‘हे एक्सप्रेस संपादक ! मैंने नहीं कहा कि अलीगढ़ वि.वि. बुरख़ा वाली फ़ैक्ट्री है !’

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
अभी-अभी Published On :


अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रसंघ चुनाव में शिरकत कर रही शरबा तस्नीम ने 9 दिसंबर को रॉयल इनफ़ील्ड पर सवार होकर वोट माँगा। साथ में क़रीब 20 स्कूटर भी थे जिसमें उसके दोस्त सवार थे। मीडिया का ध्यान देना स्वाभाविक था। इंडियन एक्सप्रेस में अंकिता द्विवेदी जौहरी ने इस बाइक रैली को लेकर एक ख़बर फ़ाइल की है। उन्होंने इस सिलसिले में कई लोगों से बात की है। बी.ए.के छात्र शरजील उस्मानी का भी बयान छपा है कि इससे एएमयू की बुरखा पहनने और बीवी बनाने की फैक्ट्री वाली इमेज बदलेगी, जबकि वह राँझना फ़िल्म में बनाई गई छवि का ज़िक्र कर रहे थे। पूरी बात को संदर्भ से काटकर अर्थ का अनर्थ कर दिया गया है। उस्मानी ने फ़ेसबुक पर जो लिखा है, वहाँ यहाँ पेश है-

Sharjeel Usmani

बीती रात इंडियन एक्सप्रेस की एक पत्रकार का फोन आया। उन्होंने पूछा कि विमेंस कॉलेज में लड़कियों ने बुलेट से रैली निकाली थी, आपने देखी थी। हमने कहा हाँ।

दूसरा सवाल पूछती हैं कि क्या कहना है इस रैली के बारे में। हमने कहा कहना क्या है, मीडिया ने एक अलग थलग तस्वीर बना रखी है अमुवि की छात्राओं की इसीलिए आप यह पूछ रही हैं।

सैंकड़ो लड़कियाँ बुलेट चलाती होंगी देश भर में, इसमें नया क्या है। मीडिया तो मीडिया, बॉलीवुड भी कम नहीं है। राँझना पिक्चर में जब हेरोइन को अलीगढ़ पढ़ने भेजा जाता है तो वे अमुवि के विमेंस कॉलेज को बुरखा पहनने वाली बीवी बनाने की फैक्ट्री बोलती हैं। इस रैली से कुछ न हो पाए तो कम से कम यह बुरखा-बीवी वाली इमेज तो ख़त्म ही हो। लड़की ने चुनाव की रैली निकाली थी, वो चुनाव जीती या नहीं हमको नहीं मालूम, राँझना की सोनम कपूर को अलीगढ़ की फैक्ट्री और इस फैक्टरी के प्रोडक्ट्स के बारे में ‘सही’ जानकारी ज़रूर मिल जाएगी।

दो चार और ग़ैर ज़रूरी सवाल थे। सबका जवाब दिया। अगले दिन अख़बार में मेरे बयान के नाम पर यह छपा है। इसमें लिखा है कि हम मानते हैं कि इस रैली से विमेंस कॉलेज की बुरखा पहनने और बीवी बनाने की फैक्ट्री वाली इमेज ख़त्म होगी। बात का पूरा प्रसंग उड़ा दिया। इस कथन से यह मालूम होता है कि जैसे हम खुद ही मानते थे कि यहाँ ऐसा ही है। यही बुरखा-बीवी जैसी इमेज है। यह इमेज बॉलीवुड की एक फ़िल्म में है, इसको पत्रकार ने मेरे नाम से छाप दिया। इमेज तोड़ रहे हैं कि बना रहे हैं, हमको समझ नहीं आया।

आप इडियन एक्सप्रेस में छपी ख़बर यहाँ पढ़ सकते हैं।



 


मीडिया विजिल जनता के दम पर चलने वाली वेबसाइट है। आज़ाद पत्रकारिता दमदार हो सके, इसलिए दिल खोलकर मदद कीजिए। अपनी पसंद की राशि पर क्लिक करके मीडिया विजिल ट्रस्ट के अकाउंट में सीधे आर्थिक मदद भेजें।

मीडिया विजिल से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।