‘दंगाई’ चैनलों का नाम लेने से डरे राजदीप ! निशाना बनाने वाला ट्वीट हटाया !

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
अभी-अभी Published On :


वरिष्ठ पत्रकार और इंडिया टुडे चैनल के सलाहकार संपादक की राजदीप सरदेसाई ने आज कुछ चैनलों को समाज में विभाजन पैदा करने के लिए निशाना बनाया । उन्होंने जो लिखा उसका आशय कुछ यह था–‘कुछ चैनल समाज में विभाजन पैदा कर रहे हैं। इस पेशे (पत्रकारिता) का हर शख्स जानता है कि वे कौन हैं, लेकिन फिर भी हम ख़ामोश हैं। ऐसे में नेताओं को दोष देने का क्या मतलब है ?”

दैखा जाये तो राजदीप ने वह कहा जिसे समाज का संवेदनशील तबका अरसे से महसूस कर रहा है। लेकिन राजदीप ने इस ट्वीट में दूसरों से जो अपेक्षा की उस पर ख़ुद खरे नहीं उतरे। उन्होंने किसी चैनल का नाम नहीं लिया। ऐसे में आईबीएन 7 में उनके साथ काम कर चुके पत्रकार पंकज श्रीवास्तव समेत कुछ लोगों ने उनसे सीधे सवाल किया–

 

यह कोई बड़ी माँग नहीं थी। राजदीप जिस ख़माशो को निशाना बना रहे थे, उसको तोड़ना उनके लिए मुश्किल नहीं होना चाहिए था। लेकिन राजदीप ने ऐसा कोई साहस दिखाने के बजाय अपना ट्वीट ही हटा लिया। जब इस पर सवाल हुआ तो उन्होंने साफ कहा कि उनमें फ़िलहाल नाम लेने की हिम्मत नहीं है।

 

rajdeep tweet new

इसमें कोई शक नहीं चैनल जिस तरह  समाज को जोड़ने के बजाय सांप्रदायिक विभाजन को हवा देने में जुटे हैं, उस पर मज़बूती से सवाल उठाने की ज़रूरत है। यह सिर्फ़ टीआरपी का मसला नहीं, बल्कि सांप्रदायिक राजनीति को जानबूझकर ताकत देना है। राजदीप जैसे पत्रकार एडिटर्स गिल्ड के अध्यक्ष भी रह चुके हैं, हालात की गंभीरता का उन्हें अंदाज़ा है,  लेकिन अफ़सोस, वे कोई जोख़िम या मोर्चा लेने को तैयार नहीं हैं। इतिहास के इस मोड़ पर यह चुप्पी लंबे समय तक शोर करती रहेगी।

बहरहाल, लोगों ने राजदीप के पाँव पीछे खींचने पर किस कदर सवाल उठाये, यह भी पढ़ लीजिए—

reaction main

reaction 1reaction2reaction 3reaction4


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।