Home टीवी टाइम्स कहे चोर, आजतक ‘टीआरपी डकैत !’ अर्णब को हाईकोर्ट का नोटिस...

टाइम्स कहे चोर, आजतक ‘टीआरपी डकैत !’ अर्णब को हाईकोर्ट का नोटिस !

SHARE

“ग़ौर से देखो इस चेहरे को…कितना मासूम, जेंटलमैन….कौन कहेगा कि यह शख्स चोर भी हो सकता है…लेकिन ठहरिये हमारा चैनल आज दूध का दूध और पानी का पानी कर देगा…क्योंकि हम हैं देश के पहरेदार…देश सबसे पहले है..हमारे आदमी हर तरफ़ है, हमने जब चेहरे पर लाल गोला लगा दिया तो समझो लगा दिया…ये आदमी कितना भी चालाक क्यों ना हो..हमसे बच कर नहीं जा सकता…आखिर चोरों को कब तक बर्दाश्त किया जाएगा…नेशन वाँट्स टू नो…! ”

सूँ….साँ….फूँ…….ढिंग..डिंग…ढा….

ऊपर जो लिखा है, वह अर्णव गोस्वामी की स्टायल है जो टाइम्स नाऊ होते हुए अब रपिबल्कि टीवी बन गई है। इसी अंदाज़ की वजह से अर्णब देश के सबसे तेज-तर्रा ऐंकर कहे जाते हैं। ना खात ना बही- जो अर्णब कहें, वही सही।

चोरी का आरोप लगा है अर्णब पर तो उनकी तरह तेजतर्रार बनने की चाहत में कोई एंकर उनके चेहरे पर गोला ही लगाएगा। अर्णब पर टाइम्स ग्रुप ने बौद्धिक चोरी का आरोप लगाया ही था। अब इंडिया टुडे ग्रुप ने टीआरपी की ‘डकैती’ का आरोप जड़ दिया है। यानी एक नहीं कई लाल गोले लगाए जा सकते हैं..

बहरहाल, नई ख़बर यह है कि टाइम्स वाले मामले की सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने रिपबल्कि टीवी को नोटिस भेजा है।

इस बाबत नवभारत टाइम्स की वेबसाइट पर जो छिपा है, वह नीचे पढ़िए–

दिल्ली हाई कोर्ट ने अर्नब गोस्वामी को नोटिस जारी किया है। यह नोटिस एंप्लॉयमेंट कॉन्ट्रैक्ट के उल्लंघन और न्यूज चैनल टाइम्स नाउ की बौद्धिक संपदा के दुरुपयोग को लेकर जारी हुआ है। गोस्वामी बेनेट, कोलमैन ऐंड कंपनी लिमिटेड (बीसीसीएल) के मालिकाना हक वाले चैनल टाइम्स नाउ के पूर्व एडिटर हैं। 

भारत का सबसे बड़ा मीडिया हाउस बीसीसीएल टाइम्स ऑफ इंडिया, द इकॉनमिक टाइम्स, नवभारत टाइम्स अखबारों के अलावा कई मशहूर पत्रिकाएं प्रकाशित करता है।

बीसीसीएल ने गोस्वामी के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज कराया था। कंपनी की ओर से दर्ज कराई गई शिकायत के मुताबिक, हाल ही में रिपब्लिक चैनल पर सुनंदा पुष्कर केस और लालू प्रसाद यादव से जुड़ीं खबरों में चलाए गए ऑडियो टेप गोस्वामी और प्रेमा श्रीदेवी ने उस वक्त हासिल किए, जब वे दोनों टाइम्स नाउ के कर्मचारी थे। प्रेमा टाइम्स नाउ की रिपोर्टर रह चुकी हैं। अर्नब ने बीते साल टाइम्स नाउ छोड़ने के बाद इसी महीने रिपब्लिक टीवीलॉन्च किया है।

6 मई को लॉन्चिंग के दिन रिपब्लिक टीवी ने आरजेडी प्रमुख लालू यादव पर खुलासा करने का दावा किया था। इसमें बिहार के पूर्व सीएम लालू और जेल के अंदर बंद शहाबुद्दीन के बीच फोन पर हुई बातचीत प्रसारित की गई थी। रिपब्लिक टीवी ने दूसरा खुलासा‘ 8 मई को चलाया था। इसमें प्रेमा श्रीदेवी और सुनंदा पुष्कर और उनके नौकर नारायण की बातचीत का टेप चलाया गया था। 


बीसीसीएल की आंतरिक जांच में इस बात के संकेत मिलते हैं कि दोनों ही खुलासोंमें उन सामग्रियों का इस्तेमाल किया गया, जिन्हें गोस्वामी और श्रीदेवी ने टाइम्स नाउ के कर्मचारी रहते हुए हासिल किया था। दोनों ने ही यह कबूल किया था कि दिवंगत सुनंदा पुष्कर और उनके नौकर से बातचीत का ऑडियो दो साल से उनके पास था। 

टाइम्स नाउ के सीईओ एम. के. आनंद ने बताया, ‘मैनेजमेंट को इन चोरियों के बारे में उस वक्त पता चला, जब उन्हें रिपब्लिक टीवी पर टेलिकास्ट किया गया। यह दुखद है कि उनके (अर्नब) कद का कोई शख्स चोर बन गया और अपना चैनल लॉन्च करने के लिए टाइम्स नाउ का कॉन्टेंट चुराया। जाहिर सी बात है कि इसकी सुनियोजित योजना बनाई गई, क्योंकि उन्होंने इन दोनों ही स्टोरीज का इस्तेमाल लॉन्च के तीन दिन के अंदर ही किया।

बीसीसीएल ने अर्नब और प्रेमा पर आरोप लगाया है कि दोनों ने जानबूझकर टाइम्स नाउ की बौद्धिक संपदा का इस्तेमाल किया। कंपनी ने इंडियन पीनल कोड ( आईपीसी) की धारा 403 और दूसरे की संपदा के आपराधिक दुरुपयोग से जुड़ीं आईपीसी की अन्य धाराओं के अलावा आईटी ऐक्ट तहत केस चलाने की मांग की है।

आईटी ऐक्ट की धारा 66बी के मुताबिक, ‘कोई खराब नीयत से किसी कम्प्यूटर या अन्य कम्युनिकेशन डिवाइस से सूचनाएं हासिल करता या चुराता है और इसके विश्वास करने योग्य वाजिब कारण हो तो तीन साल तक की जेल या एक लाख रुपये तक का जुर्माना या दोनों की सजा का प्रावधान है। 

उधर, इंडिया टुडे ग्रुप ने भी रिपब्लिक टीवी के ख़िलाफ़ दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया है। इंडिया टुडे का आरोप है कि टीआरपी ज़्यादा दिखाने के लिए रिपबल्कि टीवी टेलीकॉम रेग्युलेटरी अथॉरटी (ट्राई) के नियमों का उल्लंघन कर है। टीवी टुडे ने ब्राडकास्ट ऑडियन्स रिसर्च काउन्सिल (बार्क) को भी पार्टी बनाया है जिसने पहले ही हफ्ते रिपबल्कि टीवी को नंबर एक घोषित कर दिया।

इस मामले की सुनवाई जस्टिस संजीव सचदेव की बेंच कर रही है।

गौरतलब है कि 15 मई को ब्रॉडकास्ट एडिटर्स एसोसिएशन (बीईए) ने भी ट्राई को लिखा था कि रिपबल्कि टीवी टीआरपी के लिए अनैतिक रास्ते अपना रहा है।

बर्बरीक

LEAVE A REPLY