Home ख़बर UPPSC पर्चा लीक के विरोध में गरमाया इलाहाबाद और बनारस, ‘योगी मुर्दाबाद’...

UPPSC पर्चा लीक के विरोध में गरमाया इलाहाबाद और बनारस, ‘योगी मुर्दाबाद’ के नारे

SHARE

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की एलटी ग्रेड भर्ती में पेपर लीक और भ्रष्टाचार के विरोध में इलाहाबाद शुरू हुआ हजारों छात्रों का विरोध प्रदर्शन आज 1 जून को नरेंद्र मोदी की संसदीय सीट बनारस पहुँच गया.

आज बनारस में उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग और मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के खिलाफ़ जुलूस निकला जिसमें छात्रों ने जमकर नारेबाजी की. छात्रों ने बीएचयू के सिंहद्वार से एक विरोध मार्च निकाला और ‘योगी सरकार मुर्दाबाद’, ‘मुख्यमंत्री इस्तीफा दो’,’ बीजेपी सरकार हाय हाय’, बाबा जी हाय हाय जैसे नारे लगाये.

पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आज बीएचयू के छात्रों व बनारस के नागरिक समाज से जुड़े लोगों का एक समूह अपने सिंहद्वार पर शाम 5 बजे जुटना शुरू हुआ, छात्रों का समूह अपने हाथों में तख्तियां लिए हुये था जिस पर ‘चिलम सेवा आयोग’, ‘छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ बंद करो’, ‘भ्रष्टाचार का अड्डा UPPSC’, ‘पचास हजार-एक एसडीएम’, ‘चालीस लाख-एक डिप्टी एसपी’, ‘योगी सरकार इस्तीफा दो’, ‘यूपी लोक सेवा आयोग की एसआईटी जांच कराओ’ जैसे वाक्य लिखे हुए थे. छात्रों का जुलूस बीएचयू गेट से निकलकर रविदास गेट होते हुए पुनः बीएचयू गेट पर आकर रुका, जहां पर छात्रों ने मुख्यमंत्री व यूपी लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष का सयुंक्त पुतला फूंका.

इसके बाद छात्रों, छात्र नेताओं व नागरिक समाज के लोगों ने सभा को सम्बोधित किया. छात्रों की सभा को संजीव सिंह, विकास सिंह समेत कई लोगों ने सम्बोधित किया. सभा को विनय शंकर राय मुन्ना ने सम्बोधित करते हुए इसी मुद्दे पर भारत माता मंदिर पर दिनांक 3 जून को छात्र महापंचायत और मशाल जुलूस में भी शामिल होने अपील की.

इस विरोध मॉर्च में मुख्य रूप से धनन्जय त्रिपाठी, रामायण पटेल, तृथि, निर्भय, रजत, दीपक,अविनाश, शुभम, रोशन, अभिनव, आयुष, रोहित, विकास आनन्द, सुलेमान, गंगेश, आलोक, शैलेन, सचिन समेत सैकड़ो छात्र मौजूद थे. ख़बर है कि इस मामले के विरोध में दिल्ली में भी छात्रों का समूह विरोध प्रदर्शन पर बैठे हैं.

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की एलटी ग्रेड भर्ती में पेपर लीक और भ्रष्टाचार के विरोध में सैकड़ों छात्रों ने शुक्रवार को इलाहाबाद में आयोग के सामने प्रदर्शन शुरू किया था जहाँ उन पर पुलिस ने लाठी चार्ज किया था. जिसके बाद यह आन्दोलन और तेज हो गया.

छात्रों ने कहा कि मामले में गिरफ्तार आयोग की परीक्षा नियंत्रक अंजू कटियार एक मोहरा हैं जबकि भ्रष्टाचार में सरकार के उच्च अधिकारी लिप्त हैं. छात्रों ने आयोग की दोबारा सीबीआई से जांच सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायधीश की निगरानी में कराने की मांग की. कहा कि पीसीएस 2017, आरओ/एआरओ 2016 एवं 20117 की जांच हो. एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती को निरस्त करते हुए पुन: परीक्षा कराई जाए.

ख़बरों के अनुसार,उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग में व्याप्त भ्रष्टाचार के मामले में बनारस के चोलापुर निवासी और कलकत्ता में प्रिटिंग प्रेस के मालिक कौशिक पांडेय, यूपी पीएससी की परीक्षा नियन्ता अंजुलता कटियार और जगदीश तिवारी की भूमिका सामने आ रही है, और यह मामला सामने आने के बाद एसडीएम, डिप्टी एसपी, के पदों की खुलेआम सीधे सीधे खरीद फरोख्त का मामला सामने आया है.

वहीं एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती पेपर लीक प्रकरण से विवादों में घिरे उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने गुरुवार, 30 मई को एक बड़ा कदम उठाते हुए पीसीएस-2018 मेंस की परीक्षाओं को स्थगित कर दिया है. ये परीक्षाएं 17 से 21 जून तक होनी थीं. परीक्षाएं क्यों टाली गईं, फिलहाल आयोग के पास इसका कोई जवाब नहीं है.

एक तरफ बीजेपी की नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में प्रचण्ड बहुमत के साथ सरकार केंद्र में मंत्रिमंडल की शपथ ले रही है और उसका जश्न बनारस, लखनऊ और दिल्ली जैसे शहरों में मनाया जा रहा है तो दूसरी तरफ बनारस इलाहाबाद समेत दिल्ली में छात्रों का एक बड़ा समूह उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग में व्याप्त भ्रष्टाचार के मामले को लेकर सड़कों पर हैं.