Home ख़बर विशाखा एजेंसी में नहीं होगा बॉक्साइट का खनन : जगन मोहन

विशाखा एजेंसी में नहीं होगा बॉक्साइट का खनन : जगन मोहन

SHARE

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने विशाखा एजेंसी में बाक्साइट खनन पर रोक लगा दी है. उनके इस फैसले का एनजीओ, सामाजिक और पर्यावरणवादी कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया है.पिछली टीडीपी सरकार द्वारा जारी किया गया शासनादेश रद्द किए जाने की घोषणा करते हुए उन्होंने कहा कि एजेंसी क्षेत्र में रहने वाले लोगों की आपत्ति के बावजूद वहां बॉक्साइट का खनन करना सही नहीं होगा.

मुख्यमंत्री ने बीते 25 जून को अमरावती में संपन्न हुए पुलिस और आईएएस अधिकारियों के सम्मेलन में निर्णय की घोषणा की. उन्होंने कहा कि क्षेत्र में वनवासियों के विरोध और आपत्ति के चलते खनन के आदेश को वापस लिया गया है. उन्होंने कहा कि बॉक्साइट का खनन नहीं होने से राज्य को किसी तरह का नुकसान नहीं है. इसलिए अब से एजेंसी में माइनिंग की कोई गुंजाइश ही नहीं.

सामाजिक और पर्यावरण कार्यकर्ता लम्बे समय से विशाखापत्तनम के पूर्वी घाटों में बॉक्साइट खनन योजना का विरोध करते हुए राज्य सरकार से खनिज विकास निगम द्वारा GO Ms.No.97 में बॉक्साइट अयस्क खनन के आदेश को रद्द करने की मांग कर रहे थे.

विशाखापत्तनम जिले की एजेंसी (आदिवासी क्षेत्र) में बॉक्साइट खनन का प्रस्ताव पहली बार उस समय लाया गया था जब उनके पिता, दिवंगत वाईएस राजशेखर रेड्डी, कांग्रेस के मुख्यमंत्री के रूप में सत्ता में थे.हालांकि, बाद की सरकारें कार्यकर्ताओं के विरोध के कारण प्रस्ताव को आगे नहीं बढ़ा पाईं.
पूर्व आईएएस अधिकारी और सामाजिक कार्यकर्ता ईएएस सरमा ने कहा कि नए मुख्यमंत्री द्वारा एजेंसी क्षेत्र में बॉक्साइट खनन पर पहले के ‘GO on bauxite mining’ को रद्द करने का निर्णय स्वागत योग्य है.

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.