Home टीवी चैनलों के शब्दकोश में सुहेल सेठ ने जोड़ा एक वर्जित शब्द, NDTV...

चैनलों के शब्दकोश में सुहेल सेठ ने जोड़ा एक वर्जित शब्द, NDTV फिर भी पावन गाय!

SHARE

समाचार चैनलों की भाषा में बुनियादी बदलाव के लिए आगे से 30 मार्च 2016 को याद किया जाएगा, जब क्रिकेट मैच पर चर्चा के दौरान सेलिब्रिटी सुहेल सेठ ने बिना किसी हिचक के सबके सामने ऑन एयर ”बकचोद” शब्द का इस्तेमाल किया। इस शब्द को दोबारा लिखने का हमारा आशय इस खबर के बहाने लोकप्रियता बटोरने का बिलकुल नहीं है। यह केवल टीवी समाचार के इतिहास में एक तारीख के तौर पर दर्ज होने के लिए लिखा जा रहा है। अफ़सोस की बात यह है कि जिस चैनल पर यह प्रोग्राम ऑन एयर हुआ, उसे टीवी जगत में पावन गाय का दरजा प्राप्त है।

31 मार्च, 2016 को भारत और वेस्टइंडीज़ के बीच टी-20 के सेमीफाइनल का मैच होना था। ठीक एक दिन पहले 30 मार्च को एनडीटीवी अंग्रेज़ी ने एक हलकी-फुलकी और तकरीबन हास्यास्पद किस्म की पैनल परिचर्चा रखी जिसमें कुछ नौजवान दर्शक भी थे। पैनल में सुहेल सेठ थे और उनके साथ तन्मय भट्ट थे, जो एआइबी नाम के एक फूहड़ कॉमेडी शो के जनक माने जाते हैं। ज़ाहिर है, न तो भट्ट का और न ही सेठ का क्रिकेट से कोई लेना-देना है। बावजूद इसके दोनों ने ही परिचर्चा में इस तरह की बातें कहीं जैसे कि वे 1 अप्रैल  को अप्रैल फूल दिवस जैसी बातें कर रहे हों।

नीचे दिए गए आधे मिनट के वीडियो को पूरा सुनें, सुहेल सेठ को अंत तक सुनें। आखिरी पंक्ति में वे कहते हैं, ”दिस इज़ ऑल इंडिया एफेक्टिवनेस, नॉट ऑल इंडिया बकचोद”। उनका इशारा बेशक भट्ट की ओर था, लेकिन वे चाहते तो एआइबी भी कह सकते थे। बात उतनी ही आसानी से दर्शकों तक पहुंचती। उन्होंने न केवल यह वर्जित शब्द राष्ट्रीय टेलीविजन पर कहा, बल्कि उसके साथ उनकी अश्लील भंगिमा और प्रतिक्रिया में ऐंकर के दोगुने उत्साह को भी देखिए। फिर तय करिए कि क्या परिवार के साथ बैठकर क्रिकेट पर कोई परिचर्चा आप आगे से देख सकने की स्थिति में होंगे।

यह दलील बहुत पुरानी है कि जब गाली-गलौज और अश्‍लील शब्द हमारे समाज का हिस्सा हैं, तो जन माध्यमों में उनके होने पर आपत्ति क्यों हो। काशीनाथ सिंह के उपन्यास ”काशी का अस्‍सी” से लेकर उस पर बनी फिल्म और ब्लॉग के शुरुआती दिनों में यह बहस खूब हुई थी। इसके बावजूद एक बुनियादी बात पर सभी के बीच सहमति है कि मीडिया/पत्रकारिता चूंकि एक ऐसी विधा है जिसमें सामाजिक जिम्मेदारी और जवाबदेही का तत्व अंतर्निहित है, इसलिए इसकी भाषा मर्यादित होनी चाहिए और एक कदम आगे बढ़कर समाज की भाषा को दुरुस्त करना भी इसकी जिम्मेदारी होनी चाहिए। क्या किसी कॉमेडी शो में मौज लेने के दौरान भी इस बात का ख्याल नहीं रखा जाना चाहिए?

19 COMMENTS

  1. F*ckin’ amazing things here. I’m very glad to peer your article. Thanks so much and i’m looking forward to contact you. Will you please drop me a e-mail?

  2. I have not checked in here for a while as I thought it was getting boring, but the last few posts are great quality so I guess I will add you back to my daily bloglist. You deserve it my friend 🙂

  3. Wonderful goods from you, man. I have remember your stuff prior to and you are simply too excellent. I really like what you’ve obtained here, certainly like what you are saying and the best way by which you are saying it. You’re making it entertaining and you still care for to stay it smart. I can not wait to learn far more from you. That is actually a great web site.

  4. I’m impressed, I need to say. Actually not often do I encounter a blog that’s both educative and entertaining, and let me let you know, you might have hit the nail on the head. Your thought is outstanding; the difficulty is something that not enough persons are speaking intelligently about. I am very glad that I stumbled across this in my seek for something relating to this.

  5. Heya i am for the primary time here. I found this board and I find It really helpful & it helped me out much. I hope to provide something back and aid others like you aided me.

  6. I simply want to say I am very new to blogs and honestly liked your web blog. Most likely I’m planning to bookmark your blog post . You absolutely have outstanding articles. Thank you for sharing your website page.

  7. Terrific work! This is the type of info that should be shared around the net. Shame on the search engines for not positioning this post higher! Come on over and visit my site . Thanks =)

  8. I was just looking for this info for a while. After six hours of continuous Googleing, at last I got it in your web site. I wonder what is the lack of Google strategy that do not rank this kind of informative web sites in top of the list. Usually the top sites are full of garbage.

  9. Hello, you used to write wonderful, but the last few posts have been kinda boring… I miss your super writings. Past several posts are just a little out of track! come on!

  10. Wow, incredible blog layout! How long have you been blogging for? you make blogging look easy. The overall look of your web site is wonderful, let alone the content!

  11. Hello! This is kind of off topic but I need some advice from an established blog. Is it very hard to set up your own blog? I’m not very techincal but I can figure things out pretty quick. I’m thinking about setting up my own but I’m not sure where to begin. Do you have any tips or suggestions? Thank you

LEAVE A REPLY