फेसबुक ने बहाल की ‘दि सिटिजन’ की स्टोरी, हैदराबाद युनिवर्सिटी में दमन का मीडिया ब्लैकआउट नाकाम

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
अभी-अभी Published On :


होली के दो दिन पहले से हैदराबाद युनिवर्सिटी को छावनी में तब्दील कर दिया गया था। पानी, बिजली, खाना, इंटरनेट और सारी बुनियादी आजादी परिसर में ख़त्म कर दी गई थीं। फिर हुआ 22 मार्च का सुनियोजित हमला, जिसमें तेलंगाना की पुलिस ने न केवल छात्रों को बल्कि छात्राओं को भी घसीट-घसीट कर पीटा। कई छात्र अस्पताल में भर्ती हुए। पूरा विश्वविद्यालय युद्धक्षेत्र बना हुआ था, लेकिन राष्ट्रीय मीडिया ने इस खबर को ब्लैकआउट कर दिया था।

ऐसे में वेब पत्रिका ”दि सिटिजन” ने विस्तार से इस घटना पर लीड स्टोरी प्रकाशित की जिसके देखते ही देखते 500 से ज्यादा शेयर हो गए। अचानक 25 मार्च को दिन में ११ बजे के आसपास फेसबुक ने इस स्टोरी का लिंक हटा दिया। इसकी सूचना वेबसाइट की संपादक सीमा मुस्तफा ने इस तरह से दी:

 

IMPORTANT NOTE: Facebook has blocked our lead story, regarding the brutal police beating of HCU PhD scholar Uday Bhanu,…

Posted by Seema Mustafa on Wednesday, March 23, 2016

 

 

दिलचस्प यह रहा कि जितने शेयर मूल खबर के नहीं हुए थे, उससे कहीं ज्यादा शेयर खबर को फेसबुक पर प्रतिबंधित किए जाने के हो गए और वो भी 12 घंटे के भीतर, जिसके दबाव में आकर फेसबुक को रात में उक्त पोस्ट को बहाल करना पड़ा। सीमा मुस्तफा ने इस बारे में दोबारा सूचना जारी की:

 

Thank you all for the support and for sharing the links that we had put out. We have just been told by our tech team…

Posted by Seema Mustafa on Thursday, March 24, 2016

 

 

दुर्भाग्यपूर्ण य‍ह है कि इतने बड़े घटनाक्रम और सोशल मीडिया पर ऐन होली के बीच इतनी हलचल के बावजूद अब तक मुख्यधारा के टीवी चैनलों ने हैदराबाद की ओर से अपनी आंखें मूंद रखी हैं। पूरा मीडिया हैदराबाद युनिवर्सिटी में हुए सरकारी दमन की खबर को छुपाने में लगा था, लेकिन छोटे-छोटे निजी प्रयासों ने सोशल मीडिया पर इस घटना को जिंदा बनाए रखा है।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।