Home टीवी मोदी ने पीठ ठोंकी पर ‘चारण’ नज़र आये IBN7 संपादक राहुल जोशी...

मोदी ने पीठ ठोंकी पर ‘चारण’ नज़र आये IBN7 संपादक राहुल जोशी !

SHARE

modi powerful 1.jpg new

Jagadishwar Chaturvedi

September 2 at 9:43pm ·

ये “ताक़तवर शख़्स ” का विशेषण पीएम के साथ जोड़कर किसे मूर्ख बना रहे हैं आईबीएन 7 वाले! जनतंत्र में पीएम के साथ यह विशेषण डिक्टेटर कहा जाएगा!

Jagadishwar Chaturvedi

September 2 at 10:21am ·

पीएम मोदी की ख़ूबी है कि उनसे कोई टफ़ सवाल नहीं पूछता! दूसरी ख़ूबी है जो सवाल पूछा जाताहै उसका वो कभी सीधे उत्तर नहीं देते तुरंत विषयान्तर कर देते हैं, आईबीएन 7 का इंटरव्यू लेने वाले जोशीजी बस टुकुर टुकुर निहारते रहे हैं! गोया वे पीएम को नहीं मॉडल को देख रहे हों ! कम से कम इंटरव्यू में राजनीतिक माहौल तो होना चाहिए!

 

ऊपर दो फ़ेसबुक टिप्पणियाँ जगदीश्वर चतुर्वेदी की हैं जो कोलकाता विश्वविद्यालय के प्रोफेसर के अलावा प्रसिद्ध मीडिया समीक्षक भी हैं। उन्होंने मीडिया जगत में आ चुके, और आ रहे परिवर्तनों पर तमाम किताबें लिखी हैं। उनकी टिप्पणियाँ यह बताने के लिए काफ़ी हैं कि 2 सितंबर को प्रसारित, नेटवर्क 18 के ग्रुप एडिटर राहुल जोशी का प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी से साक्षात्कार, किस तरह देखा गया ।राहुल जोशी 20 साल से पत्रकारिता में हैं और यह उनका पहला इंटरव्यू था। मोदी जी ने अंत में उनके इस ‘पहले’ प्रयास में झलके ‘आत्विश्वास’ के लिए उनकी पीठ ठोंकी। लेकिन बिना किसी स्पर्श के दर्शक भी जान गये कि इस साक्षात्कार के पहले ही राहुल जोशी की पीठ से रीढ़ निकालकर पीएमओ के डस्टबिन में फेंक दी गई थी। (हाँलाकि एक अंदाज़ यह भी है कि राहुल जोशी ने इकोनॉमिक टाइम्स के संपादक पद छोड़ रिलायंस के सूचना साम्राज्य के हिस्सा बनने की प्रकिया के दौरान इसे ख़ुद ही दिल्ली या मुंबई एयरपोर्ट की किसी डस्टबिन के हवाले किया होगा।) जो भी हो, इसमें शक नहीं कि पूरा इंटरव्यू चीख़-चीख़ कर कह रहा था कि पत्रकार की रीढ़ नहीं है।

आख़िर यह नतीजा क्यों निकाला गया ?

ऐसा नहीं है कि प्रधानमंत्री से साक्षात्कार के दौरान अक्खड़पन दिखाना ‘खरे पत्रकारों’ की पहचान है। लेकिन अपने समय के सवालों से आँख मूँद कर वही पूछना जिसमें सामने वाले को ‘ख़ुशी हो और प्रवचन देने का अवसर मिले, भाँड़गीरी कहलाता है। अगर यह शब्द कठोर है तो चारण भी लिखा जा सकता है। ऐसा नहीं कि यह गाली है। ”चारण” या ‘भाँड़” सिद्ध प्रतिभाओं की तरह भारतीय इतिहास का हिस्सा है, लेकिन उनका पूरा कौशल झूठ को सच बनाने में था।

नेटवर्क 18 ने इसे ‘बेबाक और सबसे बड़ा इंटरव्यू’ बताया जो देश के सबसे ‘ताक़तवर शख्स’ से लिया गया। क्या राहुल जोशी नहीं जानते कि भारतीय लोकतंत्र में सबसे ताक़तव जैसे विशेषण के लिए कोई जगह नहीं है। यह संबोधन आमतौर पर माफ़ियाओं के लिए प्रयोग किया जाता है। मोदी जी प्रधानमंत्री हैं, तमाम नियमों, कानूनों और मर्यादाओं से बँधे हुए। न कि सबसे ताक़तवर शख्स। या कि जैसा जगदीश्वर चतुर्वदी ने इशारा किया है, रिलायंस वाक़ई मोदी जी में भविष्य का डिक्टेटर देख रहा है। देश का ‘सबसे ताक़तवर शख्स’ जो सुबह अंबानी के मोबाइल नेटवर्क के लिए मॉडलिंग करे और शाम को उसी नीली-सफ़ेद पोशाक में उनके सूचना नेटवर्क को इंटरव्यू दे।

इस इंटरव्यू के लगभग हर प्रश्न के साथ राहुल जोशी ने मोदी जी कोई उपाधि ज़रूर दी। शुरूआत से ही उन्होंने ग़ज़ब प्रमाणपत्र देना शुरू कर दिया, जैसे—‘आपके आने से देश को एक ताक़तवर नेता..लौहपुरुष मिल गया’, ‘देश की आर्थिक हालत ठीक हुई’, ‘ब्लैक मनी पर क्रैकडाउन किया’, ‘हाईलेवल करप्शन कम हुआ’,  ‘किसी डायनेस्टी को नहीं छोड़ा’ ‘आपकी रैली में जाने पर चैनलों को टीआरपी मिलती है,’ ‘आप 16-18 घंटे काम करते हैं, फिर रिलैक्स कैसे करते हैं ?’ वग़ैरह..वग़ैरह..।

सवाल यह नहीं कि राहुल जोशी के प्रमाणपत्र की तमाम आँकड़ों से धज्जियाँ उड़ाई जा सकती हैं। सवाल यह है कि क्या पत्रकारों का काम किसी नेता की इस तरह आरती उतारना है। इस ’मक्खनबाज़ी’ से शायद मोदी जी को भी अपच हो गई थी, तभी उन्होंने कहा कि आप तो ‘मर्यादा’ के कारण नहीं पूछ रहे हैं लेकिन कई पत्रकार ब्लंट होकर पूछ लेते हैं कि ‘मोदी जी आपने कौन सी ग़लती की है ?’

यानी मोदी जी भी समझते हैं कि अगर राजनेता द्वारा निर्धारित ‘मर्यादा’ का अतिक्रमण न हो तो इंटरव्यू प्रामाणिक नहीं बन पाएगा। लेकिन राहुल जोशी तो जैसे अपने पहले प्रयास में ही मुकेश अंबानी की आँख के बाल हो जाना चाहते थे। उन्होंने एक भी ऐसा सवाल नहीं पूछा जो कठिन लेकिन ज़रूरी था। दलित विरोधी होने से जुड़ा सवाल भी कुछ इस अंदाज़ में पूछा गया कि यूपी चुनाव के मद्देनज़र मोदी जी को लंबा प्रवचन देने का मौका मिले।

लेकिन दलितों का सवाल क्या इतना ही है कि मोदी जी ने अंबेडकर को लेकर पंचतीर्थ बनवाये। मोदी जी के गुजरात में दलित तमाम गर्हित काम छोड़कर पाँच एकड़ ज़मीन माँगते हुए आंदोलन की एक नई ज़मीन तोड़ रहे हैं, क्या आर्थिक पत्रकार रहे राहुल जोशी इसका मतलब नहीं जानते ? क्या इस सवाल के जवाब से कोई बड़ा संदेश नही जाता। यही नहीं, हाल ही में मैगसैसे से सम्मानित बेजवाड़ा विल्सन ने कहा है कि स्वच्छ भारत अभियान में सफ़ाई कर्मियों को लेकर चिंता नहीं है। हज़ारों दलित सीवर की सफ़ाई में मारे जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मनुष्यों से मनुष्यों का मल साफ़ कराने की ऐतिहासिक ग़लती के लिए प्रधानमंत्री माफ़ी माँगें। क्या यह सवाल नहीं बनता था ?

दाल के दाम दो साल में 70 से 180 हो गये लेकिन इंटरव्यू में महंगाई से जुड़ा सवाल ही नहीं था। रोज़ागर के दावों पर भी कोई प्रतिप्रश्न नहीं। पड़ोसी देशों से बिगड़ते संबंधों को लेकर या कश्मीर की हालत पर भी कोई ठोस बात राहुल जोशी नहीं कर पाये। हाँ, मोदी जी हर सवाल के बाद आराम से लंबे-लंबे प्रवचन देते रहे और राहुल जोशी टुकुर-टुकुर ताकते रहे। न कोई टोका-टोकी और न कोई प्रतिप्रश्न। जवाब से कोई सवाल निकालकर घेरने जैसे पत्रकारीय ‘हरक़त’ का तो ख़ैर सवाल ही नहीं।

और हाँ, लुटियन दिल्ली के रास आने न आने जैसे सवाल से ज़्यादा ज़रूरी था यह पूछना कि बीजेपी अपने वादे के अनुरूप दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा क्यों नही दे रही है। हो सकता है मोदी जी नई लाइन लेते हुए कह देते कि यह संभव नहीं है। कम से कम भ्रम तो ख़त्म होता। पर यह इंटरव्यू भ्रम ख़त्म करने के लिए था भी कहाँ, वह तो नए भ्रमों के निर्माण के लिए था।

जहाँ तक शैली वगैरह का सवाल है तो ‘जीवन का यह पहला टीवी इंटरव्यू” रहुल जोशी न ही करते तो बेहतर होता। ऐसा लग रहा था कि कोई स्कूली बच्चा सवाल रट कर बैठा हो और डरते-डरते उन्हें उगल दे रहा हो। संभव हो कि पीएमओ ने सवाल पहले ही माँग लिए हों, लेकिन टीवी पर साक्षात्कार लेते वक़्त थोड़े ‘अंदाज़’ की भी ज़रूरत होती है ताकि बात प्रामाणिक लगे। राहुल जोशी को आईबीएन7 के डिप्टी मैनेजिंग एडिटर सुमित अवस्थी की काबिलियत पर यक़ीन नहीं था तो किशोर आजवानी को भेज सकते थे जिनको एबीपी न्यूज़ से वे ख़ुद लेकर आये हैं और जो अच्छे परफ़ार्मर माने जाते हैं। या फिर भूपेंद्र चौबे, जो अंग्रेज़ी और हिंदी दोनों में बेहतर हैं।

कहीं ऐसा तो नहीं कि अपने ‘कच्चेपन’ के बावजूद राहुल जोशी ने ‘डेमो’ देने के लिए ख़ुद इंटरव्यू लिया ताकि बताया जा सके कि रिलायंस में रहते हुए कैसी पत्रकारिता करनी होगी।

जो भी हो, ‘अहो रूपम्-अहो ध्वनि’ वाला यह इंटरव्यू लंबे समय तक याद किया जाएगा।

modi ibn7 new (1)

 

24 COMMENTS

  1. Hi! This is kind of off topic but I need some help from an established blog. Is it difficult to set up your own blog? I’m not very techincal but I can figure things out pretty quick. I’m thinking about setting up my own but I’m not sure where to start. Do you have any tips or suggestions? With thanks

  2. Undeniably believe that which you stated. Your favorite justification seemed to be on the internet the simplest thing to be aware of. I say to you, I certainly get irked while people consider worries that they plainly do not know about. You managed to hit the nail upon the top and also defined out the whole thing without having side-effects , people can take a signal. Will probably be back to get more. Thanks

  3. hi!,I really like your writing very much! share we be in contact more about your post on AOL? I require a specialist on this house to unravel my problem. May be that is you! Taking a look forward to look you.

  4. Excellent beat ! I wish to apprentice even as you amend your website, how could i subscribe for a blog site? The account helped me a applicable deal. I were a little bit acquainted of this your broadcast provided vibrant clear concept

  5. I loved as much as you’ll receive carried out right here. The sketch is tasteful, your authored subject matter stylish. nonetheless, you command get got an impatience over that you wish be delivering the following. unwell unquestionably come more formerly again as exactly the same nearly a lot often inside case you shield this hike.

  6. Hey there just wanted to give you a quick heads up and let you know a few of the pictures aren’t loading properly. I’m not sure why but I think its a linking issue. I’ve tried it in two different internet browsers and both show the same results.

  7. Nice weblog right here! Additionally your web site quite a bit up very fast! What web host are you using? Can I am getting your affiliate link for your host? I desire my website loaded up as quickly as yours lol

  8. I just want to tell you that I’m new to blogs and actually liked your blog site. Likely I’m going to bookmark your blog post . You definitely have excellent articles. Many thanks for sharing with us your blog.

  9. Thank you for another informative site. Where else could I get that type of information written in such an ideal way? I have a project that I am just now working on, and I’ve been on the look out for such info.

  10. I don’t know if it’s just me or if perhaps everyone else experiencing problems with your blog. It looks like some of the written text within your posts are running off the screen. Can someone else please comment and let me know if this is happening to them as well? This might be a problem with my browser because I’ve had this happen before. Kudos

  11. I was just looking for this info for a while. After 6 hours of continuous Googleing, finally I got it in your site. I wonder what’s the lack of Google strategy that don’t rank this type of informative sites in top of the list. Normally the top websites are full of garbage.

  12. Attractive portion of content. I just stumbled upon your website and in accession capital to claim that I get actually enjoyed account your weblog posts. Anyway I’ll be subscribing for your feeds and even I success you get entry to consistently quickly.

  13. Hello, Neat post. There is an issue along with your website in internet explorer, could test this… IE still is the marketplace chief and a good portion of other people will omit your great writing because of this problem.

  14. Howdy I am so delighted I found your blog, I really found you by error, while I was researching on Bing for something else, Anyways I am here now and would just like to say thank you for a remarkable post and a all round interesting blog (I also love the theme/design), I donít have time to look over it all at the minute but I have book-marked it and also included your RSS feeds, so when I have time I will be back to read much more, Please do keep up the awesome work.

  15. Magnificent goods from you, man. I have be aware your stuff prior to and you are just too great. I actually like what you’ve received right here, certainly like what you are stating and the best way during which you assert it. You’re making it entertaining and you continue to take care of to keep it wise. I cant wait to read much more from you. That is really a wonderful site.

  16. We’re a group of volunteers and starting a new scheme in our community. Your website provided us with useful information to work on. You’ve performed a formidable process and our entire neighborhood can be grateful to you.

  17. Admiring the hard work you put into your site and detailed information you provide. It’s good to come across a blog every once in a while that isn’t the same old rehashed information. Fantastic read! I’ve bookmarked your site and I’m adding your RSS feeds to my Google account.

  18. The very crux of your writing whilst sounding agreeable initially, did not really settle very well with me after some time. Somewhere throughout the sentences you were able to make me a believer unfortunately only for a short while. I nevertheless have a problem with your leaps in logic and one would do nicely to help fill in those breaks. If you actually can accomplish that, I would certainly end up being fascinated.

LEAVE A REPLY