Home पड़ताल ‘गोरखधंधा’ बैन करेगी बीजेपी, पर यह तो नाथपंथियों का चक्र ‘धंधारी’ है...

‘गोरखधंधा’ बैन करेगी बीजेपी, पर यह तो नाथपंथियों का चक्र ‘धंधारी’ है !

SHARE

मनोज सिंह


आज अखबारों में खबर है कि भाजपा ने राजस्थान विधानसभा चुनाव के अपने घोषणा पत्र में तमाम वादों के साथ यह भी वादा किया है कि यदि वह सत्ता में आई तो ‘ गोरखधंधा ’ शब्द को प्रतिबंधित कर दिया जाएगा। घोषणापत्र में यह भी कहा गया है कि ‘ गोरखधंधा ’ शब्द के इस्तेमाल को दंडनीय अपराध बनाया जाएगा।

‘ गोरखधंधा ’ शब्द का आशय लोग आजकल ठगी, जालसाजी से लेते हैं लेकिन कम लोगों को पता है कि गोरखधंधा, नाथ योगियों से जुड़ा हुआ है। दरअसल गोरखपंथी साधू लोहे या लकड़ी एक एक चक्र लिए रहते हैं जिसे धंधारी कहा जाता है। गोरखपंथी साधू इसी धंधारी में कौड़ी या धागे को डालते व बाहर निकालते हैं। लोग उन्हें हैरानी से देखते हैं। इस क्रिया को करने के पीछे यह विश्वास है कि गोरखधंधे से डोरा निकालने से गोरखनाथ की कृपा होती है और वह संसार-चक्र में उलझे प्राणियों को डोरे की भांति भव-जाल से मुक्त कर देते हैं।

‘नाथपंथ: गढ़वाल के परिप्रेक्ष्य में ’ नाम की किताब लिखने वाले विष्णुदत्त कुकरेती ने किताब के एक अध्याय में गोरखपंथी योगियों की वेशभूषा और आहार-विहार पर विस्तार से लिखा है। इसी अध्याय में वह ‘गोरखधंधा’ के बारे में लिखते हैं कि ‘धंधारी एक प्रकार का चक्र है। गोरखपंथी साधू लोहे या लकड़ी की सलाकाओं के हेर-फेर से चक्र बना कर उसके बीच में छेद करते हैं। इस छेद में कौड़ी या मालाकार धागे को डाल देते हैं और फिर मंत्र पढ़कर उसे निकाला करते हैं। बिना क्रिया जाने उस चक्र में से सहसा किसी से डोरा या कौड़ी नहीं निकल पाती। ये चीजें चक्र की सलाकाओं में इस प्रकार उलझ जाती है कि निकलना कठिन पड़ जाता है। जो निकालने की क्रिया जानता है, वह इसे सहज ही निकाल सकता है। यही धंधारी है। लोकभाषा में इसे ‘ गोरखधंधा ’ भी कहते हैं। ’

(मनोज सिंह गोरखपुर न्यूज़ लाइन के संपादक और मीडिया विजिल के सलाहकार मंडल के सम्मानित सदस्य हैं।)

 



 

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.