Home टीवी सुपारी संपादकों ने किया बीजेपी के सामने सरेंडर, टीवी पर डेढ़ लाख...

सुपारी संपादकों ने किया बीजेपी के सामने सरेंडर, टीवी पर डेढ़ लाख दलितों की सभा अछूत!

SHARE

भारत का टीवी इन दिनों असंभव और दुर्दांत किस्म की घटनाओं को दर्ज कर रहा है। जंतर-मंतर पर डोनल्ड ट्रंप की फोटो को केक खिलाकर बर्थडे मनाने के कुल बीस संघी लफंगों के जुटान को प्राइम टाइम खबर बना देने वाले संपादकों को मुंबई में डेढ़ लाख लोगों की उमड़े दलितों का सैलाब नज़र ही नहीं आया। दादर के ऐतिहासिक अंबेडकर भवन पर बुलडोज़र चलाने के खिलाफ डेढ़ लाख से ज्यादा लोगों का इकट्ठा हो जाना टीवी के संपादकों के लिए खबर ही नहीं थी।


13718549_1104837286276928_5458006938112207729_n

हैरत है कि उसी दिन अंजना ओम कश्यप यूपी के किसी चौराहे पर कुल 42 लोगों के जत्थे के बीच यूपी का मूड जानने का दावा कर रही थीं। लेकिन आजतक के संपादक सुप्रिय प्रसाद को नहीं लगा कि मुंबई जैसे शहर में जहां मुबारक बेगम जैसी महान गायिका के जनाज़े में शामिल होने के लिए बीस लोग भी नहीं मिलते वहां लाखों लोगों का उमड़ जाना खबर है। यह एबीपी के ताजा संपादक मिलिंद खांडेकर को भी नहीं लगा। मिलिंद तो खुद मुंबई में लंबे समय तक रहे हैं। वो जानते हैं कि बीएमसी के सामने डेढ़ लाख लोगों के जुट जाने का राजनैतिक मतलब क्या होता है।

सुधीर चौधरी और रोहित सरदाना वाले ज़ी न्यूज़ को तो खैर वैसे भी मोदी की रैली के अलावा कहीं और जमा होने वाले लोगों को जनता नहीं मानता। टाइम्स नाऊ तो चलता ही मुंबई से हैं। लेकिन वर्ली सी लिंक पर तेज़ रफ्तार कार को देखकर पुलिस को फोन कर देने वाले सतर्क अर्णव गोस्वामी को अपने शहर की राजनीति की बदलती हुई हवा समझ में नहीं आई। बचा दीपक चौरसिया का इंडिया न्यूज़ तो उनका टेप कहां से आता है किसी से छिपा नहीं है। पद्मभूषण रजत शर्मा के इंडिया टीवी की आंखें डेढ़ लाख लोगों की सभा को सभा ही नहीं मानती होगी। न्यूज़ नेशन बिक्रम बेताल के मोड में जा चुका है तो उसे माफ कर दीजिए। लेकिन सबसे ज्‍़यादा हैरत हुई न्यूज़ 24 पर दलितों की सभा के बहिष्कार पर।

यह मान लेना कुछ ज्यादा बड़ी मासूमियत हो जाएगी कि किसी भी चैनल के मुंबई ब्यूरो को पता ही नहीं चला कि मुंबई में डेढ़ लाख दलितों ने बीजेपी की राजनीति में कील ठोक दी है। दरअसल जिस तरह से दलित उत्पीड़न के मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गुजरात से भोपाल, जयपुर और हैदराबाद तक फजीहत हो रही है उससे बचाने का ठेका टीवी चैनलों के मालिकों और संपादकों ने मिलजुलकर उठा लिया। अलग-अलग चैनलों के सूत्र बताते हैं कि लगभग हर चैनल के मुंबई ब्यूरो को दलितों की महासभा के कवरेज से दूर रहने के निर्देश दिए गए थे। कहा गया था कि कुछ गड़बड़ी हुई तो एएनआई से फीड ले ली जाएगी।

13781931_1104837356276921_2938193403981148936_n

सभा में मौजूद लोगों ने बताया कि लोगों का सैलाब देखकर सरकार की नींद उड़ गई थी। बीएमसी से लेकर पूरे जेजे फ्लाईओवर तक डेढ़ लाख से ज्यादा लोग भारी बरसात में डट गए थे। सारे लोग शुरू से आखिर तक जमे हुए थे। इसकी लाइव कवरेज होती तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नाक कट जाती। इसलिए लाइव तो छोड़िए टीवी चैनलों ने विस्तृत रिपोर्ट तक नहीं चलाई। और इस तरह सारे चैनलों ने मिलकर प्रतापी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नाक बचा ली।

आपातकाल खत्म होने के बाद हुई प्रेस कॉनफ्रेंस में लालकृष्ण आडवाणी ने कुछ मीडिया घरानों की ओर इंगित करते हुए कहा था, “श्रीमती गांधी ने तो आपसे सिर्फ झुकने को कहा था, आप तो रेंगने लगे।” भारतीय टेलीविजन के मालिकों और संपादक संयुक्त रूप से बिना किसी घोषित आपातकाल के रेंग रहे हैं और दर्शक इसे बर्दाश्त कर रहा है। दस-पंद्रह हजार की भीड़ को अगस्त क्रांति साबित करने वाले सारे संपादकों और मालिकों को बीजेपी ने घुटने के बल ला खड़ा किया है।

सुप्रिय प्रसाद और मिलिंद खांडेकर से लेकर अर्णव गोस्वामी और दीप उपाध्याय, दीपक चौरसिया तक किसी के लिए भी डेढ़ लाख से ज्यादा लोगों का मुंबई जैसे शहर में जुटना अगर लाइव कवरेज छोड़िए, साधारण रिपोर्टिंग तक का मुद्दा नहीं है तो समझ लीजिए कि बीजेपी-संघ की बिसात पर पत्रकारिता के प्यादे काम पर लगाए जा चुके हैं। दलित आंदोलनों के असल सुपारी किलर सिर्फ सुरेंद्र नगर और झालावाड़ में नहीं हैं, वो तो टीवी चैनलों के न्यूज़ रूमों की संपादकीय स्टीयरिंग पर बैठाए जा चुके हैं। इसी सुपारी के तहत ट्रकों में भरकर मरे हुए मवेशियों को सरकारी दफ्तरों के सामने फेंके जाने के दलित प्रतिरोध को टीवी चैनलों के संपादकों और पत्रकारों ने अपनी पूरी ताकत से साथ दबा दिया।

अच्छा यह हुआ कि ट्विटर, फेसबुक और व्हाट्सएप के जमाने में चैनलों की सुपारी चालबाजी चली नहीं और बात फैल गई। दूसरी अच्छी बात यह हुई कि संसद का सत्र चल रहा है। तीसरी अच्छी बात यह हुई कि संसद में पुरजोर तरीके से दलितों के उत्पीड़न पर नरेंद्र मोदी के मूक दर्शक बने रहने का मुद्दा उठ गया। यहीं चैनलों के संपादकों को झटका लग गया। उन्हें लग रहा था कि उन्होंने मुंबई में हुई दलितों की सभा और सुरेंद्र नगर की घटनाओं का बहिष्कार करके खबर की अंत्येष्टि कर दी है लेकिन बुरा हो उन सांसदों का जिन्होंने खबरों के सुपारी किलर संपादकों से बंदर के हाथ वाला उस्तरा ही छीन लिया। जब संसद के दोनों सदनों में गुजरात के दलितों के नरक में बदल दिए जाने पर बहस चल रही थी तो सुपारी संपादकों के चेहरों पर बारह बज रहा था। खबरों को खल्लास कर देने के उनके सारे किए कराए पर संसद की कार्यवाही ने पानी फेर दिया था।

जिस दिन शाज़ी ज़मा से एबीपी न्यूज़ की संपादकी छीने जाने की ख़बर आई उसी दिन यह लग गया था कि बीजेपी सिर्फ लोकसभा में मिले बहुमत का न्यूज़ रूम तक विस्तार करेगी। आगे के अभियानों के लिए उसे हर न्यूज़ चैनल में सुधीर चौधरियों, दीपक चौरसियाओं, उमेश उपाध्यायों, राहुल कंवलों, अर्णव गोस्वामियों और अमीष देवगनों की जरूरत है। शाज़ी का प्रगतिशील होना, उस पर से मुसलमान होना, लंबे समय से बीजेपी और संघ को खल रहा था। आनंद बाज़ार पत्रिका समूह में अवीक सरकार के हाथ से असित सरकार के हाथ में आई सत्ता को सबसे पहले बीजेपी सरकार ने समझा।

टीआरपी के बहाने पहली ही फुर्सत में शाजी जमा को संपादकीय जिम्मेदारियों से बेदखल करवाया और उनकी जगह राज ठाकरे के हमदर्द मिलिंद खांडेकर को आसन करवा दिया। मिलिंद खांडेकर टीआरपी के मास्टर कभी नहीं रहे लेकिन उनकी ताजपोशी करवा के यह संदेश दे दिया गया है कि टीवी चैनलों को अब बीजेपी के क्यूरेटर चलाएंगे। टीवी के अनाड़ी राजकिशोर जैसे बीजेपी कार्यकर्ता को पॉलिटिकल एडिटर बनाया जाना इसी संदेश का हिस्सा है। यूपी के नतीजे आने तक सारे संपादकों को इसी लाइन पर चलना है, यह बात अब छिपी हुई नहीं है।

23 COMMENTS

  1. I needed to create you a very small remark in order to thank you so much as before for all the marvelous things you’ve shown on this page. This has been really particularly generous with people like you to make unreservedly just what many individuals might have marketed for an electronic book in making some profit for themselves, primarily considering that you could have done it in case you desired. The smart ideas additionally acted like a good way to fully grasp that the rest have the identical keenness just like my personal own to grasp a whole lot more when it comes to this issue. I think there are thousands of more enjoyable opportunities up front for individuals that scan through your blog post.

  2. Aw, this was a actually nice post. In concept I’d like to put in writing like this additionally – taking time and actual effort to make a very excellent article… but what can I say… I procrastinate alot and by no indicates seem to obtain some thing performed.

  3. I have been surfing online more than three hours today, yet I never found any interesting article like yours. It’s pretty worth enough for me. In my view, if all web owners and bloggers made good content as you did, the internet will be much more useful than ever before.

  4. excellent post, very informative. I wonder why the other experts of this sector do not notice this. You must continue your writing. I am sure, you’ve a huge readers’ base already!

  5. I do trust all the concepts you’ve presented on your post. They’re really convincing and will certainly work. Still, the posts are too brief for novices. Could you please prolong them a little from subsequent time? Thank you for the post.

  6. Right now it seems like Expression Engine is the best blogging platform out there right now. (from what I’ve read) Is that what you’re using on your blog?

  7. The very root of your writing while sounding reasonable at first, did not really sit well with me personally after some time. Somewhere throughout the paragraphs you were able to make me a believer unfortunately only for a while. I still have a problem with your jumps in logic and one would do well to fill in all those gaps. In the event that you actually can accomplish that, I would definitely end up being fascinated.

  8. I simply couldn’t leave your web site prior to suggesting that I actually loved the standard info an individual supply to your visitors? Is gonna be back continuously in order to inspect new posts

  9. Wonderful items from you, man. I’ve keep in mind your stuff previous to and you’re just too magnificent. I actually like what you’ve acquired right here, really like what you’re stating and the way by which you say it. You are making it entertaining and you continue to take care of to keep it wise. I can not wait to read much more from you. This is actually a wonderful web site.

  10. You have some really great posts and I believe I would be a good asset. I’d love to write some material for your blog in exchange for a link back to mine. Please shoot me an email if interested. Thanks!

  11. We’re a group of volunteers and opening a new scheme in our community. Your web site offered us with valuable information to work on. You’ve done a formidable job and our entire community will be thankful to you.

  12. A person essentially help to make seriously posts I would state. This is the first time I frequented your website page and thus far? I amazed with the research you made to make this particular publish extraordinary. Great job!

  13. Thank you for the auspicious writeup. It in fact was a amusement account it. Look advanced to far added agreeable from you! By the way, how can we communicate?

  14. wonderful points altogether, you simply gained a new reader. What would you suggest about your post that you made a few days ago? Any positive?

  15. I was just searching for this information for some time. After 6 hours of continuous Googleing, at last I got it in your site. I wonder what’s the lack of Google strategy that do not rank this type of informative websites in top of the list. Normally the top websites are full of garbage.

LEAVE A REPLY