Home टीवी आधार कानून के तहत पहली FIR का शिकार बना दिल्‍ली का पत्रकार

आधार कानून के तहत पहली FIR का शिकार बना दिल्‍ली का पत्रकार

SHARE

साल भर पुराने आधार कानून की खामियों को लेकर अब भी बहस जारी है, लेकिन इस बीच इस कानून के अंतर्गत दिल्‍ली में पहली एफआइआर दर्ज हो चुकी है। यह मामला सीएनएन न्‍यूज़ 18 के पत्रकार देबायन रॉय के खिलाफ़ दर्ज किया गया है जिन्‍होंने आधार के पंजीकरण में मौजूद खामियों को दर्शाने के लिए एक स्‍टोरी की थी। इस स्‍टोरी का नतीजा यह हुआ कि उन्‍हीं के खिलाफ इस आरोप में मुकदमा मढ़ दिया गया कि उन्‍होंने एक ही पहचान के आधार पर दो नामों से आधार कार्ड बनवाने की कोशिश की।

देबायन द्वारा रिपोर्ट की गई न्‍यूज़ 18 की स्‍टोरी में यह दिखाने की कोशिश की थी कि एक व्‍यक्ति एक ही सूचना के आधार पर दो आधार संख्‍याएं हासिल कर पाने में सक्षम है। चूंकि रॉय को इस पूरी प्रक्रिया के बाद आधार कार्ड नहीं प्राप्‍त हुआ, तो ज़ाहिर है यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी (यूआइडीएआइ) के पास कहने को यह होगा कि उसकी प्रक्रिया फुलप्रूफ है और उसने एक गलत काम होने से रोक लिया। सवाल हालांकि इससे कहीं ज्‍यादा व्‍यापक है जिसे न्‍यूज़ 18 की स्‍टोरी उठाती है।

बड़ा सवाल यह है कि कोई भी विदेशी नागरिक जो अवैध तरीके से देश की सीमा में आया हो, वह मात्र 700 रुपये खर्च कर के एक आधार कार्ड बनवा सकता है और उसके बाद तमाम तरीके की सुविधाएं हासिल कर सकता है। यूआइडीएआइ ने स्‍टोरी के इस पहलू को पूरी तरह नजरअंदाज कर दिया है। ऐसे मामले वास्‍तव में सामने आ चुके हैं जहां एक ही व्‍यक्ति एक ही तरह की सूचनाएं देकर दो आधार कार्ड बनवा चुका है।

न केवल इंसानों का बल्कि कुत्‍तों का आधार कार्ड भी बन चुका है और भगवान हनुमान का आधार कार्ड तो बहुत पहले बन चुका था।

 

कुछ दिन पहले देश के जाने-माने अर्थशास्‍त्री ज्‍यां द्रेज़ ने आधार कानून की खामियों पर सवाल उठाते हुए टाइम्‍स ऑफ इंडिया से कहा था, ”कानून के पहले मसविदे और आखिरी स्‍वरूप के बीच एक बड़ा भारी बुनियादी अंतर रहा है- पूर्ववर्ती मसविदा अथॉरिटी द्वारा प्रमाणन के मसले पर ‘हां और ना’ में बात करता था जबकि 2016 के कानून में व्‍यक्तियों की सूचना के एजेंसियों तक हस्‍तांतरण की बात शामिल है।” उनका कहना है कि कोई भी व्‍यक्ति या एजेंसी अगर यूआइडीएआइ से किसी व्‍यक्ति के विवरण प्राप्‍त करने का अनुरोध करे, तो उसे डेमोग्राफिक सूचना एक निश्चित शुल्‍क अदा करने के बाद हासिल हो जा सकती है, जिसमें बेशक बायोमीट्रिक विवरण नहीं होंगे।

नागरिक द्वारा कंसेन्‍ट यानी सहमति का मामला इतना भर है कि ऐप डाउनलोड करने के बाद उसे एक लंबे से टेक्‍स्‍ट पर ‘आइ अग्री’ (मैं सहमत हूं) का निशान लगाना होता है। इतने भर से कोई एजेंसी चाहे तो उसकी सूचना यूआइडीएआइ से खरीद सकती है।

आधार कार्ड के मामले में पहले भी एक एफआइआर स्‍कॉच डेवलपमेंट फाउंडेशन के चेयरमैन और मोदीनॉमिक्‍स नामक पुस्‍तक के लेखक समीर कोचर के खिलाफ की जा चुकी है, लेकिन चह मुकदमा आइटी कानून के अंतर्गत दर्ज किया गया था क्‍योंकि उस वक्‍त दिल्‍ली पुलिस के सिस्‍टम में आधार कानून की धारा के तहत एफआइआर करने की सुविधा नहीं थी। कोचर ने अपनी पत्रिका Inclusion में एक लेख लिखा था जो आधार प्रणाली पर सवाल उठाता था। लेख का शीर्षक था- Is a deep state at work to steal digital India.

दो हफ्ते बाद एजेंसी ने कोचर पर एफआइआर दर्ज कर दी। इस मामले पर scroll.in ने पूरे विवरण के साथ एक स्‍टोरी प्रकाशित की थी। उसे यहां देखा जा सकता है और समझा जा सकता है कि क्‍यों और कैसे आधार प्रणाली की खामियां उजागर करने वालों के खिलाफ़ मुकदमे कायम किए जा रहे हैं।

(इस ख़बर में मीडियानामा पर छपी एक ख़बर से कुछ सामग्री साभार ली गई है)

 

 

20 COMMENTS

  1. अब जब एफआईआर हो ही गई है तो मामला देर-सबेर साफ होगा। लेकिन एक आदमी के दो कार्ड बन जाना संभव भी हो तो पहचान के लिए एक कार्ड होने में कोई बुराई नहीं है। जो मामले सामने आए और कुत्ते व हनुमान जी का कार्ड बनना तो मनुष्य की इच्छा है। कोई चाहेगा तो बन ही जाएगा। इससे कार्ड की अनुपयोगिता या इसकी खामी साबित नहीं होती।

  2. Hmm it seems like your website ate my first comment (it was super long) so I guess I’ll just sum it up what I submitted and say, I’m thoroughly enjoying your blog. I too am an aspiring blog writer but I’m still new to the whole thing. Do you have any points for novice blog writers? I’d really appreciate it.

  3. I like what you guys are up also. Such intelligent work and reporting! Keep up the superb works guys I have incorporated you guys to my blogroll. I think it’ll improve the value of my web site 🙂

  4. Nice blog! Is your theme custom made or did you download it from somewhere? A theme like yours with a few simple tweeks would really make my blog jump out. Please let me know where you got your theme. Many thanks

  5. I beloved as much as you’ll obtain performed proper here. The cartoon is tasteful, your authored subject matter stylish. however, you command get bought an impatience over that you would like be turning in the following. in poor health no doubt come more earlier again as precisely the same nearly very steadily inside of case you protect this hike.

  6. What’s Happening i’m new to this, I stumbled upon this I have found It absolutely helpful and it has helped me out loads. I hope to contribute & aid other users like its helped me. Good job.

  7. I used to be recommended this website by way of my cousin. I’m now not positive whether this put up is written through him as nobody else realize such special about my trouble. You’re wonderful! Thanks!

  8. I’d should examine with you here. Which is not something I often do! I get pleasure from studying a post that will make folks think. Additionally, thanks for allowing me to comment!

  9. I do trust all of the ideas you’ve offered for your post. They are very convincing and will definitely work. Still, the posts are very quick for novices. May you please prolong them a little from subsequent time? Thank you for the post.

  10. Right after study some of the weblog posts in your internet site now, and I genuinely like your way of blogging. I bookmarked it to my bookmark internet site list and will likely be checking back soon. Pls check out my website as well and let me know what you feel.

  11. excellent post, very informative. I wonder why the other experts of this sector do not notice this. You must continue your writing. I am confident, you’ve a great readers’ base already!

  12. Hi are using WordPress for your site platform? I’m new to the blog world but I’m trying to get started and create my own. Do you require any coding knowledge to make your own blog? Any help would be greatly appreciated!

  13. I am not sure where you’re getting your information, but good topic. I needs to spend some time learning much more or understanding more. Thanks for wonderful information I was looking for this info for my mission.

  14. Its such as you read my thoughts! You appear to understand so much about this, such as you wrote the ebook in it or something. I believe that you just can do with some to power the message house a little bit, but instead of that, that is fantastic blog. A fantastic read. I will definitely be back.

  15. I savor, lead to I found just what I was taking a look for. You’ve ended my four day long hunt! God Bless you man. Have a nice day. Bye

  16. You can definitely see your skills within the paintings you write. The arena hopes for more passionate writers like you who are not afraid to mention how they believe. Always go after your heart.

LEAVE A REPLY