मि.भंसाली, आपका शाहकार देखकर लगा कि औरत महज़ योनि है-स्वरा भास्कर

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
अभी-अभी Published On :


संजय लीला भंसाली की भव्य फ़िल्म पद्मावत आख़िरकार अभिव्यक्ति की आज़ादी का झंडा बुलंद करते हुए बॉक्स ऑफ़िस पर करोड़ों पीटने में जुटी हुई है। करणी सेना का विरोध बेमतलब साबित हुआ है, और फ़िल्म देखने वाले बड़े शान से बता रहे हैं कि यह फ़िल्म राजपूती आन-बान को शानदार तरीक़े से पेश करती है। फ़िल्म के अंत में पद्मिनी समेत सैकड़ों महिलाओं का जौहर उनके रोंगटे खड़े कर देता है और वे श्रद्धा से भर उठते हैं। वास्तव में यह ‘भाव ‘ही फ़िल्म को स्त्रीविरोधी बनाती है जिसका विरोध होना चाहिए। इस दृष्टिसंपन्न विरोध को स्वर दिया है अभिनेत्री #स्वरा_भास्कर Swara Bhasker  ने। उन्होंने भंसाली के नाम खुला ख़त लिखा है जो द वायर में छपा है।  मूल ख़त काफ़ी लम्बा और अंग्रेजी में है, इसके कुछ ज़रूरी हिस्सों का अनुवाद दीपक तिरुआ ने किया है जो यहाँ साभार प्रकाशित किया जा रहा है -संपादक

 

प्रिय भंसाली जी,

सबसे पहले बधाई कि आप अपनी मशहूर फिल्म रिलीज कर सके। ‘आई’ कम पद्मावती, कम दीपिका पादुकोण की सुंदर कमर, कम आपकी फ़िल्म के 70 शॉट्स।

लेकिन सबके सिर अब भी कंधों पे हैं और नाक भी सलामत है। फिर भी आप फ़िल्म रिलीज करा सके, बधाई।

आज के ‘टॉलरेंट /सहिष्णु’ भारत में जहाँ लोग मीट के लिए मारे जा रहे हैं, मर्दाने गर्व की आदिम सोच का बदला लेने के लिए बच्चों पर हमले हो रहे हैं, आपका film रिलीज कर पाना वाकई सराहनीय है, बधाई।

और मैं आपको बताना चाहती हूँ कि मैं आपकी फ़िल्म जब ‘पद्मावती’ ही कहलाती थी, तब भी मैं उसके लिए लड़ी थी, हालांकि किसी युद्ध के मैदान में नहीं ट्विटर पर। मेरे पीछे पागल ट्रोल्स पड़े फिर भी मैं लड़ी। मैंने टीवी कैमरे पर वो बातें भी कहीं जो मुझे लगा 185 करोड़ फंसे होने के कारण आप नहीं बोल पाये होंगे।

जो मैंने कहा उस पर मेरा पक्का यकीन है कि आप या किसी और को भी बिना सेट पर आग लगे, बिना मार खाये, बिना हाथ पैर तुड़वाये और बिना ज़िन्दगी गंवाये, जितना वो ज़रूरी समझे हीरोइन का पेट दिखाते हुए, अपनी कहानी अपने ढंग से कहने का पूरा हक़ है। लोग सामान्यतः फिल्में बना सकें , रिलीज भी कर सकें और बच्चे भी सुरक्षित स्कूल जा सकें।

मैंने सच में चाहा कि आपकी फ़िल्म बड़ी हिट हो, बॉक्स ऑफिस के रिकार्ड्स तोड़ दे। शायद आपकी फ़िल्म से इसी लगाव के चलते, उसे देखने के बाद मैं अवाक हो गयी हूँ, और ये कहना पड़ रहा है सर! कि

* रेप होने के बाद भी औरत को जीने का हक़ होता है।
* औरत को उसके पति, उसके रक्षक, उसके मालिक, उसकी सेक्सुअलिटी के कंट्रोलर जो कुछ भी आप मर्द को कहें, के बगैर जीने का हक़ है।
* मर्द के ज़िन्दा होने न होने से औरत को जीने का हक़ है।

ये बेसिक बातें हैं, इन्हीं में थोड़ी और भी हैं।

* औरतें चलती फिरती वैजाइना ( योनि) नहीं हैं।

* हाँ उनके पास वैजाइना है, पर वे उससे ज़्यादा भी कुछ हैं। इसलिए उनकी पूरी ज़िन्दगी वैजाइना और वैजाइना को कंट्रोल करने, उसकी रक्षा करने, उसकी शुद्धता बचाने पे फोकस करने की ज़रूरत नहीं है। (13 वीं शताब्दी में ऐसा था भी तो 21वीं सदी में हमें इन टुच्चे विचारों का महिमामंडन करने की ज़रूरत नहीं है।

* बेहतर होता कि योनियों को सम्मान दिया जाता। लेकिन दुर्भाग्य से ऐसा है नहीं।

* क्योंकि योनि के बाहर भी ज़िन्दगी है, इसलिए रेप के बाद भी ज़िन्दगी हो सकती है।

* और सामान्यतः ज़िन्दगी योनि से ज़्यादा कुछ है।

आप सोच रहे होंगे कि मैं ये योनि के बारे में में ही क्यों बोलती जा रही हूँ ? क्योंकि सर ! आपकी मशहूर फिल्म देख के मैंने यही महसूस किया। मैंने योनि ही महसूस की। मुझे महसूस किया कि मुझे महज़ वैजाइना तक सीमित कर दिया गया है।

मैंने महसूस किया कि जैसे वोट का अधिकार, सम्पत्ति का अधिकार, शिक्षा का अधिकार, समान काम के लिए समान वेतन, मातृत्व अवकाश, विशाखा जजमेंट, बच्चा गोद लेने का हक़ जो भी छोटा मोटा महिलाओं के आंदोलन ने हासिल किया है, वो सब बेकार है, क्योंकि हम लौट तो वापस बेसिक्स (रूढ़ पहचानों) पर रहे हैं।

सती और जौहर महिमामंडन के लायक प्रथाएं नहीं हैं। आपकी फिल्म रिलीज के एक हफ़्ते पहले जींद हरियाणा में के 15 साल की दलित लड़की का बर्बर गैंग रेप हुआ है।

आप जानते ही होंगे कि सती और रेप दोनों एक ही माइंडसेट का नतीज़ा हैं। एक रेपिस्ट स्त्री के जननांग पर अटैक करता है, अतिक्रमण करता है, जबरन प्रवेश करता है, उसपर नियंत्रण पाने के लिए उसे विकृत करता है, उस पर हावी होगा या उसे नष्ट कर देगा।

सती और जौहर के पक्षपोषक और समर्थक भी औरत के जननांगों का अतिक्रमण हो जाये या वे किसी ‘अधिकृत मर्द’ के नियंत्रण में न रहें, तो उस का उन्मूलन ही करते हैं।

दोनों ही मामलों में मसला औरत को महज यौन अंगों तक सीमित करने का है।

आप कहेंगे कि आपने फ़िल्म से पहले दो लाइन का डिस्क्लेमर दिखाया था कि फ़िल्म सती / जौहर का सपोर्ट नहीं करती। लेकिन सर उसके बाद आपने ढ़ाई घण्टे अपनी फिल्म में दिखाया क्या ???



 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।