Home काॅलम त्रिशंकु लोकसभा 2019: तीन संभावनाएं और स्‍पीकर के चुनाव की पहली बाज़ी

त्रिशंकु लोकसभा 2019: तीन संभावनाएं और स्‍पीकर के चुनाव की पहली बाज़ी

SHARE

पांच चरण के चुनाव के बाद रुझान और ज़्यादातर विश्लेषण बता रहे हैं कि एनडीए और यूपीए दोनों ही अपनी संख्या के दम पर बहुमत का आंकड़ा पार करने में सफल नहीं होंगे. ऐसी स्थिति में राष्ट्रपति और लोकसभा के स्पीकर दोनों की ही भूमिका सबसे अहम होगी.

त्रिशंकु लोकसभा में असली किंग मेकर क्षेत्रीय पार्टियां होंगी जो एनडीए और यूपीए के बाहर हैं. इनमें प्रमुख हैं उत्तर प्रदेश का एसपी-बीएसपी गठबंधन, ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस, चन्द्रबाबू नायडू की तेलुगू देसम, जगन रेड्डी की वाईएसआर कांग्रेस, नवीन पटनायक की बीजेडी. ये ब्लॉक इतना बड़ा होगा कि दोनों में से किसी भी गठबंधन की 200 सीटें मिलने पर भी बहुमत का आंकड़ा पार लगा देगा.

पहली संभावना

एनडीए अगर 200 या उससे कुछ ऊपर रहती है और सबसे बड़े चुनाव पूर्व गठबंधन के रूप में उभरती है तब राष्ट्रपति नरेंद्र मोदी को सरकार बनाने और सदन में बहुमत सिद्ध करने का न्योता दे सकते हैं (एनडीए के अंदर मोदी के संसदीय दल का नेता चुने जाने में दिक्कत नहीं आयेगी). हालांकि जिस वक़्त राष्ट्रपति ये फैसला कर रहे होंगे उस वक़्त उनके पास दूसरे विकल्प और क्षेत्रीय पार्टियों के समर्थन पत्र पहुंच चुके होंगे जिसकी संख्या एनडीए से ज्यादा होगी. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से अपेक्षा है कि वे स्थिर सरकार की अवधारणा, बोम्मई केस की गाइडलाइन और स्वास्थ्य परंपराओं का निर्वाह करेंगे. लेकिन जिस तरह मोदी के शासनकाल में उच्च संवैधानिक संस्थाओं में गिरावट आई है उससे इस आशंका को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता है कि राष्ट्रपति नियमों और परंपराओं को दरकिनार कर मोदी को सरकार बनाने का न्योता देने की गुंजाइश तलाशेंगे.

दूसरी संभावना

यूपीए यानि कांग्रेस, एनसीपी, आरजेडी और उसके घटक डीएमके, नेशनल कॉफ्रेंस अगर सबसे बड़े चुनाव पूर्व गठबंधन के रूप में उभरते हैं तब राष्ट्रपति इस गठबंधन को सरकार बनाने का न्योता देने के लिए बाध्य होंगे. संख्या अगर इतनी आती है तो यूपीए के बाहर के दल जैसे एसपी-बीएसपी गठबंधन, तृणमूल कांग्रेस, तेलुगू देसम पार्टी जैसे दल जिन्होने मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ा इसी खेमे से जुड़ेंगे और राष्ट्रपति भवन जाने से पहले नेता का भी चुनाव करेंगे. नेता कांग्रेस का होगा या किसी क्षेत्रीय पार्टी से ये कांग्रेस की संख्या पर निर्भर करेगा.

तीसरी संभावना

पहली संभावना के तहत अगर राष्ट्रपति मोदी को सरकार बनाने और बहुमत सिद्ध करने का मौका देते हैं तब दोनों गठबंधन के बाहर के क्षेत्रीय दलों की भूमिका अहम होगी. अमूमन सभी बड़े क्षेत्रीय दल मोदी को प्रधानमंत्री के रूप में स्वीकार नहीं करेंगे और विश्वास मत में खिलाफ वोट करके सरकार को गिरायेंगे. इसके बाद आगे की कार्यवाही दूसरी संभावना के मुताबिक चलेगी. इसे भी तय माना जाये कि मोदी-शाह पैसे के बल पर इन क्षेत्रीय दलों में तोड़फोड़ की कोशिश करेंगे.

स्पीकर का चुनाव अगली सरकार भी तय करेगा

तीनों ही संभावनाओं में राष्ट्रपति के न्योते के बाद गेंद लोकसभा के पाले में होगी और इसमे सबसे अहम किरदार स्पीकर का होगा. सत्रहवीं लोकसभा बैठने के बाद सबसे पहला काम होगा नए सदस्यों को शपथ और स्पीकर का चुनाव. ये प्रोटेम स्पीकर की देखरेख में होगा है जो सबसे वरिष्ठ लोकसभा सदस्य बनता है.

यहीं पर यूपीए और क्षेत्रीय दलों को होशियारी से काम लेना है. यूपीए की रणनीति होनी चाहिए कि किसी भी सूरत में बीजेपी या एनडीए का स्पीकर न बनने पाये. बेहतर होगा कि कि स्पीकर की पोस्ट कांग्रेस अपने घटक दल या क्षेत्रीय दल को प्रस्तावित कर दे. विपक्ष अगर अपना स्पीकर चुनवाने में कामयाब हो जाता है तो अगली सरकार की बाजी उसके हाथ में होगी.

स्पीकर विपक्ष से आयेगा तो क्षेत्रीय पार्टियों में तोड़फोड़ की संभावना भी कम होगी क्योंकि दल बदल विरोधी कानून के मुताबिक अलग गुट को मान्यता स्पीकर ही देता है.


लेखक वरिष्‍ठ पत्रकार हैं। यह लेख फेसबुक पोस्‍ट से साभार प्रकाशित है।

2 COMMENTS

  1. 70 सालों से देश में टाटा बिरला ,अंबानी अडानी की सरकारें बन रही हैं और उनका काम भारत की जनता के द्वारा चुनी हुई विधायिका नहीं बल्कि कार्यपालिका (यानी अफसर ,बाबू ,आई पी एस, आई ए एस, डी आई जी डी एम, एस एस पी ,सचिव, मुख्य सचिव, मंत्री, मुख्यमंत्री )द्वारा चलता है । इन सब के चुनाव में जनता की कोई भी भूमिका नहीं होती । यही पूंजीवादी लोकतंत्र की खूबसूरती है ।23 मई को भी यही होना है । अगर सीपीएम , सीपीआई की सरकारें भी बनेंगी तो नंदीग्राम सिगुर और फिर तमाम औद्योगिक क्षेत्रों मारुति से होंडा तक, उत्तराखंड से उत्तर प्रदेश तक, और तमिलनाडु से राजस्थान तक तमाम औद्योगिक क्षेत्रों मे दमन का चक्र दोहराया जाएगा । इस बार माले भी साथ होगी ।
    http://www.rupe-india.org/35/wsfmumbai.html

  2. सिकंदर हयात

    आतिशी जी रो पड़ी ज़रा सोचिये की केजरीवाल अन्ना आंदोलन फिर आप पार्टी ने सत्ता से बाहर किया कांग्रेस को बेड़ागर्क किया कांग्रेस का केंद्र में सत्ता में मदद मिली भाजपा को फिर भी टोटल भाजपाई आखिर केजरीवाल और आप के ही इतने खून के प्यासे टाइप क्यों हे पूर्ण राज्य तक नहीं सिर्फ एक बड़ी नगरपालिका का मुख्यमंत्री टाइप ही फिर भी आखिर क्यों केजरीवाल आप वालो का नाम सुनते ही इनके नाक कान etc में से धुआँ निकलता हे क्यों ह—-मी गेंडा mk क्यों रोज़ केजरीवाल के अश्लील घिनोने कार्टून बनाता हे क्यों — ? इतनी नफरत माया अखिलेश ममता आदि से भी नहीं हे यहाँ तक की मुस्लिम नेताओ से भी नहीं हे जितनी केजरी और आप से हे — ? इसकी वजह जानिये मेने कई पोस्ट लिख कर बताया था की इंसान कितना फितरती प्राणी हे और बुरे छोड़िये भले बहुत भले तक अपना पैसा वही देते हे जहा उन्हें किसी न किसी न किसी रूप में रिटर्न अवश्य दिखाई दे वो चाहे कितने डीप या मरने के बाद का ही क्यों न हो लोग पैसे वही देते हे जहा इन्वेस्टमेंट पर रिटर्न हो तो ये हाल तो भले लोगो का हे मेरे चारो तरफ भले और काबिल लोग हे मगर कभी किसी ने हमारे लेखन विचार और वैचारिक समजसेवा में हेल्प नहीं की क्योकि उन्हें इसमें अपने खुद के लिए कोई रिटर्न नहीं दीखता हे तो जब ये हाल हे भले लोगो का हे तो फिर बुरे लोग वो भी सबसे बुरे लोग भाजपाइयों की तो बात ही क्या , भजपाई केजरीवाल के इसलिए खून के प्यासे हे की उन्हें बीस से भी अधिक साल हो गए हे दिल्ली राज्य में सत्ता से बाहर पड़े पड़े यानी दिल्ली में इन्वेस्ट करते करते और रिटर्न केजरीवाल के कारण नहीं हो पा रहा हे आगे भी चांस कम हे इसलिए अपने इन्वेस्टमेंट पर रिटर्न ना मिलने से भजपाई केजरीवाल और आप के लिए भेड़िये टाइप हुए जा रहे हे जब भले लोग तक रिटर्न के प्यासे हे तो फिर ये तो होना ही हे—————————————————आतिशी जी रो पड़ी ये तो होना ही था इन बईमानों मक्कारो से लड़ना बेहद कठिन हे वो भी भले लोग जो सवेदनशील होते ही हे हमारे यहाँ तीन बेहद काबिल लड़के जो ऊपर से बेहद टफ भी लगते थे वक्त पड़ने पर तीनो की बेहद कमजोरी मेने बहुत करीब से देखी में फिर कहता हु इन बईमानों से सिर्फ हम जैसे लोग भिड़ सकते हे और कोई रिज़ल्ट दे सकते हे अनयथा और कोई भले लोग तो बिलकुल नहीं वो सिर्फ इतनी समाजसेवा कर सकते हे की गरीब शोषित जमात की साँसे चलती रहे बस , इतना तो शोषक वर्ग भी चाहता हे सिर्फ और सिर्फ हम जैसे लोग इन बेईमानो से लड़ भिड़ सकते हे और कोई रिज़ल्ट निकाल सकते हे और कोई नहीं हम जैसे लोग यानी जो टफ भी हो भले भी हो थोड़े वैचारिक भी हो जिन्हे हालात की राजनीति की समझ हो जो ना आस्तिक हो ना नास्तिक हो और बाल बच्चे भी जिनके न हो तो बेहतर हे औलाद कमजोरी होती हे हर इंसान की खासकर छोटे बच्चे बस दिक्कत ये हे की पैसा नहीं हे हमारे पास जो की नेचुरल हे पैसा होता तो हमारी भी आराम की जिंदगी होती फिर हम टफ न होते जबकि पहली जरुरत टफ होने की हे

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.