Home टीवी टीवी की बहसें न्‍याय दिलवाने की प्रक्रिया में दख़ल दे रही हैं:...

टीवी की बहसें न्‍याय दिलवाने की प्रक्रिया में दख़ल दे रही हैं: केरल हाइ कोर्ट

SHARE

केरल उच्‍च न्‍यायालय ने मंगलवार को टीवी पर होने वाली बहसों को लताड़ लगाते हुए कहा कि टीवी चैनल ”शिष्‍टता, विनम्रता और पेशेवर आचार” की सारी सीमाएं लांघ रहे हैं। अदालत की नाराज़गी विशेष रूप से उन मलयाली चैनलों से थी जिन्‍होंने सतर्कता विभाग के निदेशक के निलंबन के संबंध में अनावश्‍यक बहसों को जन्‍म देकर उच्‍च अदालत के न्‍यायाधीश को ही विवाद में खींच लिया था।

मंगलवार को उच्‍च्‍ न्‍यायालय में वीएसीबी के निदेशक थॉमस को हटाए जाने संबंधी याचिका पर सुनवाई थी। उससे पहले 30 मार्च को मीडिया के एक हिस्‍से ने रिपोर्ट किया था सतर्कता विभाग के खिलाफ़ एक याचिका पर संज्ञान लेते हुए उच्‍च न्‍यायालय के न्‍यायाधीश पी. ओबैद ने कहा था कि सतर्कता निदेशक को उनके पद पर कायम क्‍यों रहने दिया जा रहा है जबकि उनकी कार्रवाइयां अत्‍यधिक अराजक हैं।

कोर्ट ने कहा कि इस मसले पर खुद उसे टीवी चैनलों की बहसों में खींच लाया गया जिससे अनावश्‍यक समस्‍या पैदा हो गई है। कोर्ट ने कहा, ”एक टीवी चैनल और इसमें बहस में हिस्‍सा लेने वाले एक पैरोकार तो शिष्‍टता, विनम्रता और पेशेवर आचार की सभी सीमाएं लांघ गए।” जस्टिस ओबैद ने कहा कि टीवी की बहसों को न्‍याय दिलवाने की प्रक्रिया में दखलंदाजी के तौर पर लिया जाना चाहिए।

मंगलवार को आए फैसले में कहा गया है, ”विभिन्‍न टीवी चैनलों ने यह परिचर्चा बना यह समझे-बूझे आयोजित कर दी कि कोर्ट में वास्‍तव में हुआ क्‍या था। यह बात गलत और गैर-जिम्‍मेदाराना तरीके से प्रसारित की गई कि इस अदालत ने सरकार को वीएसीबी का निदेशक बदलने का निर्देश दिया है।” जस्टिस ओबैद ने कहा कि अदालत ने वीएसीबी की अराजक कार्रवाइयों पर बेशक टिप्‍पणी की थी और सरकार से पूछा था कि वह उन्‍हें दुरुस्‍त व नियंत्रित करने के लिए कोई कार्रवाई क्‍यों नहीं कर रही है।

कोर्ट का कहना था कि उसके शग्‍दों की मीडिया ने गलत व्‍याख्‍या की है। ”हम जज लोग प्रेस मीट या चैनल परिचर्चा नहीं कर सकते। हम लोग केवल न्‍यायिक फैसलों के माध्‍यम से अपनी बात रख सकते हैं और मैं ऐसा ही कर रहा हूं”, जस्टिस ओबैद ने फैसला सुनाते हुए यह कहा।

(सामग्री न्‍यूज़मिनट से साभार)

 

 

6 COMMENTS

  1. Its like you read my mind! You seem to know so much about this, like you wrote the book in it or something. I think that you can do with some pics to drive the message home a bit, but instead of that, this is magnificent blog. An excellent read. I will definitely be back.

  2. I was recommended this web site by my cousin. I am not sure whether this post is written by him as no one else know such detailed about my trouble. You’re amazing! Thanks!

  3. I am not sure where you are getting your information, but good topic. I needs to spend some time learning much more or understanding more. Thanks for wonderful information I was looking for this info for my mission.

  4. Together with every thing that seems to be building inside this specific subject matter, your viewpoints tend to be rather exciting. Nonetheless, I am sorry, because I do not give credence to your entire strategy, all be it exhilarating none the less. It would seem to everybody that your comments are generally not entirely validated and in fact you are your self not really completely confident of the assertion. In any event I did take pleasure in reading it.

  5. Pretty section of content. I just stumbled upon your blog and in accession capital to assert that I get actually enjoyed account your blog posts. Anyway I’ll be subscribing to your feeds and even I achievement you access consistently rapidly.

  6. You can certainly see your skills in the paintings you write. The arena hopes for even more passionate writers such as you who are not afraid to say how they believe. All the time follow your heart.

LEAVE A REPLY