NMC बिल 2019 : देशभर में डॉक्टरों की हड़ताल, मरीज बेहाल, IMA ने कहा- हड़ताल जारी रहेगी !

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


लोकसभा में राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (NMC) बिल पारित होने के खिलाफ देश भर में डॉक्टरों की हड़ताल जारी है। इंडियन मेडिकल असोसिएशन ने कहा है कि  इस हड़ताल में देश भर के करीब साढ़े तीन लाख से ज्यादा डॉक्टर शामिल हैं। साथ ही, दिल्ली एम्स के रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (RDA) और फेडरेशन ऑफ रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (FORDA) ने भी इसका समर्थन किया है, लेकिन हड़ताल में हिस्सा नहीं लिया है। बुधवार सुबह 6 बजे से शुरू हुई हड़ताल गुरुवार सुबह 6 बजे तक जारी रहेगी। इस हड़ताल के चलते ज्यादातर अस्पतालों की ओपीडी सेवाएं बंद हैं।

दरअसल देश भर के चिकित्सीय संगठनों का कहना है कि बिल में कई ऐसे प्रावधान हैं जो कि चिकित्सीय वर्ग के लिए उचित नहीं है। इसी कारण से सरकार से बिल को वापस लेते हुए पुनः संशोधन के साथ उसे लाने के लिए मांग की है।

एम्स के रेजिडेंट डॉक्टर ने कहा कि हमारी हड़ताल एनएमसी बिल के कुछ प्रावधानों के खिलाफ है। रेजिडेंट डॉक्टरों को सेवाओं से हटा दिया गया है। फैकल्टी और कंसलटेंट मरीजों को सेवाएं प्रदान कर रहे हैं। अगर सरकार हमें सूचीबद्ध नहीं करती है तो इसे मेडिकल बिरादरी के इतिहास में सबसे काले दिनों में गिना जाएगा।

भारत में अब तक मेडिकल शिक्षा, मेडिकल संस्थानों और डॉक्टरों के रजिस्ट्रेशन से जुड़े काम मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (MCI) की जिम्मेदारी थी, लेकिन बिल पास होने के बाद मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (MCI) की जगह नेशनल मेडिकल कमीशन (NMC) ले लेगा।

वहीं, बिल के सेक्शन 32 के तहत, करीब 3.5 लाख गैर-मेडिकल लोगों को लाइसेंस देकर सभी प्रकार की दवाइयां लिखने और इलाज करने का लाइसेंस मिलेगा। और डॉक्टर्स NEET से पहले NEXT को अनिवार्य किए जाने के भी खिलाफ हैं। डॉक्टरों का कहना है कि इससे आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों की मेडिकल सेक्टर में आने की संभावना कम हो सकती है।

पिछले दिनों कोलकाता के एक अस्पताल में डॉक्टर के साथ मारपीट की एक घटना के बाद डॉक्टरों द्वारा बुलाये गये हड़ताल पर इंडियन मेडिकल असोसिएशन ने आह्वान कर देश भर के कई राज्यों को उस हड़ताल में शामिल कर लिया और केंद्र की सत्ताधारी बीजेपी ममता बेनर्जी को जिम्मेदार घोषित कर उनकी आलोचना करती रही।
अब केंद्र की मोदी सरकार ने एक ऐसा बिल पास किया है जो डॉक्टरों के भविष्य के लिए ख़तरा सिद्ध होगा। इसी NMC बिल के विरोध में आज देश भर के डॉक्टर हड़ताल पर है। और मरीज बेहाल है। इसके लिए कौन दोषी है?

 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।