Home दस्तावेज़ धार्मिक दंगे और उनके समाधान : भगत सिंह

धार्मिक दंगे और उनके समाधान : भगत सिंह

SHARE

अब तो हमारे लोगक्रूरता और विभाजन में अंग्रेज़ों से भी एक कदम आगे निकल चुके हैं। मौजूदा स्थिति में अपने हीं धर्म से ताल्लुक रखने वालों को भी नहीं छोडा जा रहा। यानी उन्माद हमपर इस कदर हावी हो चुका है की किसी भी मतभेद को सुलझाने के बजाए हम उसे सामने वाले इंसान की जान लेने लायक पर्याप्त कारण मान ले रहे हैं। नतीजतन हम एक ऐसा समाज बना रहे हैं जहाँ कोई भी सुरक्षित नहीं है।

कीर्ति के जून 1927 के अंक में प्रकाशित ‘धर्मावर फ़साद ते उन्हा दे इलाज –भगत सिंह

धार्मिक दंगे और उनके समाधान
Religious Riots and Their Solution

1919 में जलियांवाला बाग त्रासदी के बाद, अंग्रेजों ने सांप्रदायिक दंगों को भड़काने के लिए एक बडे तौर पर प्रचार शुरू किया। इसके परिणामस्वरूप 1924 में कोहाट में हिंदू और मुसलमानों के बीच दंगे हुए। इसके बाद, राष्ट्रीय राजनीतिक क्षेत्र में सांप्रदायिक दंगों पर काफी बहस हुई। सभी को इन्हें समाप्त करने की आवश्यकता महसूस हुई, लेकिन यह कांग्रेस के नेता थे जिन्होंने हिंदू और मुस्लिम नेताओं को दंगों को रोकने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर करने का प्रयास किया।

भारत की स्थिति आज वास्तव में दयनीय है। एक धर्म के भक्त दूसरे धर्म के भक्तों के दुश्मन होते हैं। एक धर्म से ताल्लुक रखने वाले को अब दूसरे धर्म का दुश्मन होने के लिए पर्याप्त कारण माना जाता है। यदि इसपर विश्वास करना मुश्किल लगता है, तो आइए हम लाहौर हिंसा के ताजा प्रकोपों को देखें। मुसलमानों ने निर्दोष सिखों और हिंदूओं को कैसे मारा, और जब अवसर आया तो सिखों ने भी उनका बुरा हाल किया। यह कत्लेआम इसलिए नहीं किया गया क्योंकि एक विशेष व्यक्ति ने अपराध किया था, बल्कि इसलिए कि एक विशेष व्यक्ति हिंदू या सिख या मुसलमान है। बस एक व्यक्ति के सिख या हिंदू होने का तथ्य उसके लिए एक मुसलमान द्वारा मारे जाने के लिए पर्याप्त है, और उसी तरह, केवल मुसलमान होना हिंदूओं या सिखों द्वाराउसके जीवन को लेने के लिए पर्याप्त कारण है। यदि यह स्थिति है, तो अब भगवान हिं हिंदुस्तान की मदद कर सकते हैं!

इन शर्तों के तहत हिंदुस्तान का भविष्य बहुत अंधकारमय लगता है। इन ‘धर्मों’ ने देश को बर्बाद कर दिया है। और किसी को भी पता नहीं है कि ये धार्मिक दंगे कब तक हिंदुस्तान की दुर्दशा करेंगे। इन दंगों में दुनिया की नज़र हिंदुस्तान पर है। और हमने देखा है कि कैसे सभी को अंध विश्वास के ज्वार पर ले जाया जा चुका है। कोई ऐसा हिंदू, मुस्लिम या सिख बहुत दुरलभ है जो शांत दिमाग रख सकता है;ज़्यादातर लाठी, तलवार और चाकू लेकर एक दूसरे को मारने लग जाते हैं। जो लोग मौत से बच जाते हैं, वे या तो फांसी पर चढ़ जाते हैं या जेल में डाल दिए जाते हैं। इतने खून-खराबे के बाद, इन ’धार्मिक’ लोगों को अंग्रेजी सरकार के बैटन के अधीन किया जाता है, और उसके बाद ही वे अपने होश में आते हैं।

जहां तक हमने देखा है, इन दंगों के पीछे सांप्रदायिक नेता और अखबार हैं। इन दिनों भारतीय नेताओं ने ऐसा शर्मनाक आचरण प्रदर्शित किया है कि कुछ न कहना हीं बेहतर है। ये वही नेता हैं जिन्होंने खुद को स्वतंत्रता जीतने के लिये मनोनीत कर लिया है और जो“कॉमन नेशनलिटी”और“सेल्फ रूल..” के नारे लगाने से नहीं चूकते। अप्र अब खुद को छुपा रहे हैं। और इस ज्वार में बह रहा हैं धार्मिक अंधापन। ऐसे में जब कोई सतह को खरोंचता है तो खुद को छिपाने वाले लोगों की संख्या बहुत कम है। लेकिन सांप्रदायिक आंदोलन में शामिल होने वाले नेताओं को सैकड़ों में पाया जा सकता है । ऐसे बहुत कम नेता हैं जो अपने दिल से नीचे के तबकों के लोगों के लिये कल्याण की कामना करते हैं। सांप्रदायिकता इतने बड़े प्रलय की तरह आ गई है कि वे इसे सहन नहीं कर पा रहे हैं। ऐसा प्रतीत होता है जैसे भरत का नेतृत्व दिवालिया हो गया है। दूसरे लोग जिन्होंने सांप्रदायिक दंगों को भड़काने में विशेष भूमिका निभाई है, वे अखबार और मीडिया के लोग हैं।

पत्रकारिता का पेशा, जो एक समय बहुत उच्च दर्जे का था, अब बहुत गंदा हो चुका है। ये लोग प्रमुख भड़काऊ सुर्खियों को छापते हैं और एक-दूसरे के खिलाफ लोगों के जुनून को भड़काते हैं, जिससे दंगे होते हैं। सिर्फ एक या दो स्थानों पर नहीं, बल्कि कई स्थानों पर दंगे हुए हैं क्योंकि स्थानीय पत्रों में बहुत अपमानजनक निबंध लिखे गए हैं। कुछ लेखक अपनी पवित्रता बनाए रखने में सक्षम हैं और ऐसे दिनों में शांत रहते हैं।
समाचार पत्रों का वास्तविक कर्तव्य शिक्षा प्रदान करना, लोगों में संकीर्णता को मिटाना, सांप्रदायिक भावनाओं को समाप्त करना, आपसी समझ को प्रोत्साहित करना और एक सामान्य भारतीय राष्ट्रवाद का निर्माण करना था। लेकिन उन्होंने अपने मुख्य व्यवसाय को अज्ञानता फैलाने, संकीर्णता का प्रचार करने, पूर्वाग्रह पैदा करने, दंगों को जन्म देने और भारतीय आम राष्ट्रवाद को नष्ट करने के लिए बदल दिया है। यही कारण है कि भरत की वर्तमान स्थिति में हमारी आंखों से रक्त के आंसू बहते हैं और हमारे दिल में जो सवाल उठता है – ‘हिंदुस्तान का क्या होगा?’

लोगों को एक-दूसरे से लड़ने से रोकने के लिए वर्ग-चेतना महत्वपूर्ण है। गरीब श्रमिकों और किसानों को यह स्पष्ट रूप से समझना चाहिए कि उनके असली दुश्मन पूंजीवादी हैं, इसलिए उन्हें सावधान रहना चाहिए कि वे उनके जाल में न पड़ें। दुनिया के सभी गरीब लोगों – उनकी जाति, नस्ल, धर्म या राष्ट्र जो भी है – उनके समान अधिकार हैं। यह आपके हित में है कि धर्म, रंग, नस्ल और राष्ट्रीयता के आधार पर सभी भेदभाव को समाप्त किया जाए और सरकार की शक्ति आपके हाथों में ली जाए। ये प्रयास आपको किसी भी तरह से नुकसान नहीं पहुंचाएंगे, बलकि एक दिन आपकी बेड़ियों को काट देंगे और आपको आर्थिक आजादी मिलेगी।
जो लोग रूस के इतिहास से परिचित हैं, वे जानते हैं कि ज़ार के शासन के दौरान वहां इसी तरह की स्थितियां थीं। कई समूह थे जो एक दूसरे को नीचे खींचते रहे। लेकिन जिस दिन से श्रमिक क्रांति हुई, उस स्थान का नक्शा बदल गया। तब से वहां कभी दंगे नहीं हुए। अब सभी को वहांइंसान ’माना जाता हैकेवल सदस्य नहीं।ज़ार के समय में लोगों की आर्थिक स्थिति बहुत दयनीय थी और इसके कारण दंगे भड़क उठते थे। लेकिन अब जब रूसियों की आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ है और उन्होंने वर्ग-चेतना विकसित की है, तो वहाँ से किसी भी दंगे के बारे में कोई खबर नहीं है।

हालाँकि इस तरह के दंगों के बारे में दिल चीर देने वाले व्याख्यान सुनने को मिलते हैं पर फिर भी कलकत्ता के दंगों के बारे में कुछ सकारात्मक सुना। ट्रेड यूनियनों के श्रमिकों ने न तो दंगों में भाग लिया और न ही एक-दूसरे के साथ मारपीट करने आए; दूसरी ओर, सभी हिंदू और मुसलमान “मिलों” में एक दूसरे के प्रति सामान्य व्यवहार करते थे और यहां तक कि दंगों को रोकने की भी कोशिश करते थे। ऐसा इसलिए है क्योंकि उनमें वर्ग-चेतना थी और वे पूरी तरह से पहचानते थे कि उनकी कक्षा को किस बात से क्या लाभ होगा। यह वर्ग-चेतना का सुंदर मार्ग हीं है जो सांप्रदायिक दंगों को रोक सकता है।


अनुवाद : सूर्यकांत सिंह

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.