Home प्रदेश बिहार ‘बिहार के लेनिन’ की जयन्‍ती पर क्‍या उपेंद्र कुशवाहा की हत्‍या की...

‘बिहार के लेनिन’ की जयन्‍ती पर क्‍या उपेंद्र कुशवाहा की हत्‍या की साजिश रची गई?

SHARE

क्‍या शिक्षा सुधार से जुड़ी मांग करने के एवज में लाठी बरसायी जानी चाहिए? क्‍या शिक्षा सुधार की मांग एक लोकतंत्र में नाजायज़ है? ऐसा लगता है कि बिहार में नीतीश कुमार की सरकार ऐसा ही मानती है। शायद इसीलिए आज जब राष्‍ट्रीय लोक समता पार्टी (आरएलएसपी) के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने शिक्षा सुधार की माग को लेकर आक्रोश रैली निकाली तो उनके ऊपर बिहार पुलिस ने कातिलाना हमला कर दिया। पार्टी के वरिष्‍ठ नेता जितेंद्र नाथ का मानना है कि ‘बिहार के लेनिन’ बाबू जगदेव प्रसाद की जयन्‍ती के मौके पर आज प्रदेश सरकार ने कुशवाहा की हत्‍या करने की योजना रची थी।  

इस हमले में उपेंद्र कुशवाहा बुरी तरह घायल हुए हैं। उनके हाथ और पैर फट गए हैं। उनके सिर में गहरी चोट आई है और खबर लिखे जाने तक कुशवाहा आइसीयू में हैं। उनके साथ पार्टी के प्रदेश अध्‍यक्ष को भी गहरी चोटें आई हैं।

कुशवाहा और घायल पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ पटना के अस्‍पताल में मौजूद रालोसपा के बिहार प्रदेश उपाध्‍यक्ष जितेंद्र नाथ ने फोन पर मीडियाविजिल को बताया, ‘’जिस तरीके से मारा गया है, ऐसा लगता है कि आज अध्‍यक्षजी की हत्‍या की सुनियोजित साजिश रची गई थी। पहले उनके सिर पर हमला किया गया, फिर उन्‍हें बचाने के लिए जब प्रदेश अध्‍यक्ष और युवा इकाई के प्रदेश अध्‍यक्ष आए तो उन्‍हें भी बीसेक लाठियां पड़ीं।‘’

खबर लिखे जाने के वक्‍त नाथ राज्‍यपाल के पास प्रदेश सरकार को बरखास्‍त करने की अर्जी देने जा रहे थे। उन्‍होंने बताया कि आज की घटना के विरोध में 4 फरवरी सभी दलों ने बिहार बंद का आह्वान किया है।

गौरतलब है कि रालोसपा की 25 सूत्री मांग को बिहार में एक करोड़ से अधिक लोगों का हस्ताक्षरित समर्थन मिला है जिसे आज राज्यपाल को सौंपने के लिए कुशवाहा ने पटना में आक्रोश रैली का आयोजन किया था। इस रैली पर पुलिस का कहर बरपा और बेतरह लाठियां भांजी गईं जिससे कई कार्यकर्ता बुरी तरह घायल हो गए।

ध्‍यान रहे कि इतवार को पटना में राहुल गांधी की एक रैली है। क्‍या नीतीश कुमार आज के हमले से कांग्रेस को कोई संदेश देना चाह रहे थे? कांग्रेस के एक नेता का कहना है कि राहुल गांधी की रैली से ठीक एक दिन पहले कांग्रेस के गठबंधन सहयोगी रालोसपा के अध्‍यक्ष पर जानलेवा हमला इस बात कर साफ संकेत है कि बिहार का शासन आपराधिक तत्‍वों की सलाह से संचालित हो रहा है।

1 COMMENT

  1. Awadhesh Kumar Singh

    Ye to bahut galat hai, Azad Hindustan me apni baat ko rakahan aur uske liye awaz uthana kya galat hai, ye to लोकतंत्र का गला घोंटने जैसा है, नीतीश सरकार में काम से काम ऐसी उम्मीद नहीं थी, ये तो सरासर अन्याय है, सारे पार्टी वालो को इसके खिलाफ एकजुट ऑना चाहिए , मै इसका निरोध करता हूं,

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.