बरसों बाद सामने आया निर्भया कांड का जघन्य सच, अजीत अंजुम की ज़ुबानी

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
मीडिया Published On :


देश की राजधानी दिल्ली में 2012 में घटित सबसे शर्मनाक घटना निर्भया रेप कांड ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था. इस केस की सुनवाई जब फास्ट ट्रैक अदालत में चल रही थी और टीवी पर इस केस पर गरम बहसें हो रही थीं उस वक्त निर्भया का वह दोस्त टीवी चैनलों पर लगातार इन्टरव्यू दे रहा था जो घटना के दौरान निर्भया के साथ था. उस दौरान कुछ ऐसा भी हुआ था जो अब तक किसी को पता नहीं चला. उस वक्त एक ऐसे भी संपादक थे जिन्होंने सच्चाई जानते हुए भी उस जघन्य सच को सिर्फ इसलिए छुपाए रखा कि कहीं निर्भया को इंसाफ मिलने में दिक्कत न आ जाए।

टीवी पत्रकार अजीत अंजुम ने अपने ट्विटर पर सिलसिलेवार ट्वीट लिखते हुए खुलासा किया है कि जब इस मामले की सुनवाई चल रही थी तब पीड़िता के दोस्त ने – जो कि घटना के वक्त पीड़िता के साथ था और बुरी तरह ज़ख़्मी हो गया था और वही इस दरिंदगी का एकमात्र गवाह था- इस घटना पर टीवी पर इन्टरव्यू देने के लिए टीवी वालों से लाखों रुपए लिए थे. उस वक्त ‘न्यूज़ 24’ के मैनेजिंग एडिटर रहें पत्रकार अजित अंजुम को जब पैसे लेकर टीवी पर इन्टरव्यू देने की खबर मिली तो उन्होंने उस गवाह का स्टिंग किया था.

उस स्टिंग को उन्होंने यह समझते हुए प्रसारित नहीं किया कि इससे उस केस पर विपरीत असर पड़ेगा. अब उन्होंने इस पूरे घटनाक्रम का खुलासा सिलसिलेवार तरीके से अपने ट्विटर हैंडल पर किया है : (संपादक)

 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।