कोटा:102 बच्चों की मौत, सोनिया गांधी ने CM से मांगी रिपोर्ट, विपक्ष का कांग्रेस पर हमला

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
अभी-अभी Published On :


राजस्थान के कोटा में जेके लोन अस्पताल में नवजातों की मौत का सिलसिला नहीं थम रहा है.गत 30-31 दिसंबर काे इस अस्पताल में 9 नवजातों की माैत हुई. दिसंबर माह में नवजाताें की माैत का आंकड़ा 102 तक पहुंच गया.इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने राजस्थान में पार्टी प्रभारी को तलब किया है.

सोनिया गांधी ने राजस्थान में पार्टी प्रभारी और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से इस मामले में जवाब तलब किया है.

इधर केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ.हर्षवर्धन ने कहा है कि केन्द्रीय स्वास्थ्य कल्याण मंत्रालय की एक उच्चस्तरीय दल जिसमें विशेषज्ञ डॉक्टर भी शामिल है, राजस्थान के लिए रवाना हो चुका है. साथ ही केन्द्रीय मंत्री ने इस मामले में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को हर संभव सहायता देने का आश्वासन भी दिया है.

इन आलोचनाओं के बीच मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा है -“जेके लोन अस्पताल, कोटा में हुई बीमार शिशुओं की मृत्यु पर सरकार संवेदनशील है. इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। कोटा के इस अस्पताल में शिशुओं की मृत्यु दर लगातार कम हो रही है. हम आगे इसे और भी कम करने के लिए प्रयास करेंगे.मां और बच्चे स्वस्थ रहें यह हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है.”

इन मौतों के कारण राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार सवालों के घेरे में आग गये हैं. बीएसपी सुप्रीमों मायावती सहित बीजेपी ने कांग्रेस और अशोक गहलोत पर तीखा हमला किया है.

बीएसपी अध्यक्ष ने गुरूवार की सुबह ट्वीट करते हुए कहा कि कांग्रेस शासित प्रदेश राजस्थान के कोटा जिले में 100 बच्चों की मौत की खबर बेहद दर्दनाक और निंदनीय है.

मायावती ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का बिना नाम लिए उन पर भी निशाना साधा है. मायावती ने कहा कि यूपी के पीड़ित परिवारों से मिलने की तरह ही उन्हें राजस्थान में जाकर उन बच्चों की माताओं से भी मिलना चाहिए, जिनकी गोद अब सुनी हो चुकी है.

यहां तक कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने भी कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी पर हमला बोला है !

 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।