CAA-NRC: जामिया के ‘रक्तरंजित इतवार’ और मेरठ में हिंसा पर जांच दल ने जारी की रिपोर्ट

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


दिल्ली के प्रेस क्लब में गुरुवार को नागरिकता संशाेधन कानून विरोधी आंदोलन में देखी गयी हिंसा और राजकीय दमन पर एक जांच दल ने रिपोर्ट जारी की। जामिया मिलिया में पुलिस के दमन पर जारी रिपोर्ट “ब्लडी सन्डे” (यानी रक्तरंजित इतवार) और मेरठ में हिंसा पर भी जारी रिपोर्ट के मौके पर दिल्ली के यूपी भवन के बाहर से करीब पचासेक प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया जो यूपी के हालात पर अपना विरोध जताने जुटे थे। 

दिल्ली से सटे मेरठ में 20 दिसंबर को नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन के दौरान हिंसा और हत्याओं की छानबीन करने के लिए स्वराज पार्टी के योगेन्द्र यादव, सीपीआई-एमएल पोलितब्यूरो सदस्य कविता कृष्णन और रियाद आज़म ने 25 दिसम्बर को मेरठ का दौरा किया और घटनास्थल, अस्पताल, घायलों और पीड़ित परिवार के सदस्यों और गवाहों से मुलाकात की और उनके बयान दर्ज किये.

गुरुवार दोपहर 12 बजे दिल्ली के प्रेस क्लब में जांच दल के सदस्यों ने एक प्रेस वार्ता में अपनी रिपोर्ट जारी कर दी. प्रेस कॉन्फ्रेंस का लाइव प्रसारण नीचे देखा जा सकता है।

Press Conference: Movement activists and Bollywood Actors speak to the media on state repression in Uttar Pradesh.

Posted by Yogendra Yadav on Wednesday, December 25, 2019

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि मेरठ में जो हुआ बहुत बुरा हुआ. गरीब और वंचितों को मारा गया और जो मारे गये पुलिस ने द्वारा उन्हीं के खिलाफ केस दर्ज किये गये. पीड़ितों के परिवारों की शिकायत पर पुलिस ने कोई मामला दर्ज नहीं किया है.

वक्ताओं के अनुसार यह वक्त उनको आर्थिक और कानूनी मदद देने का है. क्षेत्र में हालात तनावपूर्ण है और मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में पुरुष रात भर जागकर पहरेदारी कर रहे हैं घरवालों की रक्षा के लिए.

इस प्रेस वार्ता में जामिया में 13-15 दिसम्बर को हुए पुलिसिया दमन की भी रिपोर्ट और यूपी में कानून व्यवस्था पर भी एक रिपोर्ट जारी की गई है.

जामिया पर  रिपोर्ट यहां पढ़ सकते हैं :

Jamia Report 2019 for screen

मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।