केंद्र ने कोयला संकट के लिए राज्यों को ठहराया ज़िम्मेदार! कहा- राज्यों ने कहा था कृपा करें, कोयला मत भेजें!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


केंद्र सरकार, जिसने अब तक दावा किया है कि देश में कोयले की कोई कमी नहीं है, ने मंगलवार को यू-टर्न लिया और कुछ राज्यों को मौजूदा संकट के लिए ज़िम्मेदार ठहराया। कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने बुधवार को कहा कि राज्यों को पहले ही कोयले का पर्याप्त स्टॉक रखने को कहा जा चुका है। साथ ही उन्होंने कोयला संकट के लिए कोयले की बढ़ी हुई कीमतों को भी ज़िम्मेदार ठहराया।

कोयला मंत्री ने राज्यों पर लगाया आरोप, कहा – नही लिया कोयला…

कोयला मंत्री ने कहा कि कोयला मंत्रालय और कोल इंडिया देश की जरूरतों को पूरा करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है। केंद्रीय कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि हमने सोमवार को 19.40 लाख टन कोयले की आपूर्ति की, यह घरेलू कोयले की अब तक की सबसे अधिक आपूर्ति है। जहां तक ​​राज्यों की बात है तो इस साल जून तक हमने उनसे कोयले का स्टॉक बढ़ाने का अनुरोध किया था, कुछ तो यहां तक ​​कहने लगे कि ‘कृपया एक एहसान करें, अब कोयला मत भेजें।

अंतरराष्ट्रीय कीमतें 60 रुपये प्रति टन से बढ़कर 190 रुपये प्रति टन…

समाचार एजेंसी एएनआई की एक रिपोर्ट के अनुसार, प्रह्लाद जोशी ने कहा कि बारिश के कारण कोयले की कमी हो गई, जिसके कारण अंतरराष्ट्रीय कीमतें 60 रुपये प्रति टन से बढ़कर 190 रुपये प्रति टन हो गईं। इसके कारण, आयातित कोयला बिजली संयंत्र या तो 15-20 दिनों के लिए बंद रहे हैं या बहुत कम उत्पादन कर रहे हैं, इससे घरेलू कोयले पर दबाव बढ़ गया है।” उन्होंने कहा, “हम कोयले की आपूर्ति को तेज़ गति से बढ़ाना जारी रखेंगे। हमें उम्मीद है कि मानसून खत्म होने के बाद कोयले की आपूर्ति में तेज़ी से सुधार होगा।” .उन्होंने कहा कि “सरकार यह सुनिश्चित कर रही है कि कोयले की कमी नहीं हो।”

राज्यों की मदद करना केंद्र सरकार की ज़िम्मेदारी: गहलोत

राजस्थान में भी कोयला कम होने के कारण बिजली संकट मंडरा रहा है। कोयला संकट पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि ”राज्यों की मदद करना केंद्र सरकार की ज़िम्मेदारी है। यह तो सभी जानते हैं कि कोयले की कमी है, और राज्य परेशान हैं.”


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।