Home टीवी बाबरी मस्जिद दोबारा नहीं बनी तो ‘भारत’ हार जाएगा !

बाबरी मस्जिद दोबारा नहीं बनी तो ‘भारत’ हार जाएगा !

SHARE

बाबरी मस्जिद दिल दहाड़े तोड़ी गई। किसने तोड़ी यह सबके सामने है। लेकिन न्याय का आलम ये है कि 25 साल बाद सिर्फ यह तय हो पाया कि अभियुक्तों पर मुकदमा चलेगा जिनमें बीजेपी के परामर्शमंडल में पहुँच चुके लालकृष्ण आडवाणी और डा.मुरली मनोहर जैसे वरिष्ठ नेता भी हैं। यह बात राजनीतिक विमर्श से गायब ही हो गई कि बाबरी मस्जिद तोड़ने वालो को सजा दी जानी चाहिए। यह बात भी भुला दी गई है कि तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हाराव ने दोबारा वहीं मस्जिद बनवाने का वादा किया था।

आज किसी राजनीतिक दल में यह कहने की हिम्मत नहीं कि बाबरी मस्जिद को दोबारा बनाना ही असल न्याय होगा, वरना भारत नाम के विचार की हार हो जाएगी। आपको यह खरी बात सुनकर अचरज लग रहा हो तो वजह भी जान लीजिए।

हम आज जिस गणतांत्रिक भारत की बात करते हैं, उसका जन्म 26 जनवरी 1950 को हुआ।

भारत में संविधान के रूप में ऐसी एक किताब लिखी गई जैसी पहले कभी लिखी ही नहीं गई थी।

संविधान पहली किताब है जिसने सभी नागरिकों को बराबर मानते हुए उनके दायित्व और अधिकार निर्धारित किए।

संविधान की नजर में जाति, धर्म, भाषा, प्रांत के आधार पर भेदभाव की कोई गुंजाइश नहीं है।

बाबरी मस्जिद पर हमला इसी संविधान पर हमला है। यह ‘भारत’ नाम के विचार पर हमला है।

पंकज श्रीवास्तव की यह रिपोर्ट सूर्या समाचार पर प्रसारित हुई। आप नीचे वीडियो क्लिक करके इसे देख सकते हैं। कुछ मित्रों की शिकायत है कि मोबाइल पर, फेसबुक के जरिये खबर पाने पर वीडियो नहीं दिखता। उनसे अनुरोध है कि सीधे mediavigil.com वेबसाइट पर जाएँ या यहाँ क्लिक करें।

1 COMMENT

  1. What about scores of major communal riots and CONSIDERABLE SAFFRONIZATION OF PAC, POLICE EVEN JUDICIARY SINCE 1950 . CAN YOU SAY THAT DIFFERENT ORGANS OF STATE APPARATUS BEHAVED NEUTRALLY IN 1950s , 60s ?
    Why bourgeois State will ABOLISH communal elemo, parties etc . That’s why a person like Nehru wasn’t much worried about RSS. Rather helpful in 1949 incarnation oof Ram by a goon , not CRUSHED RSS even post killing of Gandhi , even allowed parade of RSS during 1962.
    Unless transformation of capitalism into the socialist state job can’t be achieved.
    Which political party don’t like to divide people on religious and caste line ? Congress ? Even Cpim etc ?

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.