Home टीवी सुप्रीत कौर इस सच की निशानी हैं कि काम में काम की...

सुप्रीत कौर इस सच की निशानी हैं कि काम में काम की मर्यादा से बड़ा और कुछ नहीं होता!

SHARE

शशिभूषण

आज टाइम्स ऑफ़ इंडिया में जब छत्तीसगढ़ के न्यूज़ चैनल IBC 24 की एंकर सुप्रीत कौर के काम के बारे में पढ़ा तो अंग्रेज़ी कुछ खास न जानने के बावजूद मन भर आया।

सुप्रीत कौर चैनल में जिस वक्त ऑन एयर थी उसी वक्त एक रोड एक्सीडेंट की खबर ब्रेक हुई। सुप्रीत कौर ने समाचार देना शुरू किया तभी संवाददाता ने जो डिटेल्स दिये उन दृश्यों से पता चला कि सड़क दुर्घटना में सुप्रीत कौर के ही पति की मौत हो चुकी है। सुप्रीत ने विचलित हुए बिना अपनी ड्यूटी पूरी की।

यह पहाड़ टूटने जैसे घोर दुःख के बीच कर्तव्य पालन की बड़ी इंसानी मिसाल है। बड़े बड़े हिम्मतवर सुध बुध खो देते हैं, सदमें में चले जाते हैं। सुप्रीत कौर जैसी इंसानियत और शख्सियत का होना कितने भी बड़े दुख के बावजूद ईमानदार कर्तव्य पालन की एक जीती जागती घटना है। इसे कभी न भुलाया जा सकेगा!

मुझे बीते सालों की एक बात याद आती है-

2003 या 2004 का साल रहा होगा। मई जून की चिलचिलाती, लू भरी गर्मियों के दिन। आकाशवाणी रीवा में मेरी एनाउंसमेंट की नाइट ड्यूटी थी। मैं नया नया था। काम बड़ा और ज़िम्मेदारी भरा होता था। भीतर से डर और धुकधुकी जाते ही न थे। संयोग से उस दिन युववाणी और चौपाल दोनों के कम्पियर की ड्यूटी नहीं लगी थी। सब मुझे ही करना था। ड्यूटी बड़ी पैक्ड थी। मैं गांव से दोपहर में ही आ गया था। कोई दिली बात थी कि मैंने खाना नहीं खाया था और तबियत भी ख़राब थी।

ड्यूटी ठीक-ठाक शुरू हुई। सब ठीक ठाक जा रहा था। लेकिन कमजोरी से हिम्मत चुक रही थी। सीनियर एनाउंसर तनुजा मित्रा जिन्हें मैं तनुजा दीदी कहता हूँ और जिनके लिए मेरे दिल में अमिट लगाव और सम्मान है ड्यूटी ऑफिसर थीं। तनुजा दीदी कभी न हलके मूड में दिखती थीं न माफ़ करनेवाली। सदा एक सा अनुशासन और कड़ाई। वे थोड़ी नरम और मिलनसार केवल तब लगतीं थीं जब रात के 9 बजे के आस-पास खाने के लिए पूछतीं और खुद खाना खाने के बाद पान खाकर इत्मीनान से पांच दस मिनट के लिए बैठतीं। तब वे बड़ी खिलकर देखतीं थीं और कोई न कोई ताकत की बात बोलतीं थीं।

तनुजा दीदी बहुत कीन थीं। प्यारी आवाज़ की धनी एनाउंसर। बेटे बहु के साथ रहतीं थीं। पति बहुत पहले गुज़र गये थे। मैंने उनसे बहुत रेडियो सीखा। कोई फॉल्ट तनुजा दीदी से रिपोर्ट होने से नहीं बच पाती थीं। लेकिन वे डांटती नहीं थीं। कुछ खास दूसरों की तरह स्टूडियो आकर कुछ नहीं कहती थीं। ज़लील करना उनके स्वभाव में ही नहीं था। वे सबसे वाजिब दूरी रखतीं थीं लेकिन उसमें बड़ी आत्मीयता, सौजन्य और सम्मान भी रहते थे। लेकिन ख़ाली होने पर ड्यूटी रूम में दरयाफ्त ज़रूर करती थीं। क्या क्या गलती हुई? उनके पूछने में ही दम और सच निकल आते थे। भीतर भीतर कुछ चुभ भी जाता था।

उस दिन मुझसे विज्ञापन छूट गया था, फ़िलर नहीं बज पाया था और गोइंग ओवर एनाउंसमेंट में निजी उदासी चली गयी थी।

तनुजा दीदी ने मेरी ग़लती मुझसे ही सुनकर गलती हो गयी के जवाब में कहा- शशिभूषण, तुम ग़लती करने के लिए स्टूडियो में नहीं होते हो। स्टूडियो निजी सुख-दुख की जगह नहीं है। एक बार कंसोल के सामने बैठो तो घर परिवार भुला दो। एनाउंसमेंट भले तुम करते हो लेकिन वे तुम्हारी भावनाओं के लिए नहीं हैं। रेडियो सुनने वाले लाखों लोग तुम्हें नहीं प्रोग्राम सुनने के लिए रेडियो चालू करते हैं।

और भी कई बातें थीं। उस दिन ही ये सबक मिला कि कैसे लोग अपने हिस्से का काम करते हैं। काम में काम की मर्यादा से बड़ा कुछ नहीं। अपना काम करो और फालतू उलझो मत। मैं भावुक हो चला था। लेकिन तनुजा दीदी निस्पृह थीं। मुझे तनुजा दीदी से दूसरी सीख या कहिए सपोर्ट यह मिले कि बहस करना कभी नहीं छोड़ना। मैंने कहा था कि मैं हमेशा बहस में पड़ जाता हूँ और इससे बड़े दुख और नुकसान मिलते हैं। तनुजा दीदी ने शांत भाव से कहा- तुम बहस करना छोड दोगे तो अपना बड़ा नुकसान करोगे। तर्क तुम्हारे स्वभाव में है। नाराज़गी की परवाह मत करो। अपने स्वभाव के साथ ही आगे बढ़ना चाहिए।

तनुजा दीदी के जीवन के दुःख याद करता हूँ तो उनकी ड्यूटी, आवाज़ और सीखें और प्यारी हो उठती हैं। उनकी सीखें मंत्र सरीखी लगती हैं। सालों हो गये उनकी कोई खबर नहीं। लेकिन वे कभी भूल नहीं सकतीं।

आज यही खयाल आता है कोई चाहे जहाँ है लेकिन अपना काम सच्चाई से करता है तो दुनिया उसी से चलती है। संसार सच्चाई से ही चल रहा। इतनी चीज़ें ठीक ठाक है तो जाने अनजाने लोगों की ईमानदार, नि:स्वार्थ मेहनत से ही

अच्छे लोग अपने काम से एक दिन अवश्य जाने जाते हैं। ज़िन्दगी का कुछ ठीक नहीं आज है कल न रहे। लेकिन काम रहते हैं।

सुप्रीत के लिए सैल्यूट और संवेदनाएं…

(लेखक शिक्षक और आकाशवाणी में उद्घोषक हैं। टिप्‍पणी उनकी फेसबुक दीवार से साभार है)

 

48 COMMENTS

  1. We are a group of volunteers and starting a new scheme in our community. Your site offered us with valuable info to work on. You’ve done a formidable job and our entire community will be thankful to you.

  2. Hi, Neat post. There’s a problem along with your web site in web explorer, could check this… IE nonetheless is the market leader and a huge element of other folks will pass over your magnificent writing because of this problem.

  3. Wow, thjs poost iis nice, my siser iis analyzing hese knds oof things, thereore
    I aam going tto inform her. I’ve ben surfing on-line more
    than 3 hourts today, bbut I bby nno means found any fascinating aarticle like yours.

    It’s beauttiful pdice suffihient ffor me.
    In mmy opinion, iff alll weeb owners andd bloggers ade just right
    cotent materiaal ass youu probaly did, thhe internst might be a lot moee
    helpful thjan ever before. I wil rigbt awa gfasp your rsss feeed ass I can’t
    tto fjnd ylur email subscription linkk oor newslettr service.
    Do yyou hawve any? Kindly llet mme kmow sso thhat I
    mayy subscribe. Thanks. http://foxnews.net/

  4. Almost all of whatever you say is supprisingly precise and that makes me wonder the reason why I had not looked at this with this light before. This piece truly did switch the light on for me as far as this particular subject matter goes. Nevertheless there is actually one point I am not necessarily too comfy with so whilst I make an effort to reconcile that with the actual core theme of the issue, let me observe exactly what the rest of the visitors have to point out.Nicely done.

  5. You could certainly see your enthusiasm within the paintings you write. The arena hopes for more passionate writers such as you who aren’t afraid to mention how they believe. Always follow your heart.

  6. I have read a few good stuff here. Definitely worth bookmarking for revisiting. I surprise how much effort you put to make such a great informative web site.

  7. Hi there I just wanted to salute you. The words in your article seem to be running off the screen in Internet explorer. I’m not sure if this is a format issue or something to do with web browser compatibility but I figured I’d say something to let you know. The design and style look great though! Hope you get the issue fixed soon. Cheers!?

  8. What’s Happening i’m new to this, I stumbled upon this I’ve found It positively helpful and it has helped me out loads. I hope to contribute & help other users like its helped me. Great job.

  9. You made some decent points there. I looked on the web for the concern and located most people will go along with with your internet site.

  10. Hey there! Do you know if they make any plugins to safeguard against hackers? I’m kinda paranoid about losing everything I’ve worked hard on. Any suggestions?

  11. I feel this iss among tɦе sᥙch ɑ lot ssignificant info
    foг me. Аnd i’m glad reading your article.
    Bᥙt wanna statement οn sоme common issues, Thee site style is wonderful, tɦe articles іs truⅼy excellent : Ꭰ.
    Juѕt ritht activity, cheers

  12. I do not ᥱνen қnoᴡ ɦow I ended ᥙp hᥱre, but І thought thiѕ
    post wwas ɡood. I do not қnow who you are but certainly yoou аrᥱ going to a famous blogger іf you are not alrᥱady 😉 Cheers!

  13. I don’t even know how I ended up here, but I thought this post was great. I don’t know who you are but definitely you are going to a famous blogger if you are not already 😉 Cheers!

  14. I am extremely inspired with your writing abilities and also with the structure on your blog. Is this a paid subject matter or did you customize it yourself? Anyway stay up the nice high quality writing, it is rare to see a nice weblog like this one nowadays..

  15. Hey I just wanted to give you a quick heads up. The text in your article seem to be running off the screen in Internet explorer. I’m not sure if this is a format issue or something to do with web browser compatibility but I figured I’d comment to let you know. The style and design look great though! Hope you get the problem resolved soon. Thanks!

  16. Ꮋі there! This blog post cߋuldn’t be writtеn muuch bеtter!

    Ꮮooking through this postt reminds mе οf mʏ previoᥙs roommate!

    He constantly kept preaching аbout this. Ӏ wіll forwqrd this poost tto him.

    Fairly ceгtain Һe will have a ցood rеad. Thanks for
    sharing!

  17. I expected to discover quite rapid charge times while
    using PS3 controllers but I am can not genuinely tell any differences.
    Unlike most other online slot games, there are
    no actual spinning wheels but symbols pop up when simply
    clicking on ‘spin’. This deep thought processes encourages you believe and understand situations, that may be placed on all things in your daily life.

  18. I expected to discover quite rapid charge times using the PS3 controllers but I am not
    able to genuinely tell any differences. The object is to advance to numerous levels as
    you can and earn as many points as you’ll be able to.

    Each single corporate brand is utilizing this at the fullest today in order to have
    their desired ends attained, when it comes to higher
    returns to scale, enhanced brand recall, active user participation, which ends up in increased good will and lots of other benefits.

  19. The Xbox 360 games are no longer clever creations of
    a few computer savvy graphic artists; they may be like blockbuster movies produced by a team pc, artistic, and audio experts.
    The war scenes help keep you overly excited, and you will probably love them more compared to the beautiful women. to create up because of it on the aforesaid term to presumably get ripe on the start through
    the Play – Station terzetto edition in 2011, ethical registered listed
    here are few highlights from what are the ontogenesis team is as
    a ample provide as greater in comparison with shadowing handful of months.

  20. After going over a handful of the blog posts on your web page, I truly like your way of writing a
    blog. I book marked it to my bookmark webpage list and
    will be checking back in the near future. Take a look at my web site
    too and let me know how you feel.

  21. I think your website needs some fresh content. Writing manually takes
    a lot of time, but there is tool for this time consuming task, search for: Boorfe’s
    tips unlimited content

LEAVE A REPLY