साध्वी ऋतंभरा के जॉर्जिया दौरे का विरोध, बारिश और ख़राब मौसम के बावजूद प्रदर्शन



अमेरिका में हिंदुत्ववादी नफ़रत फैलाने की इजाज़त नहीं देंगे: IAMC

 

अटलांटा, जॉर्जिया (सितम्बर 01, 2022) – मुस्लिमों और ईसाईयों के ख़िलाफ़ नफ़रती भाषणों के लिए कुख्यात साध्वी ऋतंभरा को अटलांटा पहुँचने पर भारी विरोध का सामना करना पड़ा. इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल (IAMC), हिंदूज़ फ़ॉर ह्यूमन राइट्स (HfHR), ‘मुस्लिम्स ऑफ यूएसए’ और ‘वायसेस ऑफ मुस्लिम्स’ के सैकड़ों समर्थकों ने ख़राब मौसम और भारी बारिश की परवाह न करते हुए नॉरक्रास सिटी के ‘ग्लोबल मॉल’ के बाहर प्रदर्शन किया जहाँ ऋतंभरा का कार्यक्रम आयोजित किया गया था

प्रदर्शन को संबोधित करते हुए अमेरिका के सबसे बड़े एडवोकेसी संगठन IAMC अटलांटा चैप्टर के अध्यक्ष ज़मीर ख़ान ने कहा, “यह हर धर्म के अमनपसंद और सभ्य लोगों का अपमान है और इसकी कड़ी से कड़ी निंदा की जानी चाहिए. हम ऋतंभरा जैसे लोगों को अमेरिका के अमनपसंद लोगों के बीच नफ़रत और विभाजन फैलाने की इजाज़त नहीं दे सकते. हम माँग करते हैं कि ग्लोबल मॉल के मालिक और आयोजक इस कार्यक्रम को फ़ौरन रद्द कर दें और अटलांटा के शरीफ़ लोगों से माफ़ी माँगें.”

IAMC इस मसले पर शुरू से सक्रिय था. ज़मीर ख़ान ने इस मॉल के मालिक शिव अग्रवाल से कार्यक्रम रद्द करने की माँग करते हुए पत्र भी लिखा था, लेकिन उन्होंने कार्यक्रम रद्द करना तो दूर, IAMC के प्रतिनिधियों को मिलने तक का वक़्त नहीं दिया.

विरोध प्रदर्शन में शामिल अफ़शान ख़ान ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि “हमें यहाँ अमेरिका में अपने समुदायों के बीच हिंदुत्ववादियों की ओर से फैलाई जा रही कट्टरता और घृणा को फैलने से रोकना होगा जहाँ शांतिप्रिय हिंदू और मुसलमान सालों से मेल-मिलाप के साथ रह रहे हैं.

वॉयस ऑफ मुस्लिम्स ऑफ जॉर्जिया की ओर से विरोध प्रदर्शन को संबोधित करते हुए रहीम शाह अख़ुनख़ाइल ने कहा, “अमेरिकी मुस्लिम समुदाय अपने हिदू, ईसाई, सिख और यहूदी भाई-बहनों के साथ नफ़रत फैलाने वालों को ख़ारिज करता है और अटलांटा के ग्लोबल मॉल में साध्वी ऋतंभरा की मौजूदगी पर कड़ा ऐतराज़ और विरोध जताता है. उन्होंने भारत में खुलेआम मुस्लिमों और ईसाईयों के नरसंहार का आह्वान किया है. हम इसे ख़ारिज करते हैं. अमेरिका इसे ख़ारिज करता है. हम सभी धर्म के लोगों से ऐसे लोगों को खारिज करने और उनकी निंदा करने की माँग करते हैं. हम विदेश विभाग से तत्काल उनका वीज़ा रद्द करने और सरकारी एजेंसियों से ऋतंभरा और उनकी अमेरिकी यात्रा के आयोजकों के ख़िलाफ़ उचित क़ानूनी कार्रवाई करने की माँग करते हैं. ”

उधर, हिंदूज़ फ़ॉर ह्यूमन राइट्स ने कहा है कि “संयुक्त राज्य अमेरिका में साध्वी ऋतंभरा नफ़रत और हिंसा की विचारधारा की नुमाइंदगी करती हैं- एक ऐसी विचारधारा जो भारत को तोड़ रही है और अमेरिका में रहने वाले भारतीय मूल के लोगों में भय पैदा कर रही है. ग्लोबल मॉल के बाहर जुटे प्रदर्शनकारियों ने साबित किया है कि अमेरिका में हिंदू राष्ट्रवादी नफ़रत को बरदाश्त नहीं किया जाएगा और वे हिंदू राष्ट्रवादी घृणा के निशाने पर आये सभी लोगों के लिए खड़े रहेंगे जो हमारी सांस्कृतिक और धार्मिक परंपरा पर क़ब्ज़ा कर रही है”

ऋतंभरा के दौरे को ‘विश्व हिंदू परिषद ऑफ अमेरिका’ (VHPA) और हिंदू सेवक संघ (HSS) ने प्रायोजित किया है. साफ़ है कि आरएसएस से जुड़े ये संगठन अमेरिका में बसे हिंदू समुदाय के बीच मुस्लिम विरोधी धार्मिक उन्माद फैलाने की फ़िराक़ में हैं. IAMC इस मसले पर अमेरिका की सरकार और तमाम एजेंसियों को लगातार चेताता रहा है. उसने इन संगठनों की गतिविधियों की जाँच करने की माँग की है.

 


Related