TOI के सर्वे में 71% लोग नोटबंदी के ख़िलाफ़, पर ख़बर ग़ायब !

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
अभी-अभी Published On :


नोटबंदी पर टाइम्स ऑफ इंडिया के ऑनलाइन सर्वे में प्रधानमंत्री मोदी की भद पिट रही है। 28 नवंबर को सुबह 11.30 बजे तक 56 फ़ीसदी लोगों ने इसे एक ऐसा ख़राब फ़ैसला बताया है जिसे ग़लत तरीक़े से लागू किया गया। वहीं 15 फ़ीसदी कह रहे हैं कि फ़ैसला अच्छा लेकिन ठीक ढंग से लागू नहीं किया गया। इस तरह से 71 फ़ीसदी लोगों ने नोटबंदी को लेकर नाराज़गी जताई है। सिर्फ़ 29 फ़ीसदी लोग ही इसके पक्ष में हैं जो लोकसभा चुनाव में बीजेपी को मिले 31 फ़ीसदी वोटों से दो फ़ीसदी कम है।

इसके पहले मोदी जी ने अपने ऐप के सर्वे को देश की नब्ज़ कहकर प्रचारित किया था। उसमें करीब 90 फ़ीसदी लोगों ने नोटबंदी का समर्थन किया था। उसमें  इस फ़ैसले को ख़राब बताने का कोई विकल्प नहीं था, लेकिन टाइम्स ऑफ इंडिया के सर्वे में विकल्प ज़रा समझदारी से सुझाए गये हैं ताकि जनता की राय ठीक-ठीक जानी जाए। लोगों से पूछा गया

1. नोटबंदी  – अच्छा फैसला और ठीक ढंग से लागू हुआ
2. नोटबंदी – अच्छा फैसला लेकिन ठीक ढंग से लागू नहीं किया गया
3. नोटबंदी – खराब  फैसला और ग़लत तरीक़े से लागू किया गया

मोदी ऐप के नतीजों के उलट TOI के सर्वे में जनता की नाराज़गी सामने आ गई। पिछले कुछ दिनों से जारी सर्वे में सबसे ज्यादा वोट तीसरे तीसरे विकल्प पर पड़ रहे हैं। हर दिन के साथ यह एक ही यानी विरोध की दिशा में जा रहा था। कल तक 53 फ़ीसदी लोग तीसरे  विकल्प को चुन रहे थे जो अाज 56 फ़ीसदी हो गया।

toi-poll

 

आप इस लिंक को क्लिक करके सर्वे में भाग ले सकते हैं।

http://timesofindia.indiatimes.com/what-do-think-of-the-demonetisation-of-notes/polls/55414493.cms?

बहरहाल, हैरत की बात यह है कि यह टाइम्स ऑफ इंडिया के इस सर्वे की मीडिया में चर्चा नहीं है। कोई चैनल या अख़़बार इसकी चर्चा नहीं कर रहा है जैसे कि मोदी ऐप के मामले में हुआ था। लोगों ने बैनर और ब्रेकिंग के ज़रिये बताया था कि 90 फ़ीसदी लोग मोदी जी के साथ है। लेकिन अब लगता है कि साँप सूँघ गया है।

 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।