नमक रोटी कांड : PCI ने पत्रकार के खिलाफ कार्रवाई पर योगी सरकार से मांगी रिपोर्ट

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
मीडिया Published On :


भारतीय प्रेस परिषद (पीसीआई) ने उत्तर प्रदेश में मिर्जापुर के एक स्कूल में बच्चों को मध्याह्न भोजन (मिड-डे मील) में ‘नमक-रोटी’ परोसे जाने का मामला उजागर करने वाले पत्रकार पवन जयसवाल के खिलाफ दायर आपराधिक आरोपों का संज्ञान लेते हुए प्रदेश सरकार से एक रिपोर्ट मांगी है.

पीसीआई के अध्यक्ष चंद्रमौली कुमार प्रसाद ने उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में मध्याह्न भोजन की रिपोर्टिंग करने को लेकर पत्रकार पवन जायसवाल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने किए जाने की खबरों पर चिंता प्रकट की है.

यह भी पढ़ें: नमक-रोटी कांड : NHRC का नोटिस आते ही DM ने पलटी क्‍यों मार ली?

पीसीआई ने एक बयान में कहा, “इस मामले की जांच के लिए एक तथ्यान्वेषी समिति का गठन किया गया है.” प्रेस एसोसिएशन ने इस विषय में प्रदेश सरकार की मनमानी कार्रवाई का भी सख्त निंदा करते हुए कहा है कि वह अपनी पेशेवर जिम्मेदारी निभा रहे एक पत्रकार को इस तरह चुनिंदा तरीके से निशाना बनाये जाने पर सख्त ऐतराज जताता है.

पीसीआई ने एक बयान में कहा, ‘इस मामले की जांच के लिए एक फैक्ट फाइंडिंग समिति का गठन किया गया है.’

प्रेस एसोसिएशन ने इस विषय में प्रदेश सरकार की मनमानी कार्रवाई की भी सख्त निंदा करते हुए कहा है कि अपनी जिम्मेदारी निभा रहे एक पत्रकार को इस तरह चुनिंदा तरीके से निशाना बनाना बिल्कुल गलत है.

यह भी पढ़ें: नमक-रोटी कांड : कलेक्टर अनुराग पटेल ने कहा -प्रिंट के पत्रकार ने क्यों बनाया वीडियो?

प्रेस एसोसिएशन कहा है कि मध्याह्न भोजन कार्यक्रम में गड़बड़ी को सुधारने के बजाय मिर्जापुर जिला प्रशासन ने पत्रकार के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कर मीडिया को खामोश करने का विकल्प चुना.

बता दें कि, सोमवार को एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने भी इस घटना की निंदा की थी और इसे निर्मम तथा संदेशवाहक को ही निशाना बनाने का अनूठा मामला बताया था.

बीते 23 अगस्त को मिर्जापुर के एक सरकारी स्कूल में बच्‍चों को नमक और रोटी बांटे जाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था.


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।