Home पड़ताल आज तक न्यूज़रूम : अज्ञान के आनंदलोक में आत्मविश्वास के अंडे !

आज तक न्यूज़रूम : अज्ञान के आनंदलोक में आत्मविश्वास के अंडे !

SHARE

यह वीडियो ऐतिहासिक है। हिंदी का नंबर वन और ‘सबसे तेज़’ चैनल आज तक के न्यूज़रूम में स्टार एंकर श्वेता सिंह और चंद दूसरे पत्रकारों की बातचीत का यह वीडियो बताता है कि क्यों न्यूज़ चैनलों से अज्ञान और अंधविश्वास की बारिश होती है। पिछले दिनों दो हज़ार के नोट में नैनो चिप होने की अफ़वाह फैलने में चैनलों का बड़ा हाथ था। ज़रूरत थी इस ख़बर की पड़ताल की, लेकिन ऐसा करने के बजाय चैनल नैनो चिप की टेक्नोलॉजी पर ज्ञान झाड़ने लगे। यह कहना मुश्किल है कि यह वीडियो आज तक के प्रसारण का हिस्सा है या फिर एंकर श्वेता सिंह के रियाज़ का, लेकिन इससे टीवी के स्टार ऐंकरों और पत्रकारों की दिमाग़ी हालत का पता ज़रूर चलता है। श्वेता सिंह का ‘आत्मविश्वास’ क़ाबिले ग़ौर है..देखिये—

 

 

 

10 COMMENTS

  1. मीडिया विजिल बहुत बढ़िया काम कर रहा है। मैं रविश कुमार जी के समाचार के अंदाज को भी खूब प्हसैंड करता हूँ। आप  खुद को पत्रकारिता के झूठ को पर्दाफाश करने वाला बताता है। लेकिन मेडिया विगिल जी मैंने आपके अनेक आर्टिकल पड़ने के बाद जो निष्कर्ष निकाला है वह यह है कि यह मीडिया विगिल NDTV और इसके समर्थित कुछ नया चैनलों का समर्थक वेबसाइट है । NDTV के समाचार के गलत हो जाने पर आप लोग चर्चा नहीं करते हो। JNU कैंपस में पकिस्तान जी जिंदाबाद के नारे लगे थे या नहीं?  इस बात की सच्चाई आने के बाद  तो आप लोग शाँत हो जाते हो। पाकिस्तान और बांग्लादेश में आज़ादी के समय " हिंदुओं की आबादी कितनी थी और आज इतनी कम क्यों है ", कश्मीरी पंडित आज तक कैसी जिंदगी जी रहे है और इसका जिम्मेवार कौन है?  क्या यह विषय आपलोगो या आप जैसे  मीडिया वालों का नहीं है?  यह सब विषय किसका है?  आपलोग इन सभी विषयों पर बात क्यों नहीं करते है और सिर्फ इसके विरोधी पक्ष को दिखने में लगे रहते है? वह रे सच्ची पत्रकारिता? 

  2. Ich finde es auch erschreckend. Für mich ist es klar dass es Anweisungen geben muss diese Sachen zu vertuschen. Auch wenn jedesmal das Gegenteil behauptet wird. Ich kann unseren Politikern und auch der Polizei nicht mehr vertrauen. Ich denke damit bin ich nicht allein. Wie lange kann ein sogenannter demokratischer Staat bestehen dem so ein Misstrauen entgegengebracht wird?

  3. fantastic submit, very informative. I ponder why the other specialists of this sector don’t notice this. You must continue your writing. I am sure, you have a huge readers’ base already!

  4. You really make it appear really easy together with your presentation but I in finding this matter to be really one thing that I feel I’d by no means understand. It kind of feels too complex and extremely huge for me. I am taking a look forward on your next submit, I’ll attempt to get the hold of it!

  5. I wanted to put you one little observation to thank you over again with the striking information you’ve contributed above. It has been certainly seriously generous of people like you to offer openly precisely what numerous people might have advertised for an electronic book in making some profit for their own end, even more so considering that you might well have tried it if you considered necessary. The inspiring ideas in addition served to become a good way to realize that other individuals have the same fervor the same as my very own to figure out significantly more regarding this issue. I think there are a lot more enjoyable times up front for individuals that start reading your blog.

  6. I’m impressed, I ought to say. Definitely hardly ever do I encounter a blog that’s each educative and entertaining, and let me tell you, you might have hit the nail on the head. Your notion is outstanding; the issue is some thing that not enough folks are speaking intelligently about. I am pretty pleased that I stumbled across this in my search for some thing relating to this.

  7. Hi my loved one! I want to say that this post is awesome, great written and include approximately all important infos. I’d like to see extra posts like this .

  8. Usually I do not read post on blogs, but I would like to say that this write-up very forced me to try and do it! Your writing style has been surprised me. Thanks, quite nice post.

  9. Buenas! Parece ser que con la última versión había un problema. No sé si lo han solucionado ya, pero haciendo un opkg upgrade se arrelga (eso sí, lleva un buen rato). El problema es cosa del kernel pero actualizando se arregla.

LEAVE A REPLY