दो साल पुराने Youtube विडियो पर टिका है India Today का जाली राष्ट्रवाद! गौरव सावंत एक्स्पोज़…

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
अभी-अभी Published On :


India Today समाचार चैनल ने दो साल पुराने यट्यूब वीडियो के सहारे 22 जनवरी की शाम पाकिस्‍तान की ओर से कश्‍मीर में मोर्टार गोलाबारी की खबर चलाई थी। यह चौंकाने वाली खबर आल्‍टन्‍यूज़ वेबसाइट पर अर्जुन सिद्धार्थ ने की है।

India Today के कार्य्रकारी संपादक और कश्‍मीर के मामले में झूठी खबरें फैलाने के लिए कुख्‍यात गौरव सावंत ने प्राइम टाइम प्रोग्राम ‘इंडिया फर्स्‍ट’ में रिपोर्टर अश्विनी से वे तस्‍वीरें दिखाने को कही थीं जो उन्‍होंने पाकिस्‍तानी मोर्टारों की देखी थीं। सावंत की आवाज़ के साथ एक वीडियो चलता है जिसमें पाकिस्‍तानी फौज मोर्टार दाग रही है। परदे के ऊपर बाईं ओर लिखी लोकेशन के मुताबिक यह गोलाबारी पीओके यानी पाकिस्‍तान के कब्‍ज़े वाले कश्‍मीर में कोटली नामक जगह पर की जा रही थी।

रिपोर्टर कहता है, ”आप देख सकते हैं पाकिस्‍तानी फौज को कि वे कैसे नागरिकों का इस्‍तेमाल कर के हमारे नागरिक इलाकों को निशाना बना रहे हैं।”

आल्‍टन्‍यूज़ के मुताबिक उसे नीलेश पुरोहित नाम के शख्‍स ये यह जानकारी मिली कि इंडिया टुडे ने जो वीडियो दिखाया है वह यूट्यूब पर करीब दो साल से उपलब्‍ध है। वीडियो उत्‍तरी वजीरिस्‍तान इलाके में आतंकी समूहों के खिलाफ चलाए गए पाकिस्‍तानी फौज के ऑपरेशन ज़र्ब-ए-अज्‍़ब से जुड़ा है।

यह वीडियो 29 फरवरी 2016 को यूट्यूब पर अपलोड किया गया था जिसे दो लाख बार देखा जा चुका है जबकि इंडिया टुडे उससे जुड़ा ट्वीट 23 जनवरी 2018 को कर रहा है। अगर केवल प्रातिनिधिक प्रदर्शन के लिए ही वीडियो का इस्‍तेमाल किया गया तो यह बात चैनल को बतानी चाहिए थी लेकिन उसने अपनी ज़मीनी रिपोर्ट के सबूत के रूप में इस वीडियो को पेश किया जो विशुद्ध फर्जीवाड़ा है।

Courtesy: AltNews

गौरव सावंत इससे पहले भी देशभक्ति की पीनक में ऐसी गलतियां जानबूझ के कर चुके हैं। इससे पहले मई 2017 में पाकिस्‍तान की ओर से सीमापार गोलीबारी के जवाब में भारत के हमले पर उन्‍होंने एक ट्वीट किया था जो बाद में फर्जी निकला


खबर साभार AltNews 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

Related



मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।