Home टीवी जब राजीव गाँधी ने अरुण पुरी के लिए कहा था- देखो, प्रेस...

जब राजीव गाँधी ने अरुण पुरी के लिए कहा था- देखो, प्रेस मेरे क़दमों में है!

SHARE
सरकार और मीडिया के रिश्तों की अद्भुत कहानी के किरदार हैं गांधी परिवार और अरुण पुरी
प्रशांत टंडन 

कल इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में अरुण पुरी जब सोनिया गांधी का इंटरव्यू ले रहे थे तब दोनों तरफ से सहजता देख कर अच्छा लगा – ये दो पुराने रिश्तों का भारत मिलाप भी था.

राजीव गांधी और अरुण पुरी दून स्कूल के सहपाठी थे. राजीव की कैबिनेट में भी दून स्कूल के सहपाठी थे. इंडिया टुडे मैगजीन उस वक़्त एजेंडा सेट करती थी. मज़ाक में कहा जाता था DOSCO is running India today..(देश दून स्कूल ओल्ड ब्व्याज़ चला रहे हैं)

इस तस्वीर ने रिश्ते बिगाड़ दिये थे:

बात 1985 की है दून स्कूल के 1960 के बैच का रीयूनियन था. यादगार तस्वीर खिंच रही थी. राजीव गांधी प्रधानमंत्री थे और अरुण पुरी इंडिया टुडे के संपादक. फोटोग्राफर ने कुछ इस तरह सबको बैठाया की राजीव गांधी कुर्सी मे थे और अरुण पुरी ठीक उनके सामने ज़मीन पर. (नीले कोट ने सबसे आगे). किस्सा मशहूर है कि तस्वीर खिचते वक़्त राजीव गांधी ने मज़ाक में कह दिया “look Press is sitting at my foot” (प्रेस मेरे कदमों में हैं) सब हँस दिये और ये तस्वीर खिंच गई.

कहते हैं कि अरुण पुरी ने इस मज़ाक को सहजता से नहीं लिया और दो दोस्तों में रिश्ते तल्ख हो गए. जब बोफोर्स हुआ तब इंडिया टुडे ने बढ़ चढ़ कर रिपोर्टिंग की. उन्ही दिनो राष्ट्रपति ज्ञानी ज़ैल सिंह और राजीव गांधी के रिश्ते भी मधुर नहीं थे. ज़ैल सिंह ने पोस्टल बिल को मंजूरी नहीं दी थी. इंडिया टुडे ने ज़ैल सिंह का सनसनीखेज इंटरव्यू छापा. वहीं से राजीव गांधी की मिस्टर क्लीन की इमेज को बड़ा धक्का लगा था. वो स्टोरी प्रभु चावला ने की थी. वो भी कल के कॉन्क्लेव में एकरिंग कर रहे थे.

ये तस्वीर कारण बनी हो या नहीं पर प्रेस और सरकार के रिश्ते वैसे ही होने चाहिए जैसे राजीव गांधी और अरुण पुरी के थे. और प्रेस विपक्ष के साथ भी वैसा ही सहज होना चाहिए जैसा कल के कॉन्क्लेव में अरुण पुरी और सोनिया गांधी दिखे.

अफसोस कि हो उल्टा रहा है मीडिया सरकार के साथ है और जवाबदेही विपक्ष की तय कर रहा है. और सब जगह के साथ इन्ही अरुण पुरी के चैनलों में भी वही हो रहा है जो अपने आप में एक मिसाल हैं.


फेसबुक से साभार 

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.