मोदी सरकार की कश्मीर नीति की आलोचना करने वाली ब्रिटिश MP को एयरपोर्ट से लौटाया!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


मोदी सरकार की कश्मीर नीति की आलोचना करने वाली ब्रिटेन की लेबर पार्टी की सांसद डेबी अब्राह्म्स को सोमवार को इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरने के बाद देश में प्रवेश करने से रोक दिया. फिर वहीं से उन्हें वापस दुबई भेज दिया गया. वह दो दिन की यात्रा के लिए भारत पहुंची थीं.

डेबी अब्राह्म्स ने एक न्यूज़ एजेंसी को बताया कि “मैंने यह जानने की काफी कोशिश की कि आखिर मेरा वीजा अस्वीकृत क्यों हुआ और फिर मुझे ‘वीजा ऑन अराइवल’ भी मिल सकता था, जबकि वह भी नहीं दिया गया. जो अधिकारी मेरे इस वीजा को रद्द किया उसे भी इसके पीछे का कारण नहीं पता था और उसने इसके लिए माफी भी मांगी। अब मैं यहां से वापस जाने का इंतजार कर रही हूं जब तक कि भारत सरकार का हृदय परिवर्तन न हो जाए. मैं यह कहना चाहती हूं कि मेरे साथ यहां पर अपराधियों की तरह व्यवहार हुआ. मुझे उम्मीद है कि वह इस दौरे के दौरान मेरे परिवार और दोस्तों से मिलने का अवसर देंगे.”

वहीं, समाचार एजेंसी एएनआइ ने गृह मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से कहा है कि, डेबी अब्राहम्स का वीजा निरस्त कर दिया गया था और इसकी सूचना उन्हें समय पर दे दी गई थी. इसलिए दिल्ली हवाईअड्डा पहुँचने पर उन्हें रोका गया था.

ब्रिटिश सांसद डेबी अब्राहम्स का वीजा अक्टूबर 2020 तक वैध था, ब्रिटिश सांसद ने कहा, ‘हर किसी की तरह मैंने भी ई-वीज़ा के साथ डॉक्यूमेंट दिखाए, लेकिन एयरपोर्ट अथॉरिटी ने मना कर दिया. मुझे बताया गया कि मेरा वीजा कैंसिल हो गया है और वो मेरा पासपोर्ट लेकर कुछ देर के लिए चले गए.’

बता दें कि, पिछले साल 5 अगस्त को कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने को लेकर अब्राहम्स भारत सरकार की आलोचना कीं थी. कश्मीर से विशेष दर्जा वापस लेने के बाद अब्राहम्स ने ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग के पत्र लिखकर कहा था कि सरकार का यह कदम कश्मीर के लोगों के साथ धोखा है.अब्राहम्स ब्रिटिश संसद में कश्मीर मुद्दे को लेकर गठित संसदीय समूह की अध्यक्षता भी कर चुकी हैं.संसद से अनुच्छेद 370 खत्म करने वाले विधेयक के पारित होने के तुरंत बाद इस ब्रिटिश सांसद ने ब्रिटेन में भारतीय उच्चायुक्त को पत्र लिखा था. इस पत्र में अब्राह्म्स ने भारत सरकार के इस कदम को ‘कश्मीर के लोगों के भरोसे के साथ विश्वासघात करार दिया था.


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।