Home समाज लॉकडाउन में श्रमिक: वर्किंग पीपल्स चार्टर की सिफारिशें और वित्तमंत्री के नाम...

लॉकडाउन में श्रमिक: वर्किंग पीपल्स चार्टर की सिफारिशें और वित्तमंत्री के नाम पूर्व सचिव का पत्र

दिहाड़ी मजदूरों और अन्य असंगठित मजदूरों की समस्याएं उससे बहुत ज़्यादा जटिल हैं जैसी का दिखाने की कोशिश की जा रही है। केंद्र उन समस्याओं को अकेले दम पर पर हल नहीं कर सकता है। इसे उन प्रयासों से कोऑर्डिनेट करने की ज़रूरत है जिसे राज्य ज़्यादा व्यापक तरीके से कर रहे हैं। कई स्थानीय एनजीओ असंगठित श्रमिकों के साथ मिलकर काम करने में शामिल हैं और उनके इनपुट मांगे जाने चाहिए। केरल जैसे राज्यों में कई प्रगतिशील उपाय किए जा रहे हैं। केंद्र को न केवल उनके लिए मदद का हाथ बढ़ाना चाहिए, बल्कि अन्य राज्यों को अपने क्षेत्रों में असंगठित श्रमिकों के बचाव में जाने में भी मदद करनी चाहिए।

SHARE

COVID-19 महामारी से जूझते अपने मुल्क़ की अवाम को संबोधित करते हुए सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सीन लुंग ने कोविड-19 के चिकित्सकीय, आर्थिकी और मनोवैज्ञानिक पहलुओं पर बात की थी और समाज के हर वर्ग- कामगार से लेकर कंपनी मालिक तक के हितों को उन्होंने रेखांकित करते हुए जीडीपी की एक बड़ी राशि इस महामारी से निपटने के लिए आवंटित की। भारत भी इस महामारी से जूझ रहा है लेकिन भारत की स्थिति बिल्कुल अलग है। यहां की सरकार ताली, थाली और लॉकडाउन से ही COVID-19 से निपट लेने का दम भरे बैठी है।

भंगुर अर्थव्यवस्था और कमजोर स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ, पूर्ण सामाजिक, आर्थिक और भौतिक रूप से टूटे बिना वर्तमान कोरोना वायरस महामारी से लड़ना है तो उसके लिए कठोर, उग्र सुधारवादी और- सबसे महत्वपूर्ण- सामयिक साधनों की आवश्यकता होगी जो क्राइसिस के पैमाने के अनुरूप हों। इन उपायों से हमारे लोगों की सुरक्षा प्रदान करना चाहिए, विशेषकर सबसे कमजोर वर्ग- बुजुर्गों, बीमारों और गरीबों- और सबसे महत्वपूर्ण– भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ यानी अनौपचारिक श्रमिकों को।

इस संदर्भ में वर्किंग पीपल्स चार्टर के निर्मल गोराना और चंदन कुमार ने कुछ अहम पहलुओं को रेखांकित किया है। लॉकडाउन और कोविड-19 महामारी से होने वाली आर्थिक, सामाजिक और भौतिक पहलुओं पर पड़ने वाले दुष्प्रभावों के मद्देनज़र श्रमिक वर्ग को सामाजिक और आर्थिक सुरक्षा प्रदान करने के लिए इन्होंने कुछ ज़रूरी सुझाव दिए हैं जो इस प्रकार हैं-

  • हम अनिर्णय के साथ कार्य करने या अपनी कल्पना को सीमित करने का जोखिम नहीं उठा सकते। वर्षों से हमारे द्वारा पालन की गई सभी पुरानी निश्चितताओं और विश्वासों को प्रश्न में रखा जा रहा है। स्पेन जैसे देशों ने रातों-रात सभी स्वास्थ्य सुविधाओं का राष्ट्रीयकरण कर दिया है और यहां तक ​​कि अमेरिका जैसी पूंजीवादी अर्थव्यवस्थाएं भी इस संकट में लोगों का समर्थन करने के लिए सार्वभौमिक बुनियादी आय को बढ़ाने की बात कर रही हैं। हमें भी प्रतीक्षा नहीं करनी चाहिए, पुराने तरीकों और सोच के पुराने ढाँचों से नहीं घबराना चाहिए, और बहुत देर होने से पहले तेजी से और निर्णायक रूप से कार्य करना चाहिए।
  • हम, सभी क्षेत्रों के ट्रेड यूनियनों और श्रमिक संगठनों के प्रतिनिधियों (औपचारिक, अनौपचारिक, स्व-नियोजित सहित) को आगामी आर्थिक और सामाजिक चुनौतियों का सामना करने और घरेलू जैसे अनौपचारिक क्षेत्र के श्रमिकों पर COVID-19 महामारी के कठोर परिणामों को दूर करने के लिए चिंतित हैं। इनमें सभी श्रमिकों, दैनिक मजदूरी श्रमिकों, निर्माण श्रमिकों, ईंट बनाने वाले श्रमिकों, मैनुअल मैला ढोने वाले श्रमिकों, मनोरंजन उद्योग श्रमिकों (जैसे बार्डर्स एट अल।), सड़क विक्रेताओं, ऑटो रिक्शा श्रमिकों, ऑटो माल वाहक श्रमिकों, सेवा उद्योग श्रमिकों विशेष रूप से खाद्य और अस्पताल क्षेत्र, रेस्तरां कर्मी गिग इकोनॉमी वर्कर्स जैसे डिलीवरी बॉय, ओला और उबर ड्राइवर, कूड़ा बीनने वाले वर्कर, होम बेस्ड वर्कर आदि शामिल हैं।
  • केंद्र सरकार को राज्यों को सबसे मजबूत आपातकालीन पैकेज बनाने में सहायता करनी चाहिए। COVID-19 महामारी से निपटने के लिए ‘समर्पित कार्य बल’ बनाने की केंद्र सरकार की घोषणा भारत के नागरिकों की आर्थिक चिंताओं और कमजोरियों को दूर करने के लिए एक स्वागत योग्य है। डब्ल्यूपीसी की ओर से, हम निम्नलिखित मुख्य सिफारिश करते हैं:

    केंद्र सरकार के टास्क फोर्स को 50,000 करोड़ रुपए इमरजेंसी वर्कर्स वेलफेयर फंड, जो राज्य राहत पैकेजों को जोड़ सकते हैं और पूरक कर सकते हैं और सीमित वित्तीय क्षमता वाले राज्यों को केंद्रीय सहायता पर भरोसा कर सकते हैं। इस फंड का उपयोग कैसे किया जाना चाहिए? राज्य और केंद्र दोनों स्तरों पर आपातकालीन पैकेजों को श्रमिकों के लिए राहत के विभिन्न रूपों को एक साथ लाना होगा। इस फंड को सुरक्षात्मक और निवारात्मक दोनो होना चाहिए, जो श्रमिकों के साथ-साथ आर्थिक झटके के अगले चरण को रोकने के लिए एक मजबूत नींव बनाने में कारगर हो। इसका उपयोग श्रमिकों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष सहयोग दोनों के लिए किया जा सकता है।

    हम नीचे दिए गए सुरक्षात्मक और निवारक उपायों को विस्तार से बताते हैं।

    सुरक्षात्मक उपाय: नकद और गैर-नकद हस्तांतरण

  • बीपीएल और एपीएल कार्ड धारक श्रमिकों को विशेष पीडीएस पैकेज, जो कम से कम 3 महीने तक उनकी खाद्य आवश्यकताओं को बनाए रख सकते हैं। इसे अन्य राज्य फीडिंग संस्थानों (सरकारी कैंटीन या फीडिंग सेंटर), या गैर-राज्य अभिनेताओं द्वारा स्थानीय रूप से उत्पादित और वितरित साधनों के सब्सिडी के माध्यम से भी पूरक किया जा सकता है।
  • BPL और APL कार्ड धारक सभी श्रमिकों को 10,000 या एक महीने की न्यूनतम मजदूरी ‘तत्काल नकद हस्तांतरण’ की जानी चाहिए।
  • मनरेगा और कृषि श्रमिकों में नामांकित श्रमिकों को न्यूनतम मजदूरी का 50 दिनों के लिए अग्रिम भुगतान हो, साथ ही रु .10,000 या एक महीने की न्यूनतम मजदूरी मिलनी चाहिए।
  • निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड कार्ड धारक श्रमिकों को 10,000 रुपये या एक महीने की न्यूनतम मजदूरी दी जानी चाहिए।
  • विक्रय के लिए नगरपालिका संस्थाओं लाइसेंस प्राप्त स्ट्रीट वेंडर्स, दुकानों और प्रतिष्ठान अधिनियम के तहत पंजीकृत,सर्वेक्षण , चालान हुए या FSSAI द्वारा प्रशिक्षित लोगों को एक महीने के लिए 10,000 या न्यूनतम मजदूरी दी जानी चाहिए।
  • दिहाड़ी मजदूर / प्रवासी कामगार, घरेलू कामगार, कूड़ा उठाने वाले कामगारों, किसी भी श्रमिक संगठन जैसे ट्रेड यूनियन, वर्कर कलेक्टिव या सीएसओ आदि के कार्ड धारकों को एक महीने के लिए 10,000 रुपए या न्यूनतम मजदूरी दी जानी चाहिए।
  • ड्राइविंग लाइसेंस धारक ऑटो रिक्शा और टेम्पो माल वाहक श्रमिकों को एक महीने के लिए 10,000 या न्यूनतम मजदूरी दी जानी चाहिए।
  • नकदी के साथ-साथ, सभी श्रमिकों को आवश्यकतानुसार सुरक्षा सामग्री भी प्रदान किए जाने चाहिए। बचाव के साधनो: बुनियादी ज़रूरतों और सार्वजनिक वस्तुओं / सेवाओं को सुनिश्चित किया जाए।
  • किरायेदारों के निष्कासन और गिरवी भुगतानो की उसूली समेत घरों को खाली करवाने पर रोक लगाई जाए।
  • लघु और मध्यम उद्यमों में कर्मचारियों की संख्या में कटौती पर प्रतिबंध लगे, साथ ही मालिकों फर्म आपूर्ति जारी रखने और विक्रेता अनुबंधों को जारी रखने के शर्त के साथ घाटे को कवर करने के लिए पेरोल देकर उनका सहयोग किया जाए।
  • सभी मूल्य वृद्धि पर प्रतिबंध लगाएं और रसोई सिलेंडर पर हाल की मूल्य वृद्धि को वापस लिया जाए।
  • बड़ी संख्या में स्वास्थ्य कार्यकर्ता / योजनाकार / मानद कार्यकर्ता मानदेय प्राप्त कर रहे हैं, हालांकि उनका स्वास्थ्य उच्च जोखिम में रहेगा। जोखिम के मद्देनज़र 10 लाख रुपये की अनुग्रह राशि और पूरे चिकित्सा व्यय की प्रतिपूर्ति की जाए।
  • अनौपचारिक / प्रवासी बस्तियों में प्रवासी आबादी पर ध्यान केंद्रित करते हुए सायंकालीन क्लीनिक और अस्थायी स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे के प्रत्यक्ष प्रावधान को एक आपातकालीन रिसपांस के रूप में उपलब्ध कराया जाना चाहिए।
  • थर्ड पार्टी कॉन्ट्रैक्चुअल काम में शामिल सफाईकर्मियों को संगठित क्षेत्र के कामगारों के साथ समान काम के लिए समान वेतन, ईपीएफओ, ईएसआईसी आदि के साथ वैधानिक अधिकार प्रदान किए जाने चाहिए।
  • यदि प्रभावित मजदूर अपने गृह राज्यों में वापस जाना चाहते हैं, तो प्रवासी मजदूरों को गरिमापूर्ण परिवहन सुनिश्चित करने के लिए विशेष रेलगाड़ियाँ प्रदान की जानी चाहिए।
  • मलिन बस्तियों और अनौपचारिक बस्तियों में रहने वाले मजदूरों को सुरक्षित करने के लिए कार्रवाई की जानी चाहिए। स्लम वासी, उनमें से अधिकांश श्रमिक वर्ग, खराब सफाई व्यवस्था, पानी की कमी और सीवेज के नजदीक उच्च घनत्व वाले इलाकों में रहते हैं। ये मौत का जाल बन सकते हैं और कोरोनोवायरस के विस्तार के लिए फ़्लैश बिंदु। सभी कम आय वाली बस्तियों में होने वाली सभी बेदखली, विध्वंस को तत्काल रोककर इनका तत्काल नियमितीकरण और मालिकाना हक़ दिया जाना चाहिए। मलिन बस्तियों और कम आय वाले इलाकों में स्वच्छता और स्वच्छ पानी के प्रावधान को सुनिश्चित करने के लिए भी तत्काल उपाय किए जाने चाहिए।
  • कामगार और मध्यम आय वर्ग के परिवारों के लिए कम से कम दो महीने की अवधि के लिए यूटिलिटी बिल भुगतान का निलंबित किया जाना चाहिए। गरीब उपभोक्ताओं को नुकसान पहुँचाए बिना इस अवधि में निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए उच्च और मध्यम आय समूहों के लिए इनर्जी एग्रीमेंट में संशोधन किया जाए।
  • सभी आवश्यक वस्तुओं, विशेष रूप से दवाई,खाना, सैनिटाइज़र, मास्क और चिकित्सा उपकरणों के मूल्य निर्धारण और विमुद्रीकरण के खिलाफ सुरक्षा के लिए तत्काल उपाय किए जाने चाहिए। आवश्यक वस्तुओं की एक समय में लोगो द्वारा खरीददारी करने की संख्या पर प्रतिबंध लागाया जाना चाहिए।
  • लक्जरी वस्तुओं और भूमि करों पर जीएसटी दर बढ़ाकर केंद्रीय और राज्य भंडार पर पड़ने वाले भार को कम किया जाए।
  • SMEs और अन्य व्यवसायों के विस्तार के लिए सस्ते ऋण को सुनिश्चित करने के लिए राष्ट्रीयकृत और निजी बैंकों को उदार ऋणदाता साधन बनाना चाहिए ताकि वे संकट की अवधि से बच सकें।
  • सोसल डिस्टेंसिंग और सेल्फ आइसोलेशन के चलते होने वाली घरेलू हिंसा और अन्य हिंसा से संबंधित मामलों की दलीलों को सुनने के लिए विशेष और फास्ट ट्रैक अदालतें बनाई जानी चाहिए।
  • निजी और सार्वजनिक दोनों स्थानों पर महिलाओं और बाल सुरक्षा के लिए एक राष्ट्रीय आपातकालीन हेल्पलाइन नंबर बनाएं। बिना सबूत का बोझ डाले पीड़ित को तत्काल निराकरण के लिए एक प्रोटोकॉल बनाएं।

वित्तमंत्री के नाम ईएएस सरमा का पत्र

लॉकडाउन से मजदूरों के सामने पैदा हुए संकट पर अपनी चिंता जाहिर करते हुए भारत सरकार के पूर्व सचिव ईएएस सरमा ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन के नाम एक खुला पत्र लिखा है।

उसमें उन्होंने सरकार द्वारा खातों में नकद हस्तांतरण को अपर्याप्त बताते हुए कहा है कि वंचित परिवारों में से कई के पास जन धन बैंक खाते नहीं हो सकते हैं, जिनमें नकदी आसानी से हस्तांतरित की जा सकती है। उनमें से कई के पास अपनी पहचान साबित करने के लिए कोई दस्तावेज नहीं है। नकदी से अधिक, उन्हें देखभाल की आवश्यकता है।

दिहाड़ी मजदूरों और अन्य असंगठित मजदूरों की समस्याएं उससे बहुत ज़्यादा जटिल हैं जैसी का दिखाने की कोशिश की जा रही है। केंद्र उन समस्याओं को अकेले दम पर पर हल नहीं कर सकता है। इसे उन प्रयासों से कोऑर्डिनेट करने की ज़रूरत है जिसे राज्य ज़्यादा व्यापक तरीके से कर रहे हैं। कई स्थानीय एनजीओ असंगठित श्रमिकों के साथ मिलकर काम करने में शामिल हैं और उनके इनपुट मांगे जाने चाहिए। केरल जैसे राज्यों में कई प्रगतिशील उपाय किए जा रहे हैं। केंद्र को न केवल उनके लिए मदद का हाथ बढ़ाना चाहिए, बल्कि अन्य राज्यों को अपने क्षेत्रों में असंगठित श्रमिकों के बचाव में जाने में भी मदद करनी चाहिए।

प्रवासी श्रमिकों की समस्याएं जटिल हैं और वे केंद्र और राज्यों से समन्वित प्रयास की मांग करते हैं। मात्र पैकेज और नकद रिलीज विस्थापित प्रवासी श्रमिकों को कोई सांत्वना देने वाले नहीं हैं और न ही उनकी समस्याओं का समाधान करेंगे। अधिकांश प्रवासी श्रमिकों की स्थिति बंधुआ मजदूरी की है। उनके जीवित रहने के लिए उन्हें मुश्किल से मज़दूरी मिलती है। अधिकांश प्रवासियों को श्रम कानूनों के तहत पंजीकृत नहीं किया गया है जो उन्हें सामाजिक सुरक्षा कवर प्रदान करने के लिए हैं। आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में ईंट भट्टों में काम करने वाले प्रवासी परिवार हैं जो उप-मानवीय परिस्थितियों में काम करते हैं। उनकी महिलाएं उत्पीड़न की शिकार हैं और बच्चों की शिक्षा तक कोई पहुंच नहीं है। जबकि उन चिंताओं को उचित समय में संबोधित करना होगा, वर्तमान व्यावसायिक विस्थापन के संदर्भ में उन्हें मानवीय उपचार चाहिए- पुलिस, आश्रय, भोजन, चिकित्सा सहायता, देखभाल और रसद सहयोग के रूप में।

24 तारीख को राष्ट्रीय स्तर पर लगाए गए लॉकडाउन और उससे पहले राज्यों द्वारा लगाए गए लॉकडाउन ने केरल, गोवा, महाराष्ट्र, गुजरात, पंजाब आदि में लाखों प्रवासी कामगारों को रोजगार से बाहर निकाल दिया है, जिससे उन्हें वापस लौटने के लिए मजबूर होना पड़ा। उत्तर प्रदेश आंध्र प्रदेश, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड और छत्तीसगढ़ के मूल गांव। हालांकि उनमें से कईयों ने खुद को खचाखच भरी ट्रेनों / बसों में झोंक दिया थे, जबकि अन्य लोगों के पास पूरे रास्ते पैदल जाने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं है।

जो ट्रेनें ट्रेनों में चढ़ गए थे, वे बीच के स्टेशनों पर फंसे हुए हैं, क्योंकि रेलवे ने कई ट्रेनों को बीच में ही रद्द कर दिया है। यह स्थानीय राज्य प्राधिकरण और स्थानीय गैर सरकारी संगठन हैं जिन्होंने उन्हें आश्रय, भोजन, चिकित्सा सहायता प्रदान करने का काम में जुटे हुए हैं जिनकी अपने पैतृक गाँवों के लिए प्रस्थान स्थगित है।

उदाहरण के लिए, ऐसे सैकड़ों प्रवासी श्रमिक हैं जो ओडिशा के लिए आगे बढ़ रहे हैं लेकिन विशाखापत्तनम में फंसे हुए हैं। असहाय महसूस करते हुए, वे शहर के फ्लाई-ओवरों के नीचे बैठते हैं। हम उनके लिए एक अस्थायी आश्रय स्थापित करने और उन्हें राहत प्रदान करने की कोशिश कर रहे हैं, जब तक कि वे अपने संबंधित गंतव्य के लिए नहीं निकल जाते। उन्हें चिकित्सा की आवश्यकता है। स्थानीय अधिकारी भोजन प्रदान कर रहे हैं, लेकिन रेलवे को उन्हें अपने गंतव्य तक ले जाने के लिए जल्द ही विशेष रेलगाड़ियाँ चलानी पड़ सकती हैं।

वे प्रवासी श्रमिक जिन्होंने गुजरात, पंजाब, दिल्ली आदि कई शहरों से अपने दूर-दराज के गाँवों के लिए पैदल ही जाना शुरू कर दिया है, उन्हें परेशान किया जाता है और पुलिस द्वारा हर स्तर पर हर तरह के आक्रोश का सामना करना पड़ता है, सरकार द्वार थोपे गए लॉकडाउन प्रतिबंधों का उल्लंघन करने के आरोप में। उनमें से कई अंतर-राज्यीय सीमाओं पर बंद हो रहे हैं, एक बार फिर लॉकडाउन प्रतिबंधों के नाम पर।


प्रस्तुतिः सुशील मानव 

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.