ज़ी न्यूज़ सहित तीन चैनलों के ख़िलाफ मुक़दमा ! जेएनयू फर्ज़ी वीडियो काँड में केजरीवाल सरकार ने की सज़ा देने की माँग!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
अभी-अभी Published On :


केजरीवाल सरकार ने दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाकर ज़ी न्यूज़, न्यूज़ एक्स और इंडिया न्यूज़ के ख़िलाफ कार्रवाई की माँग की है। सरकार का आरोप है कि इन तीनों चैनलों ने 9 फरवरी को जेएनयू में हुए घटनाक्रम का फर्ज़ी वीडियो प्रसारित किया था।

इस मामले में सरकार ने मजिस्ट्रेट से जाँच कराई थी जिसने पाया था कि सात में जेएनयू घटनाक्रम को लेकर प्रसारित सात वीडियो में से तीन को एडिटिंग के ज़रिये भड़काऊ रूप दिया गया था। दिल्ली सरकार ने अदालत से माँग की है कि इन चैलनों पर मुक़दमा चलाकर उन्हें दंडित किया जाये।

शिकायत में तीन चैनलों के मैनेजिंग एडिटर, एडिटर इन चीफ सहित 12 नाम हैं। साथ ही कुछ अनाम लोगों की भूमिका की भी जाँच की माँग की गयी है। हाँलाकि टाइम्स नाऊ का सीधे नाम नहीं लिया गया है लेकिन कहा गया है कि इस चैनल में डिस्कशन के दौरान बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने 17 फरवरी को जेएनयू से जुड़ा फ़र्ज़ी वीडियो अपने इलेक्ट्रानिक डिवाइस से दिखाया था।

सरकार का आरोप है कि चैनलों ने दिल्ली में सांप्रदायिक सद्भाव का माहौल बिगाड़ने के लिए नकली वीडियो तैयार करके प्रसारित किये। इससे कानून-व्यवस्था और दिल्ली की जनता की सुरक्षा को भी ख़तरा पैदा हो गया था।

पटियाला हाउस कोर्ट में इस मामले की सुनवाई सोमवार को होगी। सरकार ने कहा है कि फ़र्ज़ी वीडियो ने लोगों को भड़काया जिसकी वजह से कोर्ट में जेएनयू अध्यक्ष कन्हैया कुमार पर हमला भी हुआ। इस प्रसारण से शांति व्यवस्था को नुकसान पहुँचा। उत्तेजित लोगों की भीड़ जेएनय गेट पर जा पहुँची और बड़ी तादाद में पुलिस बल तैनात करना पडा। इससे देश और उसकी राजधानी दिल्ली की छवि पूरी दुनिया में ख़राब हुई।


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।