलू कामगारों के काम को उचित मान्यता दी जानी चाहिए।
  • घरेलू कामगारों को कार्यस्थल पर उत्पीड़न और नौकरी की असुरक्षा से  बचाने के लिए नियामक संरचना और निवारण तंत्र बने। 
  • घरेलू कामगारों को श्रम कानूनों और रोजगानर नियमों के दायरे में लाया जाये। 
  • विदेशों में फंसे कामगारों को वापस भारत लाने के लिए भारतीय दूतावास पहल करें
  • घरेलू कामगारों के लिए निर्धारित वैश्विक मानकों को लागू किया जाये। 


परिचर्चा में अंतर्राष्ट्रीय मजदूर संगठन (ILO), अंतर्राष्ट्रीय घरेलू कामगार महासंघ (IDWF), और राष्ट्रीय घरेलू कामगार आंदोलन (NDWM) के अधिकारी और विशेषज्ञ भी शामिल हुए और घरेलू कामगारों की ओर से पेश की गयी मुश्किलों को उचित मानते हुए इस पहल की सराहना की। 



 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।