Home न्यू मीडिया कराची से ग़ायब हुए कफ़ील पेंटर, जो दुनिया के सबसे बड़े स्पिनर...

कराची से ग़ायब हुए कफ़ील पेंटर, जो दुनिया के सबसे बड़े स्पिनर थे !

SHARE
कफ़ील भाई घोटकी वाले, राइट आर्म लेफ़्ट आर्म स्पिन बॉलर
अशोक पांडेय

पाकिस्तान के सिंध प्रदेश के धुर उत्तरी इलाके में एक धूल-धक्कड़ भरा कस्बा है घोटकी तालुका. तमाम तरह के अनेक कारखानों वाले इस कस्बे ने 1980 के दशक में बड़ा नाम कमाया. किसी औद्योगिक क्रान्ति के चलते नहीं ऐसा हुआ था. दरअसल उन्हीं दिनों पाकिस्तान के कई लोगों ने गौर करना शुरू किया कि वहां चलने वाले रंग-बिरंगे ट्रकों के पीछे – कफ़ील भाई घोटकी वाले, राइट आर्म लेफ़्ट आर्म स्पिन बॉलर – लिखा दिखने लगा था. जल्द ही इस हस्ताक्षर वाले ट्रकों की तादाद इस कदर बढ़ने लगी कि जिज्ञासु लोगों ने ट्रकों के ड्राइवरों से पूछना शुरू कर दिया कि ये कफ़ील भाई हैं कौन और ये राइट आर्म लेफ़्ट आर्म स्पिन बॉलर है क्या बला.

मजेदार बात यह है कि बहुत से ड्राइवरों को यह बात पता तक नहीं लगी थी कि उनके ट्रकों पर कफ़ील भाई के हस्ताक्षर हैं.जब कुछ स्थानीय सिंधी अखबारों ने इस बाबत छानबीन की तो उन्होंने पाया कि कफ़ील भाई घोटकी के एक अति साधारण परिवार में जन्मे एक युवा क्रिकेटर और बेहद प्रतिभावान चित्रकार थे.1970 के दशक के अंतिम और 1980 के दशक के शुरुआती वर्षों में उन्हें लगता था कि वे दुनिया के इकलौते गेंदबाज़ हैं जो दाएं हाथ से घातक ऑफ स्पिन गेंदबाजी कर सकने के साथ बाएं हाथ से वैसी ही खतरनाक लेग स्पिन फेंक सकते थे. उन्होंने घोटकी की अनेक लोकल टीमों के लिए अपने नगर के धूसर मैदानों पर अपनी प्रतिभा का जलवा बिखेरा. वे गेंदबाजी तो दोनों हाथों से कर लेते थे लेकिन दुर्भाग्यवश उनकी गेंदों में ज़रा भी स्पिन पैदा नहीं होती थी और बल्लेबाज़ उनकी बढ़िया धुनाई किया करते. गेंदबाज़ का काम होता है पिच को दोष देना और कफ़ील भाई ने भी यही किया और नाराज़ होकर अपनी किस्मत चमकाने कराची चले गए.

कराची में उनकी प्रतिभा को पहचानने को एक भी क्लब सामने नहीं आया और लम्बे इंतज़ार के बाद वे हताश होकर वापस घोटकी आ गए. उनकी शिकायत रही कि पाकिस्तानी क्रिकेट बोर्ड में उनकी प्रतिभा को समझ तक पाने की कूव्वत नहीं थी.

घोटकी में कफ़ील भाई का ज़्यादातर समय हाईवे से लगे पेट्रोल पम्पों पर गुज़रने लगा. इन पम्पों के आसपास के ढाबे और होटल कराची और पेशावर के बीच औद्योगिक माल, गन्ना और गेहूं वगैरह ढोने वाले ट्रकों के ड्राइवरों-क्लीनरों से आबाद रहा करते थे.

हालांकि जैसी कि परम्परा चल चुकी थी, इनमें से ज़्यादातर ट्रकों पर तमाम तरह के चित्र बने रहते थे. कफ़ील भाई उन ट्रकों की शिनाख्त करते जिन पर कलाकारी नहीं की गयी होती थी और उनके ड्राइवरों को फ़ोकट में उनकी गाड़ियों पर कलाकारी करने का प्रस्ताव देते थे. बदले में वे सिर्फ पेंट और ब्रशों की मांग किया करते.

ड्राइवरों को उनका काम पसंद आने लगा और कफ़ील भाई ने मैडम नूरजहां और घोड़ों से लेकर लेडी डायना तक के चित्र सिंध के ट्रकों पर उकेरना शुरू किये. चित्रों के नीचे उनके गौरवपूर्ण हस्ताक्षर होते – कफ़ील भाई घोटकी वाले, राइट आर्म लेफ़्ट आर्म स्पिन बॉलर.

1987 तक उर्दू मुख्यधारा के कुछेक अखबार वगैरह उन पर लेख छाप चुके थे और ड्राइवरों में अपनी गाड़ियों पर उनके हस्ताक्षर करवाने का क्रेज़ बन गया था. लेकिन कफ़ील भाई अपनी सेवा के बदले अब भी किसी तरह की फीस नहीं वसूलते थे. वे पेंट और ब्रश के अलावा ढाबों पर मिलने वाली एक चाय भर के बदले इस काम को किया करते. उन्होंने अपने हस्ताक्षर में अब यह भी जोड़ दिया – मशहूर-ए-ज़माना स्पिन बॉलर कफ़ील भाई का सलाम!

उनकी रोजी-रोटी कैसे चलती थी मालूम नहीं लेकिन उनके सुबह-शाम के खाने का बंदोबस्त उन ढाबों के जिम्मे था जिनके बगल में खड़े ट्रकों पर वे चित्रकारी करते थे.

1992 में उनकी ख्याति अपने चरम पर पहुँच गयी थी जब एक फ्रांसीसी कला पत्रिका ने उनकी ट्रक-कला को अपने पन्नों पर जगह दी. इसके बाद कुछेक फ्रेंच पर्यटक घोटकी आये भी और उन्होंने कफ़ील भाई को फ्रांस आ कर वहां के ट्रकों पर चित्र बनाने की दावत दी. कफ़ील भाई ने एक शर्त रखी कि उन्हें फ्रांस के ट्रकों पर भी अपने हस्ताक्षर करने की छूट होगी. फ्रेंच पर्यटकों में कहा कि वे इसकी गारंटी नहीं दे सकते. इतना सुनना था और कफ़ील भाई ने साफ़ मना कर दिया.

कफ़ील भाई तीस से ऊपर के हो चुके थे और एक दिन उन्होंने पेन्टिंग करना छोड़ दिया. अपने कुछ प्रशंसकों से उन्होंने थोड़ी रकम उधार ली और फर्नीचर की एक दुकान खोली. इस नए धंधे से थोड़ा बहुत पैसा बनाने के बाद उन्होंने शादी करने का फ़ैसला किया. 2000 की शुरुआत में उन्होंने दुकान बंद की, सारा सामान बेचा और कराची चले गए.

फिलहाल कोई नहीं जानता कि वे कराची में कहाँ रहते हैं, क्या करते हैं. कफ़ील भाई ने गायब हो जाने का फ़ैसला कर लिया था. समय के साथ-साथ कफ़ील भाई घोटकी वाले, राइट आर्म लेफ़्ट आर्म स्पिन बॉलर के हस्ताक्षर भी ट्रकों से अदृश्य होते चले गए.



अशोक पांडे (बाएँ)आला दर्जे के घुमक्कड़,कवि, अनुवादक और पता नहीं क्या-क्या हैं। हल्द्वानी में रहते हैं। कबाड़ख़ाना इनके ब्लॉग का नाम है जो अनोखा और मशहूर-ए-ज़माना है। यह लेख भी वहीं से टीपा हुआ है।

 

 



 

14 COMMENTS

  1. I haven’t checked in here for some time because I thought it was getting boring, but the last several posts are great quality so I guess I will add you back to my everyday bloglist. You deserve it my friend 🙂

  2. Just wish to say your article is as amazing. The clearness to your publish is just spectacular and i could assume you are an expert on this subject. Well with your permission let me to seize your RSS feed to keep up to date with coming near near post. Thank you 1,000,000 and please continue the enjoyable work.

  3. Ive by no means read something like this before. So nice to find somebody with some original thoughts on this topic, really thank you for starting this up. this web-site is something that is needed on the web, a person having a little originality. useful job for bringing some thing new towards the web!

  4. I’m impressed, I have to say. Actually hardly ever do I encounter a weblog that’s each educative and entertaining, and let me inform you, you’ve hit the nail on the head. Your thought is excellent; the issue is one thing that not enough individuals are speaking intelligently about. I’m very blissful that I stumbled across this in my search for one thing regarding this.

  5. Have you ever thought about adding a little bit more than just your articles? I mean, what you say is fundamental and everything. Nevertheless just imagine if you added some great visuals or videos to give your posts more, “pop”! Your content is excellent but with images and video clips, this blog could certainly be one of the best in its field. Amazing blog!

  6. Hey are using WordPress for your site platform? I’m new to the blog world but I’m trying to get started and create my own. Do you require any coding expertise to make your own blog? Any help would be greatly appreciated!

  7. Nice post. I was checking constantly this blog and I am impressed! Extremely useful info particularly the last part 🙂 I care for such information a lot. I was looking for this certain info for a very long time. Thank you and best of luck.

  8. Thank you for the sensible critique. Me & my neighbor were just preparing to do a little research on this. We got a grab a book from our local library but I think I learned more clear from this post. I’m very glad to see such wonderful info being shared freely out there.

  9. अशोक भाई का लेखन और संग्रह मसहूर-ए-जमाना है. ये भी कई बार बिना बताये गायब हो जाते हैं.

  10. Hey there! I just wanted to ask if you ever have any problems with hackers? My last blog (wordpress) was hacked and I ended up losing many months of hard work due to no backup. Do you have any solutions to stop hackers?

  11. The next time I read a weblog, I hope that it doesnt disappoint me as much as this one. I imply, I do know it was my choice to learn, however I actually thought youd have one thing fascinating to say. All I hear is a bunch of whining about something that you might repair when you werent too busy searching for attention.

  12. I am frequently to blogging and i actually appreciate your content material. The post has seriously peaks my interest. I am going to bookmark your web-site and keep checking for new info.

  13. Woah! I’m really enjoying the template/theme of this website. It’s simple, yet effective. A lot of times it’s hard to get that “perfect balance” between superb usability and appearance. I must say you’ve done a fantastic job with this. Additionally, the blog loads extremely quick for me on Opera. Outstanding Blog!

  14. I’ve read some good stuff here. Definitely worth bookmarking for revisiting. I wonder how much effort you put to create such a magnificent informative website.

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.