Home टीवी ‘मोदीमुख’ अर्णव ने मनमोहन सिंह पर निकाला उड़ी हमले का ग़ुस्सा !

‘मोदीमुख’ अर्णव ने मनमोहन सिंह पर निकाला उड़ी हमले का ग़ुस्सा !

SHARE

 उड़ी में हुए आतंकवादी हमले की चर्चा के दौरान  पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को कोसना कहाँ तक उचित है ? लेकिन टाइम्स नाउ के एडीटर इन चीफ अर्णव गोस्वामी की मोदी भक्ति उन्हें ऐसा करने को मजबूर कर रही है। या कहें कि मोदी की छवि बचाने के लिए मनमोहन की आड़ लेना ज़रूरी हो गया है। वरना तो ऐसे मामलों में वे सरकार की बैंड बजाते रहे हैं।  अर्णव जैसे बैंड मास्टर को खुद बैंड  में तब्दील होते देखना दिलचस्प है..ख़ैर, पढ़िये एक रिपोर्ट–
उड़ी में अब तक 18 सैनिकों के मारे जाने की खबरों के बीच भारतीय जनता पार्टी की केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आलोचना के घेरे में हैं। चुनाव से पहले एक के बदले 10 सिर लाने के उनके वादे को याद कराया जा रहा है, और भाजपा के पास इसका कोई जवाब नहीं है।

ऐसे में भाजपा और संघ के लिए उड़ी में हुए हमले का बचाव करना मुश्किल हो रहा है, लेकिन टाइम्स नाउ के एडीटर इन चीफ अर्णव गोस्वामी ऐसे में भाजपा के बचाव में सामने आए हैं। अपनी विचित्र हरकतों और चीखने-चिल्लाने के लिए चर्चित अर्णव ने तर्क भी विचित्र दिया है और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को उरी के हमले से संबंधित चर्चा में दोषी ठहराया है।

सेवानिवृत्त लेफ्टीनेंट जनरल जैसवाल, टाइम्स नाउ के रेसीडेंट एक्सपर्ट मारूफ रज़ा, पूर्व सेनाध्यक्ष और अब आरएसएस के विचारक मेजर जनरल जी डी बक्शी और पूर्व राजनयिक जी पार्थसारथी जैसे गेस्ट की मौजूदगी में रविवार को अर्णव गोस्वामी ने अपने टीवी शो में उड़ी हमले के संदर्भ में   पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को कोसा

शो का टॉपिक तो ये था कि क्या भारत को पाकिस्तान पर हमला करना चाहिए, लेकिन अपने भाजपा कनेक्शन के चलते खुद अर्णव बात को घुमाकर मनमोहन सिंह पर ले गए। अन्य अतिथियों ने तो भाजपा सरकार के इरादों में स्पष्टता की कमी की ओर इशारा किया लेकिन अर्णव ने इस हमले को मनमोहन सिंह की महान गलती का नतीजा बताया।

अर्णव ने कहा, “29 सितंबर, 2013 को मनमोहन सिंह ने न्यूयॉर्क में नवाज़ शरीफ के साथ घंटे भर की मुलाकात करके सबसे बड़ी गलती की थी। उसके कुछ ही दिन पहले जम्मू और कश्मीर के कठुआ और साँबा में दो आतंकवादी हमले हुए थे।”

अर्णव को इसी साल पठानकोट में हुआ हमला याद नहीं आया और 2013 के कठुआ और सांबा के हमले याद आ गए। अर्णव पूरी तरह से आरएसएस के वक्ता की तरह पेश आए और केंद्र सरकार द्वारा उड़ी  हमले की कड़ी निंदा की तारीफ करते रहे।

ये कोई अचरज की बात नहीं। ये बात छिपी नहीं है कि अर्णव गोस्वामी के पिता मनोरंजन गोस्वामी 1998 में गुवाहाटी लोकसभा सीट पर भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़कर हार चुके हैं। उनके मामा सिद्धार्थ भट्टाचार्य असम भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष रह चुके हैं और इस समय गुवाहाटी ईस्ट से भाजपा के विधायक हैं।
(महेंद्र नारायण सिंह यादव की रिपोर्ट पर आधारित, जो सबरंग इंडिया में प्रकाशित हुई )

नीचे यूट्यूब का वह लिंक है जिसमें 19:25 पर अर्णव मनमोहन को कोसते नज़र आ रहे हैं। .

https://www.youtube.com/watch?v=bSqnW5utxuI

 

8 COMMENTS

  1. Si, de hecho David Heyman el productor se lo pidió (Mismo productor de Gravity), pero lo rechazo según tengo entendido, Cuarón quería tener mas libertad creativa, aparte en ese momento Cuarón quedo un poco agotado con el proceso de producción,… Pufff imagínense Children of Men y Gravity; claro no sabía en su momento nada de eso xD

  2. I’d should test with you here. Which isn’t something I often do! I take pleasure in studying a post that can make people think. Additionally, thanks for permitting me to remark!

  3. Can I just say what a relief to locate someone who in fact knows what theyre talking about on the web. You absolutely know ways to bring an problem to light and make it significant. Much more individuals have to read this and comprehend this side of the story. I cant think youre not a lot more common since you definitely have the gift.

  4. Great post but I was wondering if you could write a litte more on this subject? I’d be very thankful if you could elaborate a little bit further. Bless you!

  5. Heya! I just wanted to ask if you ever have any problems with hackers? My last blog (wordpress) was hacked and I ended up losing many months of hard work due to no back up. Do you have any solutions to prevent hackers?

LEAVE A REPLY