Home टीवी ‘न्यूज़रूम राष्ट्रवाद’ : देखते जाते हैं हम बस आँख मूँदे !

‘न्यूज़रूम राष्ट्रवाद’ : देखते जाते हैं हम बस आँख मूँदे !

SHARE

पूरी दुनिया में पिछले दो दशकों में भूमंडलीकरण के आने से राष्ट्र-राज्य की शक्ति में कमी आई है.  हालांकि, राष्ट्र-राज्य की शक्ति में आई कमी के साथ-साथ इन्हीं वर्षों में दुनिया भर में दक्षिणपंथी ताकतों और उग्र-राष्ट्रवाद  का उभार भी हुआ है. पिछले महीने यूरोपीय संघ से ब्रिटेन के अलग होने के लिए हुए जनमत संग्रहदक्षिणपंथी ताकतों की मजबूती और राष्ट्र-राज्य की कमजोर होती शक्ति को फिर से पाने का ही एक प्रयास है. अमेरिका में रिपब्लिकन पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप के इमिग्रेशन, मुस्लिम समुदाय को लेकर दिए गए भड़काऊ बयानों को हम इसकी अगली कड़ी के रूप में देख सकते हैं.

भारतीय जनता पार्टी के सत्ता में आने और नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद भारत में इसकी अभिव्यक्ति पिछले कुछ महीनों से विभिन्न मुद्दों (लव जिहाद, बीफ बैन, जेएनयू, कश्मीर) के बहाने राष्ट्रवाद के ऊपर चल रही बहस के रुप में भी देखी जा सकती है.

इस बहस के पीछे राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी की  राजनीति,  आत्म और अन्य की एकांगी व्याख्या और भारतीय इतिहास की औपनिवेशिक समझ-बूझ की एक बड़ी भूमिका है, जो भारतीय इतिहास को हिंदू, मुस्लिम और ब्रितानी हुकूमतों के काल के आधार पर विभाजित करके देखती रही है.

बहरहाल, ये सारी बहसें अखबारों, खबरिया चैनलों और खास कर ‘प्राइम टाइम’ के माध्यम से जिस रूप में हमारे सामने आ रही है, वह एक अलग विश्लेषण की मांग करता है. दुनिया भर में बाजार और सूचना क्रांति को भूमंडलीकरण का मुख्य औजार माना गया है.  प्रसंगवश, भारत में भूमंडलीकरण के बाद ही भाषाई अखबारों और खबरिया चैनलों का अभूतपूर्व प्रसार हुआ.

सवाल है कि भारत में राष्ट्रवाद और मीडिया के इस संबंध को हम किस रूप में देखें? क्या यह भूमंडलीकरण के साथ ही सहज रुप से विकसित हुए हैं? या भारतीय संदर्भ में इसकी कोई ख़ास विशेषता है?

राष्ट्रवाद के उदय और उभार के पीछे बेंडिक्ट एंडरसन ने ‘प्रिंट पूंजीवाद’ की भूमिका को रेखांकित किया है. उनका मानना है कि राष्ट्र की अवधारणा हमारी कल्पना में ही साकार होती है, और इसे साकार बनाने में मास मीडिया की एक बड़ी भूमिका होती है. हालांकि, भारत में भाषाई मीडिया और खास तौर पर खबरिया चैनल जिस तरह के राष्ट्रवाद को इन दिनों बढ़ावा दे रहे हैं वह उग्र-राष्ट्रवाद का नमूना है. पिछले दिनों कश्मीर में चरमपंथी बुरहान वानी के सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में हुई मौत और बाद के घटनाक्रम पर कुछ न्यूज चैनलों के कवरेज और उन्मादी बहस-मुबाहिसा को देख कर कश्मीर के आईएएस अधिकारी शाह फैसल ने आक्रोश में इसे‘न्यूजरूम नैशलनिज्म’ का नाम दिया, जो हिंदुस्तान में वाद-विवाद-संवाद की पुरानी परंपरा को कुंद करता है.  यह राष्ट्रवाद कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग तो मानता है, पर जब कोई कश्मीर भू-भाग में रहने वाले कश्मीरियों की वेदना-संवेदना का जिक्र करता है तो वह राष्ट्रविरोधी करार दिया जाता है.

उल्लेखनीय है कि भारत में 19वीं सदी के आखिरी और 20वीं सदी के शुरुआती दशकों में समाचार पत्र-पत्रिकाओं ने राष्ट्रवाद को खूब बढ़ावा दिया था. यह राष्ट्रवाद औपनिवेशनिक शक्तियों के खिलाफ था, पर आज़ादी के बाद एक संप्रभु राष्ट्र-राज्य में राष्ट्रवाद और मीडिया का वहीं स्वरूप नहीं रह गया जो आजादी के संघर्ष के दिनों में था. हालांकि, आजादी के बाद के शुरुआती दशकों में अखबार, फिल्म और सरकारी रेडियो- टेलीविजन राष्ट्र निर्माण में सहयोग दे रहे थे, पर उनमें उग्रता नहीं थीं. मीडिया का प्रसार और ‘पब्लिक स्फीयर’ में उसकी भूमिका भी सीमित थी.

 

पिछले दशकों में हिंदी क्षेत्र में मंडल-कमंडल की एक नई राजनीति सामने आई. साथ ही लोगों की आय और शिक्षा में भी बढ़ोतरी हुई और एक नया पाठक-दर्शक वर्ग उभरा है, जिसे हम नव मध्यम वर्ग कह सकते हैं. मीडिया की पहचान एक हद तक इसी वर्ग (टारगेट आडिएंश) से जुड़ी हैं. इस वर्ग में बहुसंख्यक दलित, आदिवासी, किसान, मजदूर और महिलाएँ शामिल नहीं हैं.

उदारीकरण के बाद खुली अर्थव्यस्था में मीडिया पूंजीवाद का प्रमुख उपक्रम है, लोकतंत्र की एक मजबूत संस्था है, उसकी एक स्वायत्त संस्कृति है. जब भी हम मीडिया और राष्ट्रवाद के संबंधों की विवेचना करेंगे तो हमें पूंजीवाद और मीडिया के इस द्वंद्वात्मक रिश्तों की भी पड़ताल करनी होगी. निस्संदेह, हाल के वर्षों में बड़ी पूंजी के प्रवेश से मीडिया की सार्वजनिक दुनिया  का विस्तार हुआ है लेकिन पूंजीवाद के किसी अन्य उपक्रम की तरह ही मीडिया उद्योग का लक्ष्य और मूल उदेश्य पाठकों की संख्या को बढ़ाना, टीआरपी बटोरना और मुनाफा कमाना है.

साथ ही हमें इन मीडिया संस्थानों के संपादकों-मालिकों की राजनीतिक और कारोबारी हितों को भी रेखांकित करना होगा. क्या यह अनायास है कि पिछले कुछ वर्षों में मीडिया घराने के मालिक संसद में पहुँचने के लिए लालायित रहते हैं. कुछ मालिक-संपादक बकायदा राजनीतिक पार्टियों के साथ मंच साझा करने में, उनके करीबी कहलाने में गर्व महसूस करते हैं. जाहिर है, ऐसे में राष्ट्रवाद और संस्कृति की उनकी समझ उनके चैनलों पर उनकी राजनीति से प्रेरित दिखेगी. बात चाहे जेएनयू की हो, कश्मीर की हो या सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की.

साथ ही, राष्ट्रवाद जैसे जटिल मुद्दे के विवेचन-विश्लेषण में मीडियाकर्मियों की शिक्षण-प्रशिक्षण की भी अपनी भूमिका है. पिछले दो दशकों में जिस तरह से मीडिया का उभार हुआ है और जिस तरह राजनीति मीडिया जनित होकर प्राइम टाइम के माध्यम से हमारे सामने आती है वह पत्रकारों के पेशेवर होने की मांग करती है. वर्तमान में मीडिया में पेशेवर नैतिकता की दरकार किसी भी अन्य पेशे से ज्यादा है. दुर्भाग्यवश, भारत में मीडिया के अभूतपूर्व फैलाव के बाद जो मीडिया संस्कृति विकसित हुई है उसमें अभी भी पत्रकारों के शिक्षण-प्रशिक्षण पर विशेष जोर नहीं है. फलत: कई बार पत्रकार राजनीतिक पार्टियों के पैरोकार बन जाते हैं और उनके एजेंडे को ही मीडिया का एजेंडा मान लेते हैं.

arvind das

 

 

 

 

 

.अरविंद दास

(लेखक पत्रकार और मीडिया अध्येता हैं।)

27 COMMENTS

  1. Youre so cool! I dont suppose Ive read something like this before. So nice to find somebody with some unique thoughts on this subject. realy thanks for starting this up. this website is one thing that’s needed on the internet, someone with a little originality. useful job for bringing something new to the web!

  2. An intriguing discussion is worth comment. I feel which you need to write far more on this subject, it may possibly not be a taboo topic but generally people today aren’t enough to speak on such topics. Towards the next. Cheers

  3. I do not know if it’s just me or if everyone else encountering issues with your site. It appears like some of the text in your posts are running off the screen. Can somebody else please comment and let me know if this is happening to them as well? This could be a problem with my web browser because I’ve had this happen previously. Kudos

  4. I’ve been exploring for a little for any high quality articles or weblog posts in this sort of space . Exploring in Yahoo I ultimately stumbled upon this website. Studying this information So i’m glad to convey that I’ve an incredibly good uncanny feeling I found out just what I needed. I such a lot indisputably will make certain to don’t fail to remember this site and give it a glance on a continuing basis.

  5. Hi there, simply turned into alert to your weblog through Google, and found that it is really informative. I am going to be careful for brussels. I will appreciate in the event you continue this in future. Many other people will probably be benefited out of your writing. Cheers!

  6. You completed a number of good points there. I did a search on the subject matter and found a good number of folks will go along with with your blog.

  7. Thanks for any other fantastic post. The place else may just anybody get that kind of information in such an ideal means of writing? I have a presentation next week, and I’m on the search for such information.

  8. Ive in no way read anything like this before. So nice to find somebody with some original thoughts on this subject, really thank you for starting this up. this web site is one thing which is needed on the net, somebody with a little originality. helpful job for bringing something new to the world-wide-web!

  9. I’d should verify with you here. Which is not one thing I normally do! I take pleasure in reading a publish that will make individuals think. Additionally, thanks for permitting me to comment!

  10. Hello great blog! Does running a blog like this require a massive amount work? I’ve no expertise in coding but I had been hoping to start my own blog in the near future. Anyways, should you have any recommendations or techniques for new blog owners please share. I understand this is off subject however I just had to ask. Appreciate it!

  11. It’s actually a nice and useful piece of info. I am satisfied that you just shared this helpful info with us. Please stay us up to date like this. Thanks for sharing.

  12. Soon after study a few of the weblog posts on your internet site now, and I genuinely like your way of blogging. I bookmarked it to my bookmark website list and will probably be checking back soon. Pls take a look at my website as well and let me know what you think.

  13. I want to express my thanks to this writer for bailing me out of this particular difficulty. Because of surfing throughout the online world and getting thoughts that were not productive, I assumed my entire life was over. Existing minus the answers to the issues you have fixed all through your entire article is a crucial case, as well as the ones which may have in a wrong way affected my entire career if I had not noticed your website. Your main training and kindness in dealing with every item was helpful. I’m not sure what I would’ve done if I hadn’t come upon such a subject like this. I’m able to at this point relish my future. Thanks a lot so much for your high quality and effective help. I won’t think twice to refer your web sites to anybody who ought to have assistance about this area.

  14. Great – I should definitely pronounce, impressed with your web site. I had no trouble navigating through all the tabs as well as related info ended up being truly easy to do to access. I recently found what I hoped for before you know it in the least. Quite unusual. Is likely to appreciate it for those who add forums or anything, site theme . a tones way for your customer to communicate. Excellent task..

  15. When I originally commented I clicked the “Notify me when new comments are added” checkbox and now each time a comment is added I get three emails with the same comment. Is there any way you can remove people from that service? Thanks!

  16. I enjoy, cause I found exactly what I used to be having a look for. You’ve ended my 4 day lengthy hunt! God Bless you man. Have a great day. Bye

  17. Nice post. I learn one thing more challenging on different blogs everyday. It would at all times be stimulating to learn content material from other writers and apply a little bit something from their store. I’d favor to use some with the content on my blog whether you don’t mind. Natually I’ll give you a link in your web blog. Thanks for sharing.

  18. I truly wanted to compose a small message to be able to say thanks to you for these wonderful tactics you are sharing at this website. My particularly long internet lookup has at the end been honored with reasonable information to exchange with my family. I ‘d admit that many of us site visitors are truly fortunate to live in a superb site with so many wonderful professionals with helpful things. I feel pretty grateful to have encountered your web site and look forward to really more cool minutes reading here. Thanks once more for everything.

  19. I’m still learning from you, while I’m improving myself. I certainly love reading everything that is written on your site.Keep the information coming. I loved it!

  20. Thank you for the good writeup. It in fact was a amusement account it. Look advanced to far added agreeable from you! However, how can we communicate?

LEAVE A REPLY