घरेलू हिंसा की FIR के बाद घर में घुसने से रोके गये शहला रशीद के पिता ने लगाया टेरर फंडिंग का आरोप

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


आतंकियों से फंडिंग लेने को लेकर पिता के आरोप का  जेएनयू छात्रसंघ की पूर्व उपाध्यक्ष और जम्मू कश्मीर पीपुल्स कॉन्फ्रेंस की नेता शहल रशीद ने क़रारा जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि उनके पिता पत्नी की पिटाई करने वाले दुष्ट इंसान हैं। उनके खिलाफ़ घरेलू हिंसा को लेकर एफआईआर करायी गयी है और उनको घर में घुसने से रोक दिया गाय है जिसके बाद वे ऐसी हरक़त कर रहे हैं। उन्हें गंभीरता से नहीं लिया जाना चाहिए।शहला के पिता अब्दुल रशीद शोरा ने बेटी पर देश विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाया है। 

शहला रशीद ने ट्वीट करके विस्तार से पूरे मसले की जानकारी दी है। उन्होंन कहा कि उनके पिता लंबे समय से उनकी मां को शारीरिक और मानसिक तौर पर प्रताड़ित कर रहे हैं। शहला ने इस सिलसिले में अपने पिता के खिलाफ दर्ज कराई गई एफाईआर की कॉपी भी साझा की है। इतना ही नहीं शहला ने 2005 में एक वेलफेयर कमेटी के उस आदेश को भी साझा किया है, जिसमें शहला के पिता को अपने परिवार से अच्छा सलूक करने की हिदायत दी गई है। शहला का कहना है कि उनके पिता की हरकतों को परिवार को बाकी लोग अब और सहन करने को तैयार नहीं हैंइसलिए वे इस तरह के बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं। 

शहला रशीद ने ट्वीट करते हुए कहा किपरिवार में किसी की मौत हो गई है इसके बाद हम सभी दुखी हैं। मुझे यह भी दुख है कि मेरे पिता अब्दुल रशीद शोरा मेरी बहन, मां और मुझपर गलत आरोप लगा रहे हैं। हालांकि मामला परिवार का है तो भी मुझे गंभीर आरोपों का जवाब देना पड़ रहा है। वह लंबे समय से मेरी मां को प्रताड़ित करते रहे हैं इसीलिए मां ने उन्हें घऱ में नहीं घुसने दिया। यह सब उसी की प्रतिक्रिया है। मेरी मां ने सब बर्दाश्त किया। परिवार की इज्जत के लिए वह चुप रहीं। अब हमने शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना के खिलाफ बोलना शुरू कर दिया है। मैंने सितंबर में भी एक एफआईआर दर्ज करवाई थी। मैं सबसे निवेदन करती हूं कि उनको गंभीरता से लें।

 


शहला
के पिता ने आरोप लगाया था कि उनकी बेटी को तीन करोड़ की विदेशी फंडिंग मिली है। लिहाज़ा उसके एनजीओ और तमाम खातों की जांच होनी चाहिए। अब्दुल रशीद ने इस संबंध में जम्मू कश्मीर के डीजीपी को पत्र भी लिखा था। उन्होंने शहला रशीद से अपनी जान पर खतरे की भी आशंका जतायी है।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।