Home टीवी क्या अदालत दीपक चौरसिया के इस अपराध का संज्ञान लेगी?

क्या अदालत दीपक चौरसिया के इस अपराध का संज्ञान लेगी?

SHARE

राष्ट्रवाद पर पिछले महीने खड़ी हुई बहस की धूल को झाड़कर सारी दुनिया आगे बढ़ चुकी है, लेकिन इंडिया न्यूज़ के दीपक चौरसिया अब भी नहीं मान रहे। सबूत की चाह में एक रात इंडिया न्यूज़ के दफ्तर आकर दिल्ली पुलिस खाली हाथ लौट चुकी है, उन्‍हें झाड़ लगा चुकी है, फिर भी दीपक चौरसिया नहीं मान रहे। मंगलवार की रात नौ बजे इंडिया न्यूज़ ने जेएनयू प्रकरण पर वामपंथी छात्र संगठनों और एबीवीपी के सदस्यों के बीच एक खुली बहस आयोजित करवायी जिसमें ब्रेक पर जाने और वापस आने के लिए एक बेहद आपत्तिजनक ग्राफिक प्लेट चलायी गई। प्रोग्राम का पहला हिस्सा ख़त्म होते ही ब्रेक पर जाने से पहले जो तस्वीर परदे पर उभरी, उसमें कन्हैया, अनिर्बन और उमर खालिद की तस्वीरों के ऊपर एक सवाल लिखा था, ”देशद्रोही कौन?”

यह तस्वीर आपत्तिजनक ही नहीं बल्कि आपराधिक भी थी क्योंकि एक दिन पहले ही दिल्ली पुलिस अदालत के सामने स्‍वीकार कर चुकी है कि कन्हैया के खिलाफ़ उसके पास कोई वीडियो नहीं है जिसमें उसे देशद्रोही नारे लगाते दिखाया जा सके। इस बयान पर अदालत ने पुलिस को आड़े हाथों लिया था। सबसे बड़ी बात ये है कि अब तक तीनों छात्र रिमांड पर हैं और किसी के खिलाफ चार्जशीट तैयार नहीं हुई है। ऐसे में प्राइम टाइम पर जनता के सामने यह सवाल रखना कि तीनों में ”देशद्रोही कौन” है, न्यायिक प्रक्रिया का खुला मज़ाक है।

विडंबना यह भी है कि कार्यक्रम में मॉडरेटर की भूमिका में बैठे दीपक चौरसिया ने दोनों राजनीतिक धाराओं के चार-चार छात्रों के जिस समूह के बीच कुछ सवालों पर बहस करवायी, उसका इस सवाल से कोई लेना-देना नहीं था कि ”देशद्रोही कौन” है। यह सवाल समूचे कार्यक्रम में उन्होंने एक बार भी नहीं पूछा, जिससे पता लगता है कि यह आपराधिक सवाल केवल दर्शकों को कार्यक्रम देखने के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से ग्राफिक में लिखा गया था।

कार्यक्रम भी कोई खास निष्पक्ष नहीं रहा। मॉडरेटर चौरसिया ने दोनों समूहों को हर सवाल के जवाब के लिए दो मिनट का वक़्त दिया था। दो सवाल बीतते ही अचानक एबीवीपी के छात्रों के दो मिनट पूरा करने पर बज़र नहीं बजा और वे बोलते रह गए। बाद में जब वामपंथी संगठनों के छात्रों ने यह बात उठायी कि दूसरे समूह को ज्यादा वक़्त दिया गया है, तो चौरसिया ने पलट कर पहले तो उनसे इसका ”सबूत” मांगा और फिर उनके ऊपर यह आरोप मढ़ दिया कि उन्होंने ही इस बहस को ”फ्री फॉर ऑल” किया है।

बहस के आधा ख़त्म होने से पहले ही वामपंथी छात्र संगठन के सदस्य लगातार एक बात दुहरा रहे थे कि मामला अदालत में हैं और यहां बैठ कर उन सबको तीनों छात्रों का मीडिया ट्रायल करने का कोई हक नहीं है। इस बात को बार-बार कहा गया, लेकिन चौरसिया का कहना था कि वे केवल बहस करवा रहे हैं, कोई फैसला नहीं दे रहे हैं।

कार्यक्रम के अंत में भी ग्राफिक पर लिखे भडकाऊ सवाल का कोई जिक्र नहीं हुआ बल्कि चौरसिया ने केवल इतना कहा कि यह जनता के ऊपर है कि वह दोनों विचारधाराओं में से किसे रहने देना चाहती है, दोनों को या फिर किसी तीसरी विचारधारा को चुनती है। मतलब साफ़ था कि बहस विचारधारा पर करवायी गई लेकिन टीआरपी के लिए तीनों छात्रों के चेहरे और उकसाने वाले एक सवाल के ज़रिए ग्राफिक से एक ऐसी पहेली गढ़ी गई जिसे देखकर किसी भी दर्शक को एकबारगी यह भ्रम हो जाता कि शायद आज इस सवाल का जवाब मिलने वाला है कि तीनों में से असली ”देशद्रोही कौन” है।

मामला अदालत में पहुंचने के बाद अगर टीवी पर इस किस्म की चेहरा-पहेली बुझायी जा रही है, तो इसे मीडिया ट्रायल जैसे नरम शब्द से आगे जाकर अदालत की अवमानना कहना उपयुक्त होगा। क्या अदालतें जनता की इस स्वयंभू अदालत और जज का संज्ञान लेंगी?

 

22 COMMENTS

  1. magnificent issues altogether, you just gained a new reader. What may you recommend about your submit that you just made some days ago? Any positive?

  2. F*ckin’ awesome issues here. I am very happy to look your article. Thank you a lot and i am having a look forward to contact you. Will you kindly drop me a e-mail?

  3. Fantastic blog! Do you have any recommendations for aspiring writers? I’m hoping to start my own site soon but I’m a little lost on everything. Would you propose starting with a free platform like WordPress or go for a paid option? There are so many choices out there that I’m totally confused .. Any ideas? Kudos!

  4. Do you have a spam problem on this site; I also am a blogger, and I was wanting to know your situation; many of us have developed some nice practices and we are looking to exchange strategies with other folks, why not shoot me an e-mail if interested.

  5. Pretty part of content. I just stumbled upon your website and in accession capital to assert that I acquire actually enjoyed account your weblog posts. Anyway I’ll be subscribing to your augment or even I success you get admission to consistently rapidly.

  6. Can I simply say what a reduction to search out somebody who truly knows what theyre talking about on the internet. You undoubtedly know learn how to deliver a problem to mild and make it important. More folks need to learn this and perceive this side of the story. I cant imagine youre no more standard because you positively have the gift.

  7. Oh my goodness! an amazing article dude. Thank you Nonetheless I’m experiencing situation with ur rss . Don’t know why Unable to subscribe to it. Is there anyone getting identical rss drawback? Anyone who knows kindly respond. Thnkx

  8. Oh my goodness! an amazing article dude. Thanks Nonetheless I’m experiencing situation with ur rss . Don’t know why Unable to subscribe to it. Is there anybody getting similar rss problem? Anybody who is aware of kindly respond. Thnkx

  9. My brother suggested I might like this web site. He was entirely right. This post actually made my day. You cann’t imagine simply how much time I had spent for this info! Thanks!

  10. Excellent beat ! I wish to apprentice at the same time as you amend your web site, how can i subscribe for a weblog website? The account aided me a appropriate deal. I have been a little bit acquainted of this your broadcast provided bright transparent idea

  11. I like the valuable info you provide in your articles. I’ll bookmark your blog and check again here frequently. I’m quite sure I will learn many new stuff right here! Best of luck for the next!

  12. Pretty nice post. I just stumbled upon your blog and wanted to say that I’ve truly enjoyed surfing around your blog posts. After all I will be subscribing to your feed and I hope you write again very soon!

  13. Hello there, I found your web site via Google while looking for a related topic, your web site came up, it looks good. I have bookmarked it in my google bookmarks.

  14. Hi there, You have done an incredible job. I will definitely digg it and personally suggest to my friends. I’m sure they’ll be benefited from this site.

  15. This internet site is seriously a walk-through for all of the information you wanted about this and didn’t know who to ask. Glimpse here, and you’ll definitely discover it.

  16. I loved as much as you’ll receive carried out right here. The sketch is tasteful, your authored subject matter stylish. nonetheless, you command get got an edginess over that you wish be delivering the following. unwell unquestionably come further formerly again since exactly the same nearly very often inside case you shield this hike.

  17. Nice read, I just passed this onto a friend who was doing some research on that. And he actually bought me lunch as I found it for him smile So let me rephrase that: Thank you for lunch!

  18. excellent points altogether, you simply gained a brand new reader. What would you recommend in regards to your post that you made a few days ago? Any positive?

LEAVE A REPLY