अर्णव के मुँह पर इस्तीफ़ा फेंक चली गई रिपब्लिक पत्रकार ! कहा, हम शर्मिंदा हैं गौरी लंकेश !

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
अभी-अभी Published On :


ठीक उसी वक़्त जब तमाम स्वनामधन्य पत्रकार रिपब्लिक टीवी के रिपोर्टर को डपटने के लिए शेहला राशिद की लानत-मलामत में जुटे हैं, ख़ुद रिपबल्कि टीवी की एक पत्रकार ने बता दिया कि रिपबल्कि टीवी दरअसल क्या है। सुमना नंदी नाम की इस पत्रकार ने चैनल से इस्तीफ़ा दे दिया। वह गौरी लंकेश की हत्या के बाद हो रहे चैनल के कवरेज  और उसके अंदाज़ से बेहद आहत है।

सुमना नंदी के इस क़दम ने विश्वदीपक की याद दिला दी। याद कीजिए जब ज़ी न्यूज़ जेएनयू में हुई भारत विरोधी नारेबाज़ी को लेकर रात दिन तूफ़ान उठाए हुए था तो चैनल के प्रोड्यूसर विश्वदीपक ने इस्तीफ़ा दे दिया था। उन्होंने कहा था कि जिस तरह जेएनयु को बदनाम करने के लिए ज़ी न्यूज़ में ख़बरें गढ़ी जा रही हैं, नकली विज़ुअल तैयार किए जा रहे हैं, उसके बाद उनकी अंतरात्मा ज़ी न्यूज़ में काम करने के लिए धिक्कार रही है। विश्वदीपक के इस्तीफ़े से जुड़ी ख़बर आप यहाँ पढ़ सकते हैं।

सुमना नंदी ने अपने फ़ेसबुक पेज पर अपना दुख साझा किया है। उन्होंने लिखा है-

” मैंने हमेशा उन संस्थानों पर गर्व करती रही जहाँ मैंने पत्रकारिता के अपने छोटे से करियर में काम किया है। लेकिन आज मैं शर्मिंदा हूँ। एक ‘स्वतंत्र’ संस्थान खुलकर एक दुष्ट सरकार के लिए बैटिंग कर रहा है, और पूरी तरह खुल कर !

बीजेपी और आरएसएस के लोगों से धमकी मिलने के बाद एक पत्रकार की ठंडे दिमाग़ से हत्या कर दी गई। लेकिन बजाय क़ातिलों से सवाल पूछने के तुम विपक्ष से सवाल पूछ रहे हो। हमारी निष्ठा कहाँ है ? हम जा किधर रहे हैं। यहाँ तक कि कुछ पत्रकार इस हत्याकांड पर जश्न मना रहे हैं (कि वह ख़ुद इसकी ज़िम्मेदार है)..ओ.. हाँ.. यही सब सऊदी अरब और उत्तर कोरिया में हुआ। कुछ और मौतों के बाद अब ऐसे ही देशों की तरह हो जाएँगे

अगर चौथे खंभे ने अपनी आत्मा बेच दी तो यह समाज कहाँ जाएगा ?

हमने आपको निराश किया है मैडम…मैं बस इतना जानती हूँ कि आप सम्भवत: यहाँ से बहुत-बहुत बेहतर जगह पर होंगी।

पुनश्च : शायद इसका बहुत महत्व ना हो, लेकिन मैंने तय किया है कि मै अपने सी.वी और सोशल मीडिया में रिपब्लिकटीवी को अपने एक नियोक्ता बतौर दर्ज नहीं करूँगी। मुझे इस कपटी संस्थान के साथ जुड़ने के लिए खेद है।

#GauriLankesh



 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।