आगरा: विपक्ष ने घेरा तो योगी सरकार ने लिया एक्शन, सफाईकर्मी की मौत मामले में 5 पुलिसकर्मी सस्पेंड!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


उत्तर प्रदेश के आगरा थाने में 30 वर्षीय सफाई कर्मचारी अरुण कुमार की पुलिस कस्टडी में मौत के बाद योगी सरकार की उत्तर प्रदेश पुलिस एक बार फिर विवादों से घिर गई है। विपक्ष सरकार पर हमलावर हैं। प्रियंका गांधी, अखिलेश यादव और मायावती ने योगी सरकार को ट्वीट करते हुए घेरा है। इस मामले में विपक्ष की सक्रियता के बाद अब योगी सरकार की यूपी पुलिस ने कड़ा कदम उठाते हुए मामले से जुड़े 5 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है।

पीड़िता के परिजनों को 10 लाख रुपए का मुआवज़ा दिया जाएगा: पुलिस

इस मामले पर आगरा जोन के ADG राजीव कृष्णा ने कहा कि,“हमने उन सभी 5 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है जो पूछताछ में शामिल थे। राजपत्रित अधिकारी मामले की जांच करेंगे। पीड़िता के परिजनों को 10 लाख रुपए का मुआवज़ा दिया जाएगा।”

वहीं आगरा पुलिस के ट्वीट हैंडल पर बताया गया है कि 25 लाख (थाना जगदीशपुरा) की चोरी के संबंध में अभियुक्त अरुण से 15 लाख की बरामदगी के दौरान तबीयत खराब होने पर अस्पताल में डॉक्टर द्वारा मृत घोषित किया। NHRC की गाइड लाइन के अनुसार परिजनों के तहरीर पर मुकदमा दायर किया गया है। दोषी पुलिस के खिलाफ विभाग कार्यवाही करेगा”

विपक्ष के निशाने पर आई योगी सरकार..

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी घटना के बाद पीड़ित परिवार से मिलने आगरा के लिए निकलीं, लेकिन उन्हें पुलिस ने हिरासत में ले लिया। काफी देर तक हिरासत में रखे जाने के बाद पुलिस ने प्रियंका को जाने की इजाज़त दी। इससे मामले पर प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने अपने एक ट्वीट में सरकार से सवाल किया है कि किसी को पुलिस कस्टडी में पीट-पीटकर मार देना कहां का न्याय है?

भाजपा सरकार में पुलिस खुद अपराध कर रही: अखिलेश यादव

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी योगी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि “भाजपा सरकार में पुलिस खुद अपराध कर रही है तो फिर अपराध कैसे रुकेगा? आगरा में पहले सांठगांठ कर थाने के मालखाने से 25 लाख की चोरी कराई गई फिर सच छिपाने के लिए गिरफ्तार किए गए सफाईकर्मी की कस्टडी में हत्या स्तब्ध करती है! हत्यारे पुलिस कर्मियों पर हो सख्त कार्रवाई।”

सफाई कर्मी की पुलिस हिरासत में हुई मौत अति-दुःखद व शर्मनाक: मायावती

पूर्व मुख्यमंत्री बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी इस मुद्दे पर ट्वीट कर घटना को शर्मनाक बताया। उन्हीं ट्वीट किया कि “आगरा में एक सफाई कर्मी की पुलिस हिरासत में हुई मौत अति-दुःखद व शर्मनाक। यूपी सरकार दोषियों को सख़्त सज़ा दे तथा पीड़ित परिवार की भी हर प्रकार से पूरी-पूरी मदद करे, बीएसपी की यह माँग।”

मेरे भाई की मौत पुलिस की सख्ती और बदसलूकी से हुई…

वहीं, सफाईकर्मी अरुण कुमार की मौत के बाद जगदीशपुरा थाने में दर्ज प्राथमिकी में मृतक सफाई कर्मचारी के भाई सोनू ने कहा कि मेरे भाई की मौत पुलिस की सख्ती और बदसलूकी से  पूछताछ के कारण ही हुई।

 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।