छत्‍तीसगढ़: BJP मुख्‍यालय में भाजपाइयों ने किया पत्रकार पर हमला, तीन नेताओं के खिलाफ नामजद FIR


बैठक कवर कर रहे पत्रकार को कांग्रेसी बताकर मारा-पीटा, कैमरा छीना


मीडिया विजिल मीडिया विजिल
मीडिया Published On :


छत्‍तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की हार का सदमा इसके नेताओं को ऐसा लगा है कि वे पत्रकारों को अपना दुश्‍मन समझ बैठे हैं। शनिवार दोपहर एकात्‍म परिसर में भाजपा की समीक्षा बैठक के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं ने एक पत्रकार को बुरी तरह पीटा, उसका कैमरा छीन लिया और वीडियो डिलीट कर दिया। पत्रकार ने इस मामले में तीन लोगों के खिलाफ नामजद एफआइआर दर्ज करायी है। इनमें भाजपा के रायपुर जिलाध्‍यक्ष राजीव अग्रवाल, विजय व्‍यास और दीना डोंगरे के नाम हैं।

प्रदेश मे करारी हार पर बौखलाये भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने 'द वाईस न्युज' के वरिष्ठ पत्रकार Suman Pandey जी को…

Posted by Thansing Lodhi on Saturday, February 2, 2019

इस बीच उत्‍तर प्रदेश के दौरे पर गए मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल ने खबर लगने पर एक बार फिर पत्रकारों को सुरक्षा कानून लाने के बाबत आश्‍वस्‍त किया है और इस संबंध में एक ट्वीट भी किया है।

मामला भाजपा कार्यालय में आयोजित समीक्षा बैठक का है जहां तमाम पत्रकार बैठक कवर करने गए हुए थे। बैठक में भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच आपसी बहसा-बहसी और झड़प हुई। विवाद होता देख दि वाइस न्‍यूज़ के पत्रकार सुमन पांडे ने पूरा घटनाक्रम अपने मोबाइल में रिकॉर्ड करना शुरू कर दिया। इसके बाद भाजपा कार्यकर्ताओं ने सुमन पांडे के ऊपर हमला कर दिया और उनका मोबाइल कैमरा छीनकर उसमें से विवाद का वीडियो डिलीट कर डाला।

वीडियो साभार स्‍वराज एक्‍सप्रेस

इस मामले से रायपुर के पत्रकारों में भयंकर रोष है। धरना प्रदर्शन के बाद तीन नेताओं के खिलाफ नामजद एफआइआर दर्ज करायी गयी है।

मीडियाविजिल से फोन पर बातचीत में पीडि़त पत्रकार सुमन पांडे ने बताया कि भाजपा कार्यालय में बैठक के दौरान कार्यकर्ताओं के बीच झड़प और नारेबाज़ी होने लगी, उस वक्‍त वे वीडियो पर उसे रिकॉर्ड कर रहे थे। उन्‍हें देखकर भाजपा कार्यकर्ता उनके पास आए और पूछने लगे कि कौन हो। पांडे ने बताया, ‘’मैंने कहा कि मैं प्रेस से हूं तो वे कहने लगे कि साला कांग्रेसी है। इसके बाद वे मेरे ऊपर वीडियो डिलीट करने का दबाव बनाने लगे। जब मैंने मना किया तो उन्‍होंने मुझसे मारपीट की। मेरे सिर पर कट लगा हुआ है।‘’

बातचीत के वक्‍त पांडे अस्‍पताल से एमएलसी करवा कर आ रहे थे। उन्‍होंने एफआइआर भी दर्ज करवायी जिसकी प्रति उन्‍होंने मीडियाविजिल को मुहैया करायी है।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।