Home टीवी ज़्यादा अश्लील थे भूपेंद्र चौबे के सवाल ! महिलाओं ने सनी लिओनी...

ज़्यादा अश्लील थे भूपेंद्र चौबे के सवाल ! महिलाओं ने सनी लिओनी का इंटरव्यू देखकर किया तुर्रम खाँ पत्रकार के दिमाग़ का एक्सरे !!

SHARE

बॉालीवुड अदाकारा सनी लिओनी से सीएनएन आईबीएन के वरिष्ठ पत्रकार भूपेंद्र चौबे का इंटरव्यू इन दिनों ख़ासी चर्चा में है। महिलाओं ने ख़ासतौर पर इस पर आपत्ति जताते हुए चौबे जी को औसत दिमाग़ भारतीय मर्द की कुंठा से भरा पत्रकार बताया है। पढ़िये सोशल मीडिया पर आईं महिलाओं की कुछ प्रतिक्रियाएँ  और अंत में इंटरव्यू देखकर ख़ुद फ़ैसला कीजिए—   

 

MANISHA PANDEY

January 20 at 1:49pm · New Delhi ·

सन्नी लियोन के पूरे इंटरव्यू में सबसे ज्यादा अश्लील भूपेंद्र चौबे के सवाल हैं.

इस साक्षात्कार में पत्रकार ने सनी लियोनी से वो सारे सवाल पूछे जो आमतौर पर रूढ़िवादी लोग सनी से पूछे जाने की मांग करते रहते हैं। इंटरव्यू के दौरान सनी से पूछे गए कुछ सवालों पर एक नजर-

आपने पास्ट में जो गलतियां की हैं उसे हटाना चाहेंगी (एडल्ट फिल्मों में काम)?

पोर्न इंडस्ट्री में काम करने की वजह से आज आमिर खान जैसे सुपरस्टार आपके साथ काम नहीं करना चाहते। क्या आप अपनी इमेज से खुश नहीं हैं?

क्या सनी लियोनी की वजह से इंडिया में पोर्न देखने का दर बढ़ा है?

आपको नहीं लगता कि आप अपनी बॉडी कि वजह से ही सब कुछ हैं?

ऐसी बातें सुनने को मिलती हैं कि आप सनी लियोनी की फिल्म देखेंगे और आपका नैतिक पतन हो जाएगा?

क्या आपको पोर्न स्टार होने पर गर्व है?

क्या आप सोचती हैं कि आप एक अभिनेत्री हैं?

क्या आपको अभिनय आता है?

क्या सोचती हैं कि आमिर खान आपके साथ काम करेंगे
आपको बॉलीवुड में एक वैसी वाली आइटम लड़की के तौर देखा जाता है, आपको पता है?

आप कहती हैं कि अपको अपने बीते कल पर कोई पछतावा नहीं है, आपको क्या लगता है कितने लोगों की ख्वाहिश पोर्न स्टार बनना होता है?

 

  Dr.ALKA SINGH

January 21 at 3:46pm ·

अभी अभी मैं भूपेन्द्र चौबे द्वारा सनी लीयोनी का लिया गया साक्षात्कार पढ रही थी. भूपेन्द्र चौबे के सवालों को पढ कर लगा कि आज के चैनल और पत्रकार अपने पेशे की हदें भूल गये हैं ? एक अजीबो गरीब साक्षात्कार लेकिन जिसका जवाब लीयोनी ने इतने सधे और सन्तुलित तरीके से दिया कि भूपेन्द्र पर गुस्सा आता है. लीयोनी का पास्ट जो भी है उससे वह कभी पीछे नहीं भागी है ना ही उसने उसे नकारा है फ़िर उसे अपने शो में बुलाकर , ऐसे सवाल पूछ कर आखिर भूपेन्द्र दिखाना क्या चाहते थे ??????????????? उनके सवाल उनकी पत्रकारिता का सबसे बदसूरत नमूना है

 

 ANJU SHARMA

 January 24 at 1:26pm ·

कमाल है न, श्रीमान भूपेंद्र चौबे एक औसत भारतीय पुरुष की मानसिकता से एक सेकंड को भी बाहर नहीं निकल पाए। एक औसत भारतीय पुरुष, टिपिकल भारतीय पुरुष वह है जो एक हाथ से चौबीस घण्टा नैतिकता का झंडा उठाये रहता है और दूसरे से लगातार सर्च कर सनी लियोनी को मोस्ट सर्चड सेलिब्रिटी बनाता है। हैरत नहीं हुई कि रिग्रेट और पास्ट जैसे शब्दों से ऊपर नहीं उठ पाए भूपेंद्र चौबे। इन शब्दों को चबाते हुए, दोहराते हुए, वे पत्रकार कम एक शातिर, कामुक, बेहूदा भेड़िया ज्यादा नज़र आ रहे थे जो पूरे कपड़ों में बैठी स्त्री का भी एक्स रे निकाल लेने से बाज़ नही आता। जो पोर्न स्टार्स को संस्कृति का सत्यानाश करने का दोषी मानता है अपने मोबाइल पर लगे पासवर्ड को लेकर मौन है। सनी को अपने ‘पास्ट’ पर कोई ‘रिग्रेट’ हो न हो पर चौबे जी की कोशिश यही रही कि कम से कम एक बार सनी के मुंह से निकलवा सकें कि हाय मुझे अपने अतीत से घृणा है, कि मैं अपने अतीत को दागदार समझती हूँ, कि ओह, मुझे वो गलीज़ जीवन जीने को मज़बूर किया गया, कि मैं मानती हूँ, समझती हूँ कि मैं गलत थी, कि उफ़, मैं उस गलती को दोबारा नहीं दोहराना चाहूँगी, मुझे स्वीकार कर लीजिये। सच तो यह है कि दूसरे के फ़टे में टांग अड़ाने, पड़ोसी की दीवार पर कान लगाकर कुछ सुन पाने की बेहूदा ललक, नेट और टीवी पर उप्स मूवमेंट्स को फॉरवर्ड करके देखने की मनोवृति, भारतीय मानस इससे ऊपर कब उठ पाया है। मैं सनी की फैन नहीं थी (इसे ‘थी’ ही पढ़ा जाए)। पोर्न फिल्मों के पक्ष/विपक्ष पर भी बात नहीं करना चाहती। मैं नहीं जानती कि अपनी सो कॉल्ड पोर्न फिल्मों में वे कितनी सफल थी। मैंने उन्हें बिग बॉस में देखा था और आज तक उनकी कोई फ़िल्म नहीं देखी पर इस इंटरव्यू में जिस सनी को देखा, उसकी बेबाकी, आत्मविश्वास और दृढ़ता की मैं कायल हो गई। इस इंटरव्यू मे जिसने करोड़ो दिल जीते वो सनी ही थी। सनी ही हैं जिसने हमें बताया कि एक पोर्न स्टार भी एक औरत है जो दिल और दिमाग दोनों रखती है। निजी तौर पर मुझे यह कहने में कोई झिझक नहीं कि मैं एक ऐसी औरत को पोर्न स्टार से ऊपर रखती हूँ जो अपना जिस्म बेचकर पोर्न मूवी देखकर शिकार ढूंढने निकले पुरुष को वहशी से वापिस इंसान बनने में मदद करती है और इस नाते कहीं न कहीं एक बलात्कार को होने से रोक देती है। ठीक वैसे ही जैसे गिद्ध मरे हुए पशु को खाकर उसे सड़ने से रोकर पर्यावरण को दूषित होने से बचाते हैं। तो भी पोर्न फिल्मों और उसके व्यापार को गलत मानते हुए भी हम जानते हैं कि इसके लिए कौन दोषी है, इसका ठीकरा सनी के सिर पर फोड़ना बन्द होना चाहिए। फिल्मकारों को भी सनी के तथाकथित पास्ट से उबरकर सनी को देह परोसने भर से आगे बढ़कर कुछ मीनिंगफुल भूमिकाएं देना शुरू कर देना चाहिए ताकि वह अपने आज को जी सके।

 

प्रतीक्षा, लल्लनटॉप ब्लॉग में

15 जनवरी को टीवी पत्रकार भूपेंद्र चौबे ने सनी लिओनी का इंटरव्यू लिया. लगा कि क्लास लेने गए थे. भद्दे और सेक्सिस्ट सवाल पूछे. लेकिन सनी अपने जवाबों में कूल और संतुलित दिखीं. चौबे के सवाल बदतर होते गए. सनी आराम से, मुस्कुराते हुए, ठंडे दिमाग से हर सवाल का जवाब देती गईं. इंटरव्यू के बाद बवाल हुआ और ये मुद्दा ट्विटर पर छा गया. तमाम हस्तियों ने सनी के पक्ष में लिखा और चौबे को टाइट किया.

बॉलीवुड के तमाम लोगों के साथ लल्लन भी इस इंटरव्यू के बाद भरा बैठा है. तो लल्लन ने डिसाइड किया है कि चौबे जी ने जो सवाल सनी से किए, उनका जवाब लल्लन देगा. शुरू से शुरू करते हैं.

आप आमिर खान के साथ काम करना चाहती हैं. पर आमिर आपके साथ काम नहीं करना चाहेंगे?

क्यों नहीं करना चाहेंगे? क्योंकि सनी एक पॉर्न स्टार थीं? इंटरव्यू तो आप भी पॉर्न स्टार्स का नहीं करते थे चौबे जी. पर आज कर रहे हैं. उनके शूट पर जा के खुद.

 आपका पास्ट आपका पीछा नहीं करता, आपको पीछे नहीं खींचता?

सेंटी कहानियां खोजते हुए कहां तक जाएंगे चौबे जी? हर एक्टर रुलाने के लिए नहीं होता. सब बचपन में गरीब नहीं होते. आप क्या सुनना चाहते थे? सनी ने एक दिन सेक्स किया और बॉयफ्रेंड ने MMS बना लिया. फिर वो पॉर्न स्टार बन गईं? या किसी ने रेप कर उसे मरने के लिए छोड़ दिया, इसलिए वो पॉर्न इंडस्ट्री में आई? चौबे जी, हर कहानी सैड नहीं होती. हर औरत कोई मजबूर ‘अमीरन’ नहीं होती जिसे ‘दिलावर खान’ बाजार में बेच आता है. पॉर्न और प्रॉस्टिट्यूशन में फर्क है. और प्रॉस्टिट्यूशन को लेकर भी कोई डाउट हो तो बता दें कि वो भी एक पेशा है. जैसे आपका पत्रकार होना एक पेशा है. बस फर्क ये है कि सनी अपना पेशा अच्छे से निभा रही हैं. जो आपसे न हो पा रहा है.

कितने लोग हैं जो बड़े होकर पॉर्न स्टार बनना चाहते हैं?

कोई नहीं बनना चाहता. क्योंकि देश आपके जैसे लोगों से भरा पड़ा है. सनी को पॉर्न वल्गर नहीं, सुंदर लगा. क्योंकि उसके लिए सेक्स कोई टैबू नहीं है. नैचुरल चीज है. अनैतिक नहीं है. अनएथिकल नहीं है. वो खुद को, अपने शरीर को लेकर कॉन्फिडेंट है. वो इसे पेशे की तरह देखती है. वो आपकी तरह या एक रैंडम भारतीय की तरह नहीं सोचती. जो पॉर्न देखता है, पर मानता नहीं. ये वही औसत भारतीय है जो कॉन्डम या सेनेटरी पैड के ऐड आने पर चैनल बदल देता है. जिस देश में किसिंग सीन तक सेंसर हो जाते हैं, वहां कौन बड़े होकर पॉर्न स्टार बनना चाहेगा?

अगर सनी लिओनी मॉडर्न इंडिया की एंबैसेडर बनेंगी तो ये एक खतरनाक पल होगा.

क्यों? लोग सड़कों पर सेक्स करने लगेंगे? किस करने लगेंगे? अपनी मर्जी से प्यार करेंगे? शादी करेंगे? तो कर लें. प्यार ही करेंगे. हिंसा नहीं. आपको लगता है रेप करने लगेंगे? वो तो अब भी करते हैं. हर 20 मिनट में इंडिया में एक रेप होता है. जब सस्ता नेट पैक और स्मार्टफोन नहीं थे, जब देश वीडियो पॉर्न नहीं देखता था तब भी होते थे.

भारतीय औरतों को लगता है सनी उनके पतियों को चुरा ले जाएंगी.
अरे यार चौबे जी. ऐसी कोई औरत नहीं मिली मुझे. आपको कहां मिली? भारतीय पतियों को देखा है? बेज्जती करने का इरादा नहीं. लेकिन सनी को स्क्रीन पर ही देख कर खुश हो लें तो अच्छा है. क्योंकि सनी उन्हें घास भी नहीं डालेगी. और जिन पतियों को ‘चुराने’ की बात हो रही है, उनका दिमाग और हरकतें तो खुद ही उनके कंट्रोल में नहीं है. पब्लिक ट्रांसपोर्ट में जिन लड़कियों के टॉप के भीतर ये अधेड़ उम्र के ‘पति’ झांक रहे होते हैं, वो लड़कियां सनी लिओनी नहीं होतीं. ठरक और हिंसा लोगों के दिमागों में है. उसे जगाने के लिए सनी की जरूरत नहीं.

सनी के इंडिया आने के बाद से इंडिया सबसे ज्यादा पॉर्न देखने वाला देश बन गया है.
एक चीज होती है आजकल. शायद आपके टाइम नहीं होती होगी. उम्र हो गई है न आपकी. उस चीज को इंटरनेट कहते हैं. देखिये पिछले तीन सालों में इंटरनेट देश भर में कहां कहां पहुंच गया है. स्मार्टफोन पहुंच गए हैं. वीडियो शेयर करना कितना आसान हो गया है. फिर सनी बिग बॉस में आईं. लोगों ने पता लगाया वो कौन हैं. उन्हें देखा. पॉर्न पहले भी देखते थे. फर्क ये था कि एक नाम मिल गया. वरना लोग ‘मनोरम कहानियां’ भी पढ़ते ही थे. स्कूलों की लाइब्रेरी से सेक्स सीन के पन्ने फाड़कर पढ़ते थे. सेक्स को लेकर उत्सुकता थी और हमेशा रहेगी. उसका सनी से कोई मतलब नहीं.

लोग सनी को देखकर मॉरली करप्टहो रहे हैं. मुझे लग रहा है मैं भी आपका इंटरव्यू करने से मॉरली करप्ट न हो जाऊं.

किसी को शो में बुलाकर उससे आप इस तरह की बात करेंगे, सिर्फ इसलिए कि वो पॉर्न स्टार थीं? मॉरली का तो पता नहीं. पर दिमागी तौर पर करप्ट होते जरूर लग रहे हैं आप.

हम क्या भविष्य में ऐसी फिल्में देखेंगे जिसमें सनी ने ऊपर से नीचे तक कपड़े पहने होंगे?
बिकिनी तो करीना ने भी पहनी है. कटरीना ने भी. प्रियंका ने भी. क्या आप उनसे ये सवाल पूछेंगे?