सुप्रीम कोर्ट में तेज बहादुर यादव की याचिका खारिज



सीमा सुरक्षा बल के बरखास्‍त जवान तेज बहादुर यादव की याचिका आज सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी। वरिष्‍ठ अधिवक्‍ता प्रशांत भूषण यादव की पैरवी कर रहे थे।

तेज बहादुर ने वाराणसी लोकसभा से अपने नामांकन को निरस्‍त किए जाने के खिलाफ सर्वोच्‍च अदालत में गुहार लगायी थी। उनका आरोप था कि उनका परचा अवैध तरीके से निरस्‍त किया गया है।

मुख्‍य न्‍यायाधीश रंजन गोगोई ने इस याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि अदालत को इस याचिका को स्‍वीकार करने की कोई योग्‍य वजह नहीं जान पड़ती।

मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने निर्वाचन आयोग को निर्देश दिया था कि वह एक दिन के भीतर तेज बहादुर की शिकायत की पड़ताल करे और जवाब दाखिल करे।

तेज बहादुर को समाजवादी पार्टी ने अपने चुनाव चिह्न पर नामांकन करवाया था और पहले से घोषित अपनी आधिकारिक प्रत्‍याशी शालिनी यादव को बैठा दिया था। बहादुर का परचा खारिज होने के बाद शालिनी यादव फिर से सपा के चुनाव चिह्न पर गठबंधन की बनारस से उम्‍मीदवार हैं।

परचा निरस्‍त होने के बावजूद तेज बहादुर बनारस के चुनाव में सक्रिय हैं और शालिनी यादव का प्रचार कर रहे हैं।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।