संसद के भीतर और बाहर लगे सीएए,एनआरसी और एनपीआर के विरोध में नारे

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


नागरिकता संशोधन कानून, राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर और एनपीआर के विरोध में सोमवार को राज्यसभा में शुरू हुआ हंगामा आज भी जारी है. विपक्ष के सांसद आज भी सदन में इनका विरोध कर रहे हैं.

जामिया नगर और शाहीन बाग़ में हुए गोलीकांड के खिलाफ भी विपक्ष के सासंदों ने ‘गोली चलाना बंद करो’ के नारे लगाये.

वहीं संसद के बाहर भी विपक्षी दलों ने सांसदों ने सीएए, एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ जमकर नारेबाजी की.

बता दें कि लोकसभा में सोमवार को भाजपा नेता अनुराग ठाकुर और परवेश वर्मा की विवादास्पद टिप्पणी को लेकर नारेबाजी की गई, इसके साथ ही शाहीन बाग में चल रहे सीएए के विरोध को भी प्रमुखता से उठाया गया. मोशन ऑफ थैंक्स में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद देने उठे परवेश वर्मा का विपक्ष ने जमकर विरोध किया और लोकसभा से वॉकआउट कर दिया.

बजट सत्र का मंगलवार को चौथा दिन है. संसद में विपक्ष ने एक बार फिर सीएए और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन किया. भाजपा नेता और गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने पहली बार एनआरसी पर संसद में बयान दिया. उन्होंने लोकसभा में कहा कि सरकार ने अभी तक एनआरसी राष्ट्रीय स्तर पर लागू करने के बारे में कोई फैसला नहीं लिया है.

लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने महात्मा गांधी को गाली देने वालों को ‘रावण का औलाद’ बताया है. संसद सत्र के चौथे दिन अधीर रंजन चौधरी ने लोकसभा में कहा है कि ये लोग राम के पुजारी का अपमान कर रहे हैं. दरअसल, अधीर रंजन चौधरी का यह बयान उस संदर्भ में आया है, जिसमें सोमवार को बीजेपी सासंद अनंत हेगड़े ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के नेतृत्व वाले स्वतंत्रता आंदोलन को ‘ड्रामा’ बताया था.

लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा, ‘आज ये महात्मा गांधी को गाली देते हैं. ये रावण के औलाद हैं. राम के पुजारी का ये अपमान कर रहे हैं.’

अनंत हेगड़े ने पिछले दिनों बेंगलुरू के एक कार्यक्रम में कथित तौर पर दावा किया कि आजादी की पूरी लड़ाई अंग्रेजों की सहमति एवं सहयोग से लड़ी गई थी और महात्मा गांधी के नेतृत्व वाला स्वतंत्रता आंदोलन एक ‘नाटक’ था.


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।