प्रेस क्‍लब ऑफ इंडिया, IWPC, प्रेस एसोसिएशन ने UIDAI द्वारा मीडिया के दमन का किया विरोध

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
अभी-अभी Published On :

मार्फन सिन्‍ड्रोम से ग्रसित दिल्‍ली की एक छात्रा एड्या पाल सड़क पर शनिवार को आधार से बाकी सेवाओं को लिंक किए जाने के खिलाफ प्रदर्शन करती हुई


दि ट्रिब्‍यून में आधार डेटाबेस की सुरक्षा खामियों से जुड़ी एक स्‍टोरी के प्रकाशन के बाद यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (यूआइडीएआइ) के एक अफसर द्वारा ट्रिब्‍यून की रिपोर्टर और अखबार पर दर्ज कराई गई एफआइआर पर कड़ी आपत्ति जताते हुए प्रेस क्‍लब ऑफ इंडिया, इंडियन विमेन प्रेस कोर (IWPC) और प्रेस एसोसिएशन ने सामूहिक रूप से इस कदम की कड़ी निंदा की है।

सोमवार को जारी एक संयुक्‍त प्रेस वक्‍तव्‍य में तीनों संस्‍थानों ने कहा है कि आइपीसी, आइटी और आधार कानून के तहत दायर की गई एफआइआर खतरनाक है और यूआइडीएआइ के इस दावे के विरोध में है कि ”बायोमीट्रिक सूचना सहित आधार का डेटा पूरी तरह सुरक्षित है।” सवाल उठाया गया है कि अगर डेटा में कोई सेंध ही नहीं लगी, तो फिर किस अपराध के तहत यह एफआइआर की गई है। आखिर रिपोर्टर का अपराध क्‍या है।

विज्ञप्ति कहती है कि आधार डेटा की खामियों को दुरुस्‍त करने के बजाय अथॉरिटी उन लोगों को दंडित कर रही है जिनके कृत्‍य जनहित में दिखाई देते हैं। विज्ञप्ति के अनुसार यह एफआइआर यूआइडीएआइ की गलत प्राथमिकताओं को दर्शाता है।

वक्‍तव्‍य पर दस्‍तखत करने वाले प्रेस क्‍लब ऑफ इंडिया के अध्‍यक्ष गौतम लाहिड़ी, आइडब्‍लूपीसी की अध्‍यक्ष शोभना जैन और प्रेस एसोसिएशन के अध्‍यक्ष जयशंकर गुप्‍त का कहना है कि यूआइडीएआइ का यह कदम स्‍वतंत्र, निष्‍पक्ष व निर्भीक पत्रकारिता के खिलाफ जाता है और अवरोध पैदा करता है व पत्रकारों को धमकाने के उद्देश्‍य से किया गया है।

वक्‍तव्‍य कहता है, ”हम मांग करते हैं कि यह शिकायत और उससे संबद्ध कार्यवाही को तत्‍काल वापस लिया जाए।”


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।