Home टीवी तीन साल पुरानी ख़बर बनी ‘डायरी बम’!…वाह इंडिया टुडे ! मोदी को...

तीन साल पुरानी ख़बर बनी ‘डायरी बम’!…वाह इंडिया टुडे ! मोदी को ऐसे बचाओगे ?

SHARE

पिछले कुछ दिनों से टीवी टुडे के चैनल ऐेस खुलासे कर रहे हैं जिससे संसद में हंगामा हो रहा है। ख़ास बात यह है कि दोनों ही धमाकों के निशाने पर सत्तापक्ष नहीं विपक्ष है। पहला है आगस्ता वेस्टलैंड हेलीकाप्टर डील में फ़ैमिली (गाँधी परिवार) को दी गई कथित रिश्वत और दूसरी काले पैसे को सफे़द करने में जुटी पार्टियों का स्टिंग आपरेशन ( इसमें बीजेपी नहीं है) ।

नोटबंदी को लेकर संसद में फँसी मोदी सरकार के लिए देश के सबसे तेज़ चैनलों यानी आज तक और इंडिया टुडे का यह रुख़ वाक़ई राहत भरा है।

 

पहले बात हेलीकाप्टर सौदे की। इंडिया टुडे के राहुल कँवल ने बड़े ज़ोर-शोर से जिस ख़बर को एक्सक्लूसिव कहकर दिखाया वह तो पौनो तीन साल पहले ही यूके के डेलीमेल ने छाप दी थी । तो क्या पौने तीन साल पुरानी ख़बर को अचानक एक्सक्लूसिव कहकर दिखाना बेईमानी का संयोग भर है या इसका मक़सद सत्ता पक्ष को हथियार मुहैया कराना है?

ग़ौरतलब है कि इस ख़बर को मेल टुडे ने भी छापा था जो टीवी टुडे का ही अख़़बार है। तारीख़ थी 1 फ़रवरी 2014 .

 

राहुल कँवल जिन दस्तावेज़ों को दिखा रहे थे वे पौने तीन साल पहले की ख़बर में भी मौजूद थे।

 

 

वैसे, राहुल कँवल ने 15 दिसंबर को इस सौदे के कथित बिचौलिये क्रिशचियन मिशेल का इंटरव्यू दिखाया। यूएई से लाइव मिशेल ने तमाम दस्तावेज़ों के जाली होने का दावा किया। सवाल यह भी उठाया कि जब उसे लिखना आता है तो वह बजटशीट को डिक्टेट क्यों कराएगा ?

बहरहाल बिचौलिया झूठ बोल सकता है। यूपीए सरकार ने भी इस डील को संदिग्ध मानते हुए सौदा रद्द किया ही था।
लेकिन करीब आधे घंटे के इस इंटरव्यू में  राहुल कँवल वह सवाल पूछना क्यों भूल गए जिसकी ख़़बर उन्होंने खु़द की थी। सवाल यह कि इस सौदे में गाँधी परिवार का नाम बताकर तमाम आरोपों से बरी करने का लालच मिशेल को किसने दिया था। इसी साल 4 मई को राहुल ने यह ख़बर दी थी कि गाँधी परिवार को फँसाने के लिए मिशेल पर दबाव डाला जा रहा है। क्या राहुल का यह विस्मरण महज़ संयोग है ?

 

अब आइये स्टिंग अाँपरेशन पर। नोटबंदी के बाद ही देश के हर कोने में बीजेपी के नेता नए नोटों के बंडलों के साथ पकड़े गए, लेकिन आजतक के स्टिंग में सिर्फ विपक्षी दल के लोग हैं। यह अक्षमता का मामला है या सत्ता पक्ष की ओर से आँख मुूँद लेने का।
ध्यान रहे कि  नोटबंदी के कुछ पहले बिहार में बीजेपी के ज़मीन ख़रीद मिशन की जानकारी आजतक जैसे सबसे तेज़ चैनल ने नहीं दी थी। यह कशिश न्यूज़ जैसे छोटे से चैनल की कोशिश थी। ऐसा क्यों है कि बीजेपी के मामले में यह ग्रुप आजकल आमतौर पर गच्चा ही खाता है।

 

सवाल यह भी है कि मिशेल की बजटशीट पौने तीन साल बाद भी एक्सक्लूसिव है तो फिर आजतक और इंडिया टुडे सहारा -बिड़ला के उन दस्तावेज़ों पर ऐसा ही फॉलोअप क्यों नहीं कर रहे हैं जिसमें गुजरात सीएम को करोड़ों रुपये देना दर्ज है। मिशेल के बजटशीट को पवित्र मानने वालों के लिए ये काग़ज़ात अश्पृश्य क्यों हैं ? मिशेल का इंटरव्यू विदेश से हो सकता है तो सीएम को पैसा दैने वाले जायसवाल जी को तो देश में ही पकड़ा जा सकता है !

 

वैसे, मोदी के हनुमान बनने की कोशिश में राहुल कँवल पहले भी पकड़े जा चुके हैं। काफ़ी पहले उन्होंने ब्रिटेन के प्रधानमंत्री एटली को लिखि पं.नेहरू की एक चिट्ठी की ख़बर फोड़ी थी जिसमें नेताजी सुभाषचंद्र बोस को युद्ध अपराधी कहा गया था। राहुल ने इसे राजनीतिक भूकंप की संज्ञा दी थी। यह अलग बात है कि यह पूरी चिट्ठी पूरी तरह फ़र्ज़ी थी और पहले भी अख़बारों के चंडूख़ाने में जगह पा चुकी थी।

सुनिये, नेहरू की फ़र्ज़ी चिट्ठी को राजनीतिक भूकंप बताने वाले टीवी टुडे संपादक राहुल कँवल का फ़ोनो ! टोटल फ़्रज़ी….!

 

18 COMMENTS

  1. Great site. Lots of useful info here. I’m sending it to some friends ans also sharing in delicious. And of course, thank you for your effort!

  2. An exciting discussion is worth comment. I think that you simply ought to write additional on this subject, it may well not be a taboo topic but generally individuals are not enough to speak on such topics. Towards the subsequent. Cheers

  3. Wow that was unusual. I just wrote an very long comment but after I clicked submit my comment didn’t show up. Grrrr… well I’m not writing all that over again. Anyways, just wanted to say great blog!

  4. The very crux of your writing whilst sounding agreeable in the beginning, did not really work properly with me personally after some time. Someplace throughout the paragraphs you were able to make me a believer unfortunately just for a short while. I still have a problem with your leaps in assumptions and one might do nicely to fill in those breaks. When you can accomplish that, I could certainly be impressed.

  5. Pretty part of content. I simply stumbled upon your website and in accession capital to claim that I acquire actually enjoyed account your weblog posts. Any way I’ll be subscribing for your feeds and even I fulfillment you get admission to persistently fast.

  6. Thanks , I have just been looking for info about this subject for ages and yours is the greatest I have found out till now. However, what concerning the conclusion? Are you positive concerning the source?

  7. Soon after study several of the weblog posts in your web-site now, and I truly like your way of blogging. I bookmarked it to my bookmark web site list and will probably be checking back soon. Pls take a look at my web site as well and let me know what you feel.

  8. I think other site proprietors should take this site as an model, very clean and fantastic user friendly style and design, let alone the content. You are an expert in this topic!

  9. Nice post. I learn one thing a lot more challenging on different blogs everyday. It is going to usually be stimulating to read content material from other writers and practice just a little one thing from their store. I’d prefer to utilize some with the content material on my weblog no matter if you don’t mind. Natually I’ll offer you a link on your net weblog.

  10. My husband and i have been quite joyous that John managed to round up his reports from the precious recommendations he obtained out of your web pages. It’s not at all simplistic to just find yourself releasing tips and hints which many people have been selling. And now we consider we now have the blog owner to thank because of that. The type of explanations you have made, the easy website navigation, the friendships you help engender – it is many astonishing, and it is aiding our son in addition to us consider that the topic is satisfying, and that’s really mandatory. Many thanks for everything!

  11. hi!,I love your writing very so much! percentage we keep up a correspondence extra approximately your post on AOL? I require a specialist in this space to resolve my problem. May be that is you! Looking ahead to see you.

  12. With havin a lot content and articles do you somehow run into any problems of plagiarism violation? My site has a lot of exclusive content I’ve either created myself or outsourced but it looks like a lot of it is popping it up all over the web without my authorization. Do you know any methods to help protect against content from being stolen? I’d genuinely appreciate it.

  13. Spot on with this write-up, I truly assume this website wants much more consideration. I’ll in all probability be once more to learn rather more, thanks for that info.

  14. whoah this blog is excellent i love reading your articles. Keep up the good work! You know, many people are hunting around for this info, you can help them greatly.

  15. I do agree with all the ideas you have presented in your post. They are very convincing and will definitely work. Still, the posts are too short for beginners. Could you please extend them a little from next time? Thanks for the post.

  16. I like the valuable info you provide in your articles. I’ll bookmark your weblog and check again here regularly. I am quite sure I will learn a lot of new stuff right here! Good luck for the next!

  17. I am really enjoying the theme/design of your blog. Do you ever run into any internet browser compatibility problems? A few of my blog audience have complained about my blog not operating correctly in Explorer but looks great in Safari. Do you have any solutions to help fix this issue?

LEAVE A REPLY