Home वीडियो तेरह मिनट के भाषण से समझिए मीडिया के युद्धप्रेम के पीछे की...

तेरह मिनट के भाषण से समझिए मीडिया के युद्धप्रेम के पीछे की असल राजनीति

SHARE

ठीक हफ्ते भर पहले दिल्‍ली में मीडियाविजिल के आयोजन में वरिष्‍ठ पत्रकार प्रशांत टंडन ने एक घटना का जि़क्र किया था जब वे किसी कॉलेज में व्‍याख्‍यान देने गए थे। उनसे एक छात्र ने संदर्भ से हटकर सवाल पूछा कि तीसरा विश्‍व युद्ध कब होगा। उन्‍होंने उस छात्र से कहा- हम तीसरे विश्‍व युद्ध के बीच में हैं लेकिन यह युद्ध कम्‍युनिकेशन के औज़ारों से लड़ा जा रहा है।

संयोग नहीं है कि देश के ‘सबसे तेज़’ टीवी चैनल आज तक ने 13 मई से विश्‍व युद्ध का एलान कर दिया। जिस तरीके से बिना संदर्भ के आज तक ने रैन्‍समवेयर नामक वायरस के कंप्‍यूटर नेटवर्कों पर हमले की घटना पर ट्वीट किया- तीसरा विश्‍व युद्ध शुरू- उससे कोई भी दर्शक हैरान-परेशान हो जाएगा। वरिष्‍ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने आज तक के स्‍क्रीन शॉट को शेयर करते हुए लिखा:

सवाल उठता है कि मीडिया की युद्ध में इतनी दिलचस्‍पी क्‍यों है? इसका जवाब हमें प्रशांत टंडन के 6 मई वाले व्‍याख्‍यान में मिलता है जिसमें वे बताते हैं कि कैसे आज हथियारों के डीलर ही मीडिया के मालिक बन बैठे हैं। पूरा व्‍याख्‍यान नेशनल दस्‍तक के वीडियो में सुनिए और समझिए कि मीडिया को विश्‍व युद्ध इतना प्‍यारा क्‍यों है।