Home पड़ताल मुस्लिम आबादी का हौव्वा : नफ़रत भी,नादानी भी !

मुस्लिम आबादी का हौव्वा : नफ़रत भी,नादानी भी !

SHARE

राजेश प्रियदर्शी

“मुसलमानों के घर मुसलमान पैदा होते हैं और बाक़ियों के घर बच्चे”, कुप्रचार से नाराज़ एक मुसलमान की कही ये बात याद आ गई.

गृह राज्यमंत्री किरन रिजिजू ने चुनावी माहौल में वैसा ही कुछ कहा जैसा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेता अक्सर कहते रहे हैं, उन्होंने ट्वीट किया, ‘हिंदुओं की आबादी घट रही है और अल्पसंख्यक बढ़ रहे हैं.’

हालाँकि रिजूजू का बयान अरूणाचल प्रदेश से जुड़ा है जहाँ पिछले कुछ सालों में ईसाई आबादी काफ़ी तेज़ी से बढ़ी है जिसके बारे में वे चिंता जता रहे थे.

बहरहाल, जनगणना के सबसे ताज़ा आंकड़े बताते हैं कि भारत में हिंदुओं ही नहीं, मुसलमानों, ईसाइयों, बौद्धों, सिखों और जैनों यानी हर समुदाय की आबादी बढ़ने की दर घटी है.

मुसलमानों की आबादी

कुल आबादी में गिरावट-बढ़ोतरी और उसके बढ़ने की दर में बदलाव, दो अलग-अलग चीज़ें हैं. मतलब ये कि भारत में हिंदू और मुसलमान सहित सभी समुदायों की आबादी बढ़ी है, लेकिन सभी समुदायों की जनसंख्या जिस रफ़्तार से बढ़ रही थी उसमें कमी आई है.

दिलचस्प और ज़रूरी सच ये भी है कि पिछले दस सालों में मुसलमानों की जनसंख्या में बढ़ोतरी की दर में, हिंदुओं के मुक़ाबले ज़्यादा बड़ी कमी आई है.

ज़रा ग़ौर करें, 2011 की गिनती के मुताबिक, हिंदुओं की जनसंख्या वृद्धि दर 16.76 प्रतिशत है जबकि 10 साल पहले ये दर 19.92 फ़ीसद थी.

अब इसी तुलना में मुसलमानों की आबादी बढ़ने की दर पर ग़ौर करें जो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुताबिक़ गहरी चिंता का कारण है, देश में पहले मुसलमानों की आबादी 29.5 प्रतिशत की दर से बढ़ रही थी जो अब गिरकर 24.6 फ़ीसद हो गई है.

मतलब ये कि मुसलमानों की आबादी में बढ़ोतरी में तकरीबन पाँच प्रतिशत की गिरावट आई है जबकि हिंदू आबादी के बढ़ने की रफ़्तार करीब तीन प्रतिशत गिरी है.

ये बात बिल्कुल सच है कि परंपरागत तौर पर मुसलमानों की जनसंख्या वृद्धि दर हिंदुओं से अधिक रही है और आज भी 16.76 के मुक़ाबले 24.6 है लेकिन ये डर फैलाना या तो अज्ञान है या फिर षड्यंत्र कि मुसलमान आबादी 2035 तक हिंदुओं से अधिक हो जाएगी.

 

नफ़रत भी, नादानी भी

हिंदू आबादी के बढ़ने की दर में गिरावट अगर मुसलमानों से कम है, और देश में लगभग 97 करोड़ हिंदू हैं तो किस गणित से तकरीबन 17 करोड़ मुसलमान उनसे आगे निकल जाएँगे?

ये साबित करने की कोशिश करना कि मुसलमान जान-बूझकर आबादी बढ़ा रहे हैं या इसके पीछे कोई धार्मिक होड़ है कि वे हिंदुओं से आगे निकल जाएँ, ये नफ़रत भरी नादान सोच का नतीजा है.

वक़्त-ज़रूरत के हिसाब से संघ से जुड़े लोग मुसलमानों की बढ़ती आबादी पर चिंता जताते हैं, कभी इसकी वजह मुसलमान औरतों का दस बच्चे पैदा करना बताया जाता है तो कभी बांग्लादेशी घुसपैठ.

जनसंख्या का दबाव एक गंभीर समस्या है लेकिन संघ से जुड़े लोग सिर्फ़ मुसलमान आबादी को समस्या मानते हैं, तेज़ी से बढ़ती जनसंख्या को नहीं, अगर ऐसा होता तो बार-बार हिंदुओं को अधिक बच्चे पैदा करने की सलाह नहीं देते.

बांग्लादेशी घुसपैठ भी एक वास्तविक समस्या है लेकिन उसे रोकने की कोशिश से ज्यादा ध्यान उसका डर दिखाने पर दिया गया है.

बिहार-उत्तर प्रदेश के हिंदुओं में आबादी बढ़ने की दर, केरल-तमिलनाडु के मुसलमानों की जनसंख्या वृद्धि दर से दोगुना तक अधिक है. तो क्या मान लिया जाए कि इन राज्यों के हिंदुओं ने साक्षी महाराजों की ज्यादा बच्चे पैदा करने की अपील पर अमल किया है?

मुसलमानों में कितना पिछड़ापन ?

केरल की मिसाल से साफ़ समझा जा सकता है, जहाँ दस सालों में मुसलमानों की आबादी सिर्फ़ 12.8 प्रतिशत बढ़ी, जो राष्ट्रीय औसत (17.7) से पाँच प्रतिशत कम, हिंदू जनसंख्या वृद्धि दर (16.7) से चार प्रतिशत कम और मुसलमानों की राष्ट्रीय वृद्धि दर (24.6) का तकरीबन आधा है.

“समस्या जनसंख्या है, मुस्लिम जनसंख्या नहीं”

क्या केरल के मुसलमान कम मुसलमान हैं? दरअसल, जनसंख्या में बढ़ोतरी की दर कई बातों पर निर्भर करती है जैसे महिलाओं की शिक्षा, स्वास्थ्य सेवाओं की हालत और गर्भनिरोधक उपायों का हासिल होना, न कि धर्म पर.

सरकार की फ़ाइलों में बंद नहीं, बल्कि ये खुला सच है कि मुसलमानों में पिछड़ापन है, शिक्षा और रोज़गार का अभाव है जिसका सीधा संबंध जनसंख्या में बढ़ोतरी से है. खेती और हुनर के कामों में लगे परिवारों में ज्यादा बच्चे आम हैं क्योंकि जितने हाथ उतनी कमाई.

क्यों पिछड़े हैं बारत के मुसलमान ?

देश के ज़्यादातर मुसलमान कच्चे घरों में रहते हैं, उनमें साक्षरता की दर हिंदुओं से कम है, सरकारी नौकरियों में उनकी भागीदारी आबादी के अनुपात में बहुत कम है.

आठवीं में पढ़ने वाले जानते हैं कि ये आकंड़े पिछड़ापन और उसके पीछे छिपी उपेक्षा को दिखाते हैं, ये सच बदलना ज़रा मुश्किल काम है. ज्यादा आसान होगा, किताब में बदलाव.

लेखक बीबीसी हिंदी के डिजिटल एडिटर हैं 

17 COMMENTS

  1. whoah this blog is great i love studying your posts. Stay up the good paintings! You realize, a lot of persons are looking round for this information, you can help them greatly.

  2. Thank you so much for giving everyone remarkably terrific possiblity to read critical reviews from this blog. It is often so fantastic and as well , stuffed with fun for me personally and my office acquaintances to search your web site a minimum of three times in 7 days to find out the fresh secrets you have got. And lastly, I’m also actually fulfilled concerning the mind-boggling things served by you. Some 4 areas in this post are in fact the finest I have had.

  3. An intriguing discussion is worth comment. I think which you ought to write extra on this subject, it may not be a taboo topic but typically persons are not enough to speak on such topics. To the next. Cheers

  4. Can I just say what a relief to find somebody who truly is aware of what theyre talking about on the internet. You undoubtedly know methods to bring an issue to light and make it important. Extra folks have to learn this and understand this side of the story. I cant believe youre not more popular since you definitely have the gift.

  5. Thanks for your personal marvelous posting! I genuinely enjoyed reading it, you may be a great author.I will always bookmark your blog and definitely will come back later in life. I want to encourage you continue your great posts, have a nice morning!

  6. Thank you for the sensible critique. Me and my neighbor were just preparing to do some research on this. We got a grab a book from our local library but I think I learned more clear from this post. I’m very glad to see such excellent information being shared freely out there.

  7. Heya i am for the first time here. I found this board and I find It truly useful & it helped me out much. I hope to give something back and help others like you aided me.

  8. Heya i am for the first time here. I came across this board and I to find It truly helpful & it helped me out a lot. I hope to present one thing again and help others like you aided me.

  9. Hi! This is my first visit to your blog! We are a group of volunteers and starting a new initiative in a community in the same niche. Your blog provided us beneficial information to work on. You have done a marvellous job!

  10. Hi! I know this is kinda off topic but I’d figured I’d ask. Would you be interested in trading links or maybe guest authoring a blog article or vice-versa? My website discusses a lot of the same subjects as yours and I feel we could greatly benefit from each other. If you’re interested feel free to send me an e-mail. I look forward to hearing from you! Fantastic blog by the way!

  11. I like what you guys are up also. Such clever work and reporting! Keep up the excellent works guys I have incorporated you guys to my blogroll. I think it’ll improve the value of my website 🙂

  12. I was recommended this web site by my cousin. I am not sure whether this post is written by him as nobody else know such detailed about my difficulty. You are wonderful! Thanks!

  13. whoah this weblog is magnificent i like studying your posts. Keep up the good work! You recognize, many people are searching round for this info, you could help them greatly.

  14. Hello! I just would like to give an enormous thumbs up for the fantastic info you have got here on this post. I might be coming back to your weblog for far more soon.

  15. It is really a great and useful piece of info. I am glad that you shared this helpful information with us. Please stay us up to date like this. Thank you for sharing.

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.